बुलंदशहर कांड पर फंसी यूपी पुलिस, हरियाणा में एक्सल गैंग ने कबूल की वारदात

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर के बहुचर्चित दुष्कर्म कांड ने एक बार फिर पुलिस महकमे की साख को चुनौती दे दी है। हरियाणा के गुरुग्राम में पकड़े गए एक्सल गैंग ने पुलिस के सामने यूपी में अंजाम दिए गए बुलंदशहर और जेवर कांड समेत आठ बड़ी घटनाएं कबूली हैं। हालांकि अभी तक इस बात की आधिकारिक पुष्टि नहीं की गयी है। लेकिन सूत्रों की मानें तो इस गैंग के एक बदमाश की स्पर्म रिपोर्ट बुलंदशहर कांड की पीड़िता के सैंपल से मैच हो गए हैं। बता दें कि इस कांड को लेकर यूपी पुलिस की थ्योरी पहले से ही सवालों के घेरे में थी।

मामले के सामने आने के बाद आला-अधिकारी बुलंदशहर कांड पर कुछ भी बोलने से बच रहे हैं। उनका कहना है कि गुरुग्राम पुलिस ने अभी तक कोई आधिकारिक पत्राचार नहीं किया है। इस कांड के अलावा रबूपुरा थाना क्षेत्र में डकैती और गैंगरेप की दो और वारदात एक्सल गैंग ने कबूली हैं। वहीं इस गैंग ने बुलंदशहर में साल 2014 में हुई डकैती और हत्या की भी वारदात कबूल की है।

{ यह भी पढ़ें:- VIDEO: खाकी ने फिर किया इंसानियत को शर्मसार, इसे देख आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे }

बताते चलें कि 29 जुलाई 2016 को बुलंदशहर में हुई गैंगरेप की वारदात से पहले पुलिस ने सात और 12 मई को ठीक ऐसी दो वारदात को दबा दिया था। पुलिस ने लूट की घटनाओं को चोरी व छिनैती में दर्ज किया। इसका खुलासा बुलंदशहर गैंगरेप के बाद हुआ। डीजीपी मुख्यालय को भेजी गई रिपोर्ट में तत्कालीन एसएसपी बुलंदशहर वैभव कृष्ण ने इन घटनाओं का होना और उन्हें दबाया जाना कबूल किया। इसके बाद कुछ पुलिस अफसरों पर कार्रवाई भी हुई। ये घटनाएं कोतवाली देहात बुलंदशहर में हुई थीं। उस दौरान पीयूष श्रीवास्तव एसएसपी थे।

क्या कहते हैं डीजीपी

{ यह भी पढ़ें:- ये हैं यूपी के अच्छे पुलिस वाले, एक आईजी दूसरा दारोगा }

इस पूरे मामले पर यूपी के डीजीपी सुलखान सिंह ने कहा, गुरुग्राम पुलिस ने एक्सल गैंग के खुलासे के संबंध में यूपी पुलिस से कोई भी संपर्क और आधिकारिक पत्राचार नहीं किया है। ये अपराधियों के बयान पर हुआ खुलासा है। हो सकता है वहां पकड़े गए अपराधी यहां पकड़े गए अपराधियों के साथी हों और उन्हें बचाने के लिए पुलिस को गुमराह कर रहे हों।

Loading...