सऊदी से भागी युवती रहाफ को ऑस्ट्रेलिया-कनाडा देंगा शरण

rahafa
सऊदी से भागी युवती रहाफ को ऑस्ट्रेलिया-कनाडा देंगा शरण

नई दिल्ली। अपने परिवार के दु‌र्व्यवहार से आहत होकर सऊदी से भागी 18 वर्षीय युवती को आस्ट्रेलिया ने शरण देने की अनुमति प्रदान कर दी है। यह जानकारी थाई आव्रजन के एक अधिकारी ने शुक्रवार को दी। हालांकि अभी थाई की पुलिस यह जानने की कोशिश कर रही है कि वह वास्तव में जाना कहां चाहती है।

Australia Canada Gives Assura Nce To Protection Of Fleeing Women From Saudi Arabia :

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी ने बुधवार को रहाफ के संरक्षण अनुरोध को आस्ट्रेलिया को दिया था, हालांकि अब से पहले इसकी पुष्टि नहीं की गई थी कि कनाडा भी उसके मामले पर विचार कर रहा था। हाकपर्न ने कहा कि बैंकाक में एक अज्ञात स्थान पर रह रही कुनून अंतिम फैसला होते ही जल्द से जल्द थाईलैंड छोड़ देगी।

सुराचाते हकपर्न ने संवाददाताओं को बताया कि संयुक्त राष्ट्र इस मामले में तेजी ला रहा है, हालांकि उन्होंने इस बात का कोई संकेत नहीं दिया कि यह प्रक्रिया कब पूरी होगी। रहाफ मोहम्मद अल्कुनन को थाई आव्रजन पुलिस ने शनिवार को बैंकॉक हवाईअड्डे पर रोका और प्रवेश देने से इनकार करते हुए उसका पासपोर्ट जब्त कर लिया था। उसे हवाईअड्डे के होटल के एक कमरे में रखा गया था।

युवती ने अपने ट्विटर अकाउंट के जरिये सोशल मीडिया पर एक अभियान शुरू किया जिसे काफी देखा गया। इसके बाद थाई अधिकारियों ने अस्थायी रूप से उसे संयुक्त राष्ट्र अधिकारियों के संरक्षण में रखा। बुधवार को उसे शरणार्थी का दर्जा दिया गया। इस मामले ने सऊदी अरब में महिलाओं के अधिकारों की स्थिति को फिर से रेखांकित किया है।

नई दिल्ली। अपने परिवार के दु‌र्व्यवहार से आहत होकर सऊदी से भागी 18 वर्षीय युवती को आस्ट्रेलिया ने शरण देने की अनुमति प्रदान कर दी है। यह जानकारी थाई आव्रजन के एक अधिकारी ने शुक्रवार को दी। हालांकि अभी थाई की पुलिस यह जानने की कोशिश कर रही है कि वह वास्तव में जाना कहां चाहती है। संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी ने बुधवार को रहाफ के संरक्षण अनुरोध को आस्ट्रेलिया को दिया था, हालांकि अब से पहले इसकी पुष्टि नहीं की गई थी कि कनाडा भी उसके मामले पर विचार कर रहा था। हाकपर्न ने कहा कि बैंकाक में एक अज्ञात स्थान पर रह रही कुनून अंतिम फैसला होते ही जल्द से जल्द थाईलैंड छोड़ देगी। सुराचाते हकपर्न ने संवाददाताओं को बताया कि संयुक्त राष्ट्र इस मामले में तेजी ला रहा है, हालांकि उन्होंने इस बात का कोई संकेत नहीं दिया कि यह प्रक्रिया कब पूरी होगी। रहाफ मोहम्मद अल्कुनन को थाई आव्रजन पुलिस ने शनिवार को बैंकॉक हवाईअड्डे पर रोका और प्रवेश देने से इनकार करते हुए उसका पासपोर्ट जब्त कर लिया था। उसे हवाईअड्डे के होटल के एक कमरे में रखा गया था। युवती ने अपने ट्विटर अकाउंट के जरिये सोशल मीडिया पर एक अभियान शुरू किया जिसे काफी देखा गया। इसके बाद थाई अधिकारियों ने अस्थायी रूप से उसे संयुक्त राष्ट्र अधिकारियों के संरक्षण में रखा। बुधवार को उसे शरणार्थी का दर्जा दिया गया। इस मामले ने सऊदी अरब में महिलाओं के अधिकारों की स्थिति को फिर से रेखांकित किया है।