अयोध्या: 18 जुलाई को भूमि पूजन की तारीख पर होगा फैसला, बैठक संपन्न

ayodhya 01

अयोध्या: श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र की होने वाली बैठक में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन की तारीख और आगे की कार्ययोजना का फैसला 18 जुलाई को लिया जाएगा। मंदिर ट्रस्ट के महामंत्री चंपत ने अयोध्या के सर्किट हाउस में गुरुवार को हुई राम मंदिर निर्माण समिति की बैठक के बाद ये बातें मीडिया से सझा की, उन्होंन बताया कि निर्माण समिति के साथ आज एक शिष्टाचार बैठक थी जिसमें 18 को होने वाली बैठक के एजेंडे पर बात की गई। ट्रस्ट की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आमंत्रित किया जायेगा और भूमि पूजन की तारीख तय होगी।

Ayodhya Decision Will Be Made On The Date Of Bhoomi Pujan On July 18 The Meeting Concludes :

सर्किट हाउस में गुरुवार को हुई बैठक में ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय, राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेंद्र मिश्र, राम जन्म भूमि सुरक्षा सलाहकार केके शर्मा, कमिश्नर एमपी अग्रवाल,आईजी रेंज डॉ. संजीव गुप्ता, जिलाधिकारी अनुज झा व एसएसपी आशीष तिवारी आदि लोग मौजूद रहे।

बैठक में नृपेंद्र मिश्र में निर्देश दिया कि विश्व स्तर पर फैली महामारी कोरोना के चलते सबसे पहले इसके बचाव के उपायों पर बात होगी इसके बाद मंदिर निर्माण कार्य की योजना को आगे बढ़ाया जायेगा।

अयोध्या: श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र की होने वाली बैठक में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन की तारीख और आगे की कार्ययोजना का फैसला 18 जुलाई को लिया जाएगा। मंदिर ट्रस्ट के महामंत्री चंपत ने अयोध्या के सर्किट हाउस में गुरुवार को हुई राम मंदिर निर्माण समिति की बैठक के बाद ये बातें मीडिया से सझा की, उन्होंन बताया कि निर्माण समिति के साथ आज एक शिष्टाचार बैठक थी जिसमें 18 को होने वाली बैठक के एजेंडे पर बात की गई। ट्रस्ट की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आमंत्रित किया जायेगा और भूमि पूजन की तारीख तय होगी। सर्किट हाउस में गुरुवार को हुई बैठक में ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय, राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेंद्र मिश्र, राम जन्म भूमि सुरक्षा सलाहकार केके शर्मा, कमिश्नर एमपी अग्रवाल,आईजी रेंज डॉ. संजीव गुप्ता, जिलाधिकारी अनुज झा व एसएसपी आशीष तिवारी आदि लोग मौजूद रहे। बैठक में नृपेंद्र मिश्र में निर्देश दिया कि विश्व स्तर पर फैली महामारी कोरोना के चलते सबसे पहले इसके बचाव के उपायों पर बात होगी इसके बाद मंदिर निर्माण कार्य की योजना को आगे बढ़ाया जायेगा।