1. हिन्दी समाचार
  2. अयोध्या केस: मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने कहा- मुझे फेसबुक पर मिली धमकी

अयोध्या केस: मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने कहा- मुझे फेसबुक पर मिली धमकी

Ayodhya Case Hearing Started In Sc Muslim Side Advocate Says He Had Received Threats On Facebook

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। अयोध्या के राम मंदिर-बाबरी मस्जिद जमीन विवाद मामले की सुनवाई मआज 22वें दिन भी शीर्ष अदालत में शुरू हो गई है। यह सुनवाई मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता में हो रही है। सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने कहा है कि उन्हें फेसबुक पर धमकी मिली है, लेकिन उन्हें फिलहाल सुरक्षा की कोई आवश्यकता नहीं है।

पढ़ें :- Weather Update: इन इलाकों में बारिश के आसार, दिल्ली-NCR में घना कोहरा...

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई के नेतृत्व वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने कहा कि इसकी आलोचना की जानी चाहिए। ऐसा नहीं होना चाहिए। जैसे ही पीठ ने अयोध्या मामले पर अपनी 22वें दिन की सुनवाई शुरू की सुन्नी वक्फ बोर्ड और अन्य की ओर से मुकदमे की पैरवी कर रहे वरिष्ठ अधिवक्ता धवन ने आरोप लगाया कि उन्हें फेसबुक पर धमकी भरा संदेश मिला है और बुधवार को सुप्रीम कोर्ट के परिसर में कुछ लोगों ने उनके लिपिक की पिटाई कर दी थी। धवन ने कहा कि सुनवाई के लिए यह माहौल उचित नहीं है।

उन्होंने कहा कि अदालत में ऐसा नहीं होना चाहिए और इसपर न्यायाधीश महोदय की ओर से एक टिप्पणी पर्याप्त होगी। इस पीठ में न्यायमूर्ति एस. ए. बोबड़े, न्यायमूर्ति डी. वाई. चन्द्रचूड़, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस. ए. नजीर शामिल हैं। धवन की बात पूरी होने के बाद मामले की सुनवाई शुरू की गई।  

सुनवाई का सीधा प्रसारण करने पर आदेश 16 को

सुप्रीम कोर्ट अयोध्या मामले की सुनवाई की सीधा प्रसारण (लाइव स्ट्रीमिंग) करने की मांग वाली याचिका पर सोमवार को आदेश पारित करेगा। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच जजों की विशेष पीठ ने अयोध्या मामले की सुनवाई शुरू करने से पहले कहा कि लाइव स्ट्रीमिंग के मुद्दे पर में हमने विचार किया है और हम इस मुद्दे पर 16 सितंबर को आदेश सुनाएंगे।

पढ़ें :- Birthday special: दुबई में सेलिब्रेट करेगी नम्रता अपना बर्थड़े, पार्टी में शामिल होंगे ये लोग

यूपी सरकार ने जज का कार्यकाल बढ़ाया

अयोध्या मामले की सुनवाई कर रहे स्पेशल सीबीआई जज एसके यादव का कार्यकाल बढ़ा दिया गया है।  यूपी सरकार ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट को यह सूचना दी। पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई के विशेष जज से अप्रैल 2020 तक मामले की सुनवाई पूरी करके  फैसला सुनाने को कहा था। यादव इस मामले में फैसला सुनाने तक पद पर बने रहेंगे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...