1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. आरक्षण को ख़त्म करने की कोशिश BJP की नकारात्मक राजनीति की विद्रूप साज़िश : अखिलेश यादव

आरक्षण को ख़त्म करने की कोशिश BJP की नकारात्मक राजनीति की विद्रूप साज़िश : अखिलेश यादव

निकाय चुनाव को लेकर उत्तर प्रदेश में सियासी सरगर्मी बढ़ गई है। हाईकोर्ट ने ओबीसी आरक्षण को रद्द कर दिया है। इसके बाद विपक्षी पार्टियों ने भाजपा सरकार (BJP government) को घेरने का काम शुरू कर दिया है। वहीं, हाईकोर्ट के फैसले के बाद सरकार की ओर से पिछड़ों का आरक्षण तय करने के बाद ही निकाय चुनाव कराने के निर्णय से साफ हो गया है कि इसमें वक्त लगेगा।

By शिव मौर्या 
Updated Date

लखनऊ। निकाय चुनाव को लेकर उत्तर प्रदेश में सियासी सरगर्मी बढ़ गई है। हाईकोर्ट ने ओबीसी आरक्षण को रद्द कर दिया है। इसके बाद विपक्षी पार्टियों ने भाजपा सरकार (BJP government) को घेरने का काम शुरू कर दिया है। वहीं, हाईकोर्ट के फैसले के बाद सरकार की ओर से पिछड़ों का आरक्षण तय करने के बाद ही निकाय चुनाव कराने के निर्णय से साफ हो गया है कि इसमें वक्त लगेगा।

पढ़ें :- महराजगंज:एमएलसी चुनाव के मतदान स्थलों की तैयारियों का डीएम व एसपी ने लिया जायजा

वहीं, ओबीसी आरक्षण को लेकर सत्ताधारी भाजपा और विपक्ष के बीच टक्कराव बढ़ गया है। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने बुधवार को एक बार फिर इसको लेकर भाजपा पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा हे कि, ‘आरक्षण को ख़त्म करने की कोशिश भाजपा की नकारात्मक राजनीति की विद्रूप साज़िश है।’

पढ़ें :- गौतम अडानी का साम्राज्य तबाह करने वाले नाथन एंडरसन जानें कौन हैं?

इससे पहले उन्होंने मंगलवार को कहा था कि, आज आरक्षण विरोधी भाजपा निकाय चुनाव में ओबीसी आरक्षण के विषय पर घड़ियाली सहानुभूति दिखा रही है। आज भाजपा ने पिछड़ों के आरक्षण का हक़ छीना है,कल भाजपा बाबा साहब द्वारा दिए गये दलितों का आरक्षण भी छीन लेगी। आरक्षण को बचाने की लड़ाई में पिछडों व दलितों से सपा का साथ देने की अपील है।

पढ़ें :- जिस देश के युवा उत्साह और जोश से भरे हुए हों, उस देश की प्राथमिकता सदैव युवा ही होंगे: पीएम मोदी

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...