अयोध्या जमीन विवाद: मध्यस्थता कमेटी ने SC को सौंपी रिपोर्ट, अगली सुनवाई 2 अगस्त को

sc
अयोध्या जमीन विवाद: मध्यस्थता कमेटी ने SC को सौंपी रिपोर्ट, अगली सुनवाई 2 अगस्त को

नई दिल्ली। अयोध्या जमीन विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट ने अहम फैसला सुनाया। गुरुवार को मध्यस्थता कमेटी की रिपोर्ट देखने के बाद सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक बेंच ने मध्यस्थता कमेटी को 31 जुलाई तक का समय दिया है। इसके बाद 2 अगस्त को इस मामले पर अगली सुनवाई होगी।

Ayodhya Land Dispute Supreme Court Mediation Committee Report :

अयोध्या भूमि विवाद मामला की सुनवाई के दौरान आज सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थता पैनल की रिपोर्ट देखी, लेकिन उसमें क्या है यह सार्वजनिक नहीं किया। कोर्ट ने पैनल से 31 जुलाई तक मध्यस्थता जारी रखने और रिपोर्ट देने को कहा है। कोर्ट 2 अगस्त को मामले पर फिर सुनवाई करेगा। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर मध्यस्थता पैनल की रिपोर्ट मे कुछ सकारात्मक नहीं निकला, तो वे 2 अगस्त को मामले पर रोज़ाना सुनवाई करने पर भी विचार करेंगे। इसी दिन और मुद्दे व सुनवाई की रूपरेखा भी तय होगी।

मध्यस्थता के लिए गठित किया था 3 सदस्य पैनल

बीते मार्च महीने में सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्‍या मामले में बड़ा फैसला सुनाते हुए मध्‍यस्‍थता के आदेश दे दिए थे। मध्‍यस्‍थों में तीन सदस्‍यों को शामिल किया गया था। मध्यस्थता समिति में सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज एफएमआई कलीफल्ला, आध्यात्मिक गुरु और आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर और वरिष्ठ अधिवक्ता श्री राम पांचू का नाम शामिल है।

समिति ने मांगा था 15 अगस्त तक का समय

मध्यस्थता के फैसले के करीब दो महीने बाद सुप्रीम कोर्ट ने इस पर फिर सुनवाई की थी। सुप्रीम कोर्ट में यह सुनवाई महज 3 मिनट में ही खत्म हो गई थी। सुनवाई CJI रंजन गोगोई, जस्टिस एसए बोबडे, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एस अब्दुल नजीर की बेंच ने की थी। मध्यस्थता समिति ने सुप्रीम कोर्ट से 15 अगस्त तक का समय मांगा था। सुप्रीम कोर्ट ने भी इस पर हामी भर दी थी।

नई दिल्ली। अयोध्या जमीन विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट ने अहम फैसला सुनाया। गुरुवार को मध्यस्थता कमेटी की रिपोर्ट देखने के बाद सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक बेंच ने मध्यस्थता कमेटी को 31 जुलाई तक का समय दिया है। इसके बाद 2 अगस्त को इस मामले पर अगली सुनवाई होगी। अयोध्या भूमि विवाद मामला की सुनवाई के दौरान आज सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थता पैनल की रिपोर्ट देखी, लेकिन उसमें क्या है यह सार्वजनिक नहीं किया। कोर्ट ने पैनल से 31 जुलाई तक मध्यस्थता जारी रखने और रिपोर्ट देने को कहा है। कोर्ट 2 अगस्त को मामले पर फिर सुनवाई करेगा। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर मध्यस्थता पैनल की रिपोर्ट मे कुछ सकारात्मक नहीं निकला, तो वे 2 अगस्त को मामले पर रोज़ाना सुनवाई करने पर भी विचार करेंगे। इसी दिन और मुद्दे व सुनवाई की रूपरेखा भी तय होगी। मध्यस्थता के लिए गठित किया था 3 सदस्य पैनल बीते मार्च महीने में सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्‍या मामले में बड़ा फैसला सुनाते हुए मध्‍यस्‍थता के आदेश दे दिए थे। मध्‍यस्‍थों में तीन सदस्‍यों को शामिल किया गया था। मध्यस्थता समिति में सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज एफएमआई कलीफल्ला, आध्यात्मिक गुरु और आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर और वरिष्ठ अधिवक्ता श्री राम पांचू का नाम शामिल है। समिति ने मांगा था 15 अगस्त तक का समय मध्यस्थता के फैसले के करीब दो महीने बाद सुप्रीम कोर्ट ने इस पर फिर सुनवाई की थी। सुप्रीम कोर्ट में यह सुनवाई महज 3 मिनट में ही खत्म हो गई थी। सुनवाई CJI रंजन गोगोई, जस्टिस एसए बोबडे, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एस अब्दुल नजीर की बेंच ने की थी। मध्यस्थता समिति ने सुप्रीम कोर्ट से 15 अगस्त तक का समय मांगा था। सुप्रीम कोर्ट ने भी इस पर हामी भर दी थी।