अयोध्या विवाद : मुस्लिम पक्ष ने पांच दिन सुनवाई होने पर जताई आपत्ति

ayodhya
अयोध्या केस Live अपडेट: SC के सवाल पर बोले वकील, मुख्य गुंबद के नीचे है भगवान राम का जन्मस्थान

नई दिल्ली। रामजन्मभूमि—बाबरी मस्ज्दि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई जारी है। कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई हफ्ते में पांच दिन करने का फैसला किया है। वहीं, सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरफ से इस फैसले पर असमर्थता जाहिर की गई है। शुक्रवार को जब अदालत में मामले का सुनवाई शुरू हुई तो सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील ने चीफ जस्टिस के सामने अपनी बात रखी।

Ayodhya Dispute Muslim Side Not In Favor Of Hearing Five Days A Week :

शुक्रवार सुनवाई शुरू होते ही मुस्लिम पक्ष की तरफ से कोर्ट के सामने अपील की गई है कि वह हफ्ते में पांच दिन सुनवाई के लिए कोर्ट की मदद नहीं कर सकते हैं। सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरह से वकीज राजीव धवन ने कोर्ट में कहा कि यह मामला एक सप्ताह का नहीं है, जबकि लंबे समय तक चलने वाला केस है। उन्होंने कहा कि हमें दिन—रात अनुवाद के कागज पढ़ने होते हैं और अन्य तैयारियां करनी पड़ती हैं। इस पर CJI रंजन गोगोई ने कहा है कि हमने आपकी बात सुन ली है, हम आपको बताएंगे।

गौरतलब है कि, छह अगस्त से अयोध्या मामले की रोजना सुनवाई शुरू हुई। रोजना सुनवाई के तहत हफ्ते में तीन दिन मंगल—बुध और गुरुवार मामला सुना जाता है लेकिन गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने फैसला किया कि इस मामले की सुनवाई हफ्ते में पांच दिन होगी। लिहाजा अगले सप्ताह से मामले की सुनवाई पांच दिन होगी। ईद के कारण सोमवार को सुप्रीम कोर्ट बंद रहेगा जिसके कारण 13 अगस्त से 16 अगस्त तक मामला सुना जायेगा। वैसे अब हर हफ्ते सोमवार से शुक्रवार तक केस की सुनवाई अदालत में होगी।

नई दिल्ली। रामजन्मभूमि—बाबरी मस्ज्दि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई जारी है। कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई हफ्ते में पांच दिन करने का फैसला किया है। वहीं, सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरफ से इस फैसले पर असमर्थता जाहिर की गई है। शुक्रवार को जब अदालत में मामले का सुनवाई शुरू हुई तो सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील ने चीफ जस्टिस के सामने अपनी बात रखी। शुक्रवार सुनवाई शुरू होते ही मुस्लिम पक्ष की तरफ से कोर्ट के सामने अपील की गई है कि वह हफ्ते में पांच दिन सुनवाई के लिए कोर्ट की मदद नहीं कर सकते हैं। सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरह से वकीज राजीव धवन ने कोर्ट में कहा कि यह मामला एक सप्ताह का नहीं है, जबकि लंबे समय तक चलने वाला केस है। उन्होंने कहा कि हमें दिन—रात अनुवाद के कागज पढ़ने होते हैं और अन्य तैयारियां करनी पड़ती हैं। इस पर CJI रंजन गोगोई ने कहा है कि हमने आपकी बात सुन ली है, हम आपको बताएंगे। गौरतलब है कि, छह अगस्त से अयोध्या मामले की रोजना सुनवाई शुरू हुई। रोजना सुनवाई के तहत हफ्ते में तीन दिन मंगल—बुध और गुरुवार मामला सुना जाता है लेकिन गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने फैसला किया कि इस मामले की सुनवाई हफ्ते में पांच दिन होगी। लिहाजा अगले सप्ताह से मामले की सुनवाई पांच दिन होगी। ईद के कारण सोमवार को सुप्रीम कोर्ट बंद रहेगा जिसके कारण 13 अगस्त से 16 अगस्त तक मामला सुना जायेगा। वैसे अब हर हफ्ते सोमवार से शुक्रवार तक केस की सुनवाई अदालत में होगी।