अयोध्या विवाद: मस्जिद शिफ्ट करने का आइडिया देने वाले मौलाना नदवी AIMPLB से बर्खास्त

अयोध्या विवाद: मंदिर के लिए मस्जिद शिफ्ट करने का आइडिया देने वाले मौलाना नदवी AIMPLB से बर्खास्त
अयोध्या विवाद: मंदिर के लिए मस्जिद शिफ्ट करने का आइडिया देने वाले मौलाना नदवी AIMPLB से बर्खास्त
नई दिल्ली। राम मंदिर पर सुलह का फॉर्मूला सुझाने वाले मौलाना सलमान नदवी को ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) से निकाल दिया गया है AIMPLB के सदस्य कासिम इलयास ने मौलाना नदवी को निकाले जाने की जानकारी देते हुए रविवार को कहा, 'समिति ने ऐलान किया कि AIMPLB अपने पुराने रुख पर कायम रहेगा कि मस्जिद को न तो गिफ्ट किया जा सकता है, न बेचा जा सकता है और न शिफ्ट किया जा सकता है। क्योंकि सलमान…

नई दिल्ली। राम मंदिर पर सुलह का फॉर्मूला सुझाने वाले मौलाना सलमान नदवी को ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) से निकाल दिया गया है AIMPLB के सदस्य कासिम इलयास ने मौलाना नदवी को निकाले जाने की जानकारी देते हुए रविवार को कहा, ‘समिति ने ऐलान किया कि AIMPLB अपने पुराने रुख पर कायम रहेगा कि मस्जिद को न तो गिफ्ट किया जा सकता है, न बेचा जा सकता है और न शिफ्ट किया जा सकता है। क्योंकि सलमान नदवी इस एकमत रुख के खिलाफ गए, इसलिए उनको बोर्ड से निकाला जाता है।’

माना जा रहा है कि मौलाना सलमान नदवी के खिलाफ AIMPLB की कार्रवाई से कोर्ट के बाहर राम मंदिर विवाद को सुलझाने की कोशिश को बड़ा झटका लगा है। दरअसल, शुक्रवार को AIMPLB की बैठक से पहले मौलाना सलमान नदवी ने राम मंदिर निर्माण को लेकर एक प्रस्ताव रखा था। इसमें उन्होंने बातचीत कर अयोध्या विवाद सुलझाने और मस्जिद के लिए कहीं और जमीन लेने का प्रस्ताव दिया था। नदवी के इस बयान के बाद काफी विवाद हुआ था।

{ यह भी पढ़ें:- रूसी जासूस हत्या मामला : ऑस्ट्रेलिया ने 2 रूसी राजनयिकों को किया निष्कासित }

क्या है मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की राय
अयोध्या विवाद पर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने सलमान नवदी के ताज़ा बयान के बीच साफ किया है कि इस विवाद को लेकर वो अपने पुराने स्टैंड पर खड़े हैं और विवादित जमीन पर अपना दावा नहीं छोड़ रहे हैं और इस मामले में अदालत के फैसले को मानेंगे।

आपको बता दें कि अयोध्या विवाद पर साल 2010 में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने विवादित जमीन को तीन हिस्सों में बांटने का फैसला दिया था, जिसे अदालत में चुनौती दी गई। अब 14 मार्च से इस केस की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में हो रही है, जिसके बाद देश में सियासी हलचल तेज़ हो गई है।

{ यह भी पढ़ें:- राम मंदिर निर्माण के लिए एक और बलिदान की आवश्यकता है: विनय कटियार }

Loading...