अयोध्या को रेड, यलो और ब्लू जोन में बांटा गया, पीएसी की 47 कंपनियां तैनात, 200 और बुलाईं गई

Ayodhya
अयोध्या को रेड, यलो और ब्लू जोन में बांटा गया, पीएसी की 47 कंपनियां तैनात, 200 और बुलाईं गई

अयोध्या। राम जन्मभूमि के मामले को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट में आखिरी सुनवाई चल रही है और कुछ दिनो बात दीपोत्सव भी होना है। इसी के चलते सरकार ने अयोध्या में फोर्स बल काफी बढ़ा दिया है और सुरक्षा व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए अयोध्या को तीन जोन रेड, यलो और ब्लू जोन में बांट दिया गया है। बताया गया कि पीएसी की पहले से 47 कंपनियां तैनात हैं, अब 200 कंपनियां और बुलाई गयी हैं। वैसे अयोध्या में हमेशा हाई सिक्योरिटी रहती है लेकिन इस बार मामला ज्यादा संवेदनशील है जिसकी वजह से मुख्य सचिव और डीजीपी का भी आना जाना लगा है।

Ayodhya Divided Into Red Yellow And Blue Zones 47 Companies Of Pac Deployed 200 More Called :

आपको बता दें कि राम मंदिर के फैसले को लेकर पूरे देश की निगांहे सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर टिकी हैं, आज आखिरी सुनवाई है जिसके चलते सरकार इसे काफी गम्भीरता से ले रही है और इसी के चलते अयोध्या जोन बनाये गये हैं। रेड जोन विवादित स्थल को रखा गया है, यहां पर जवान आधुनिक हथियारों से लैस हैं, ड्रोन कैमरों, वॉच टॉवर और सीसीटीवी से हर वक्त निगरानी की जा रही है। सभी रास्तो में बैरिकेडिंग की गयी है साथ ही बैरिकेडिंग के पास भी सीसीटीवी कैमरे लगाये गये हैं।

प्रशासन द्वारा यहां कई दिनो से धारा 144 लागू कर दी गयी थी जिसकी वजह से यहां पर टीवी डिबेट पर भी रोंक लगा दी गयी है। जबसे लोगो को पता चला है कि मन्दिर पर कुछ ही दिनो में फैसला आने वाला है तबसे बाहर से अयोध्या आने वालों की तादाद भी अचानक बढ़ गई है। यहां के कारसेवकपुरम में राम मंदिर के प्रस्तावित मॉडल को देखने आने वाले लोग भी बढ़ गए हैं। मॉडल देखने आये लोगो से जब पूछा गया तो उन्होने कहा कि ढ़ांचा देखकर ही दिल को थोड़ी आस बंधती है, वरना जेल जैसे कॉरिडोर से गुजरने के बाद भगवान राम की झलक भर देख कर मन दुखी हो जाता है।

अयोध्या। राम जन्मभूमि के मामले को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट में आखिरी सुनवाई चल रही है और कुछ दिनो बात दीपोत्सव भी होना है। इसी के चलते सरकार ने अयोध्या में फोर्स बल काफी बढ़ा दिया है और सुरक्षा व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए अयोध्या को तीन जोन रेड, यलो और ब्लू जोन में बांट दिया गया है। बताया गया कि पीएसी की पहले से 47 कंपनियां तैनात हैं, अब 200 कंपनियां और बुलाई गयी हैं। वैसे अयोध्या में हमेशा हाई सिक्योरिटी रहती है लेकिन इस बार मामला ज्यादा संवेदनशील है जिसकी वजह से मुख्य सचिव और डीजीपी का भी आना जाना लगा है। आपको बता दें कि राम मंदिर के फैसले को लेकर पूरे देश की निगांहे सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर टिकी हैं, आज आखिरी सुनवाई है जिसके चलते सरकार इसे काफी गम्भीरता से ले रही है और इसी के चलते अयोध्या जोन बनाये गये हैं। रेड जोन विवादित स्थल को रखा गया है, यहां पर जवान आधुनिक हथियारों से लैस हैं, ड्रोन कैमरों, वॉच टॉवर और सीसीटीवी से हर वक्त निगरानी की जा रही है। सभी रास्तो में बैरिकेडिंग की गयी है साथ ही बैरिकेडिंग के पास भी सीसीटीवी कैमरे लगाये गये हैं। प्रशासन द्वारा यहां कई दिनो से धारा 144 लागू कर दी गयी थी जिसकी वजह से यहां पर टीवी डिबेट पर भी रोंक लगा दी गयी है। जबसे लोगो को पता चला है कि मन्दिर पर कुछ ही दिनो में फैसला आने वाला है तबसे बाहर से अयोध्या आने वालों की तादाद भी अचानक बढ़ गई है। यहां के कारसेवकपुरम में राम मंदिर के प्रस्तावित मॉडल को देखने आने वाले लोग भी बढ़ गए हैं। मॉडल देखने आये लोगो से जब पूछा गया तो उन्होने कहा कि ढ़ांचा देखकर ही दिल को थोड़ी आस बंधती है, वरना जेल जैसे कॉरिडोर से गुजरने के बाद भगवान राम की झलक भर देख कर मन दुखी हो जाता है।