जिग्नेश मेवाणी ने हमले के पीछे बताया बीजेपी की साजिश, बोले- डरने वालों में से नहीं हूं

बनासकांठा। गुजरात के बनासकांठा जिले के वडगाम सीट से निर्दल चुनावी मैदान में उतरे दलित नेता जिग्नेश मेवाणी पर बीती रात कुछ अज्ञात लोगों ने हमला किया है। इस बात की जानकारी जिग्नेश ने अपने ट्विटर हैंडल से दिया। आरोप है कि कुछ लोग अचानक आकर काफिले की गाड़ियों पर पत्थर फेंकने लगे जिसमें काफिले की गाड़ियों के काँच टूट गए। अज्ञात हमलावर हमला कर मौके से नौ दो ग्यारह हो गए। मेवाणी ने इस हमले के पीछे बीजेपी की साजिश बताई है। इस हमले के बाद जिग्नेश ने अपनी जान को खतरा बताया है लेकिन हैरानी की बात यह है कि उन्होंने कोई एफ़आईआर दर्ज नहीं कराई।

हमले के बाद जिग्नेश ने कुछ फोटोज ट्विटर हैंडल पर शेयर करते हुए लिखा, “दोस्तों… आज मुझ पर बीजेपी के लोगों ने तकरवाड़ा गांव में अटैक किया। बीजेपी भयभीत हो गई है, इसलिए ऐसी हरकत कर रही है, लेकिन मैं तो एक आंदोलनकारी हूं, न डरूंगा न तो झुकूंगा पर बीजेपी को तो हराऊंगा ही।” बता दें कि जिग्नेश बनासकांठा जिले के वडगांव-11 सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं। कांग्रेस ने उनके खिलाफ कैंडिडेट नहीं उतारा है।

{ यह भी पढ़ें:- पीएम मोदी का सवाल- गुजरात चुनाव में पाकिस्तान क्यों कर रहा है हस्तक्षेप ? }

जिग्नेश अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित बनासकांठा के वडगाम सीट से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर मैदान में हैं। यहां उनका मुकाबला भाजपा प्रत्याशी से है। जिगनेश ने सिलाई मशीन को अपना चुनाव चिह्न बनाया है। उनका कहना है कि इसके जरिये वह गुजरात में बिखर चुके सामाजिक ताने-बाने को जोड़ने का प्रयास करेंगे। जिग्नेश मेवाणी जुलाई, 2015 के उना कांड के बाद सुर्खियों में आए थे। दलितों की सार्वजनिक पिटाई के बाद उन्होंने आंदोलन शुरू कर दिया था। उनकी मुहिम को गुजरात के अलावा राष्ट्रीय स्तर पर भी समर्थन मिला था।

बता दें कि अभी केवल कांग्रेस की तरफ से ही घोषणापत्र जारी किया गया है, बीजेपी ने अभी तक मेनिफेस्टो जारी नहीं किया है। गुजरात में 182 सीटों पर विधानसभा चुनाव के लिए मतदान दो चरणों में होने वाले हैं। पहले चरण का चुनाव 9 दिसंबर को है, जिसमें 89 सीटों के लिए वोट डाले जाएंगे तो वहीं दूसरे चरण के लिए मतदान 14 दिसंबर को है, इस दिन बाकी 93 सीटों के लिए मतदान किया जाएगा। वोटिंग के परिणामों का ऐलान 18 दिसंबर को होगा।

{ यह भी पढ़ें:- बीजेपी को हराने के लिए लालू यादव ने छोड़ा मांस मछली }

Loading...