अयोध्या पंहुचे उद्धव ठाकरे ने राम मंदिर निर्माण के लिए दिये एक करोड़

shivsena
शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने राम मंदिर निर्माण के लिए दी एक करोड़ की धनराशि

अयोध्या। शिवसेना प्रमुख व महाराष्ट्र सीएम उद्धव ठाकरे आज राम लला के दर्शन करने के लिए अयोध्या पंहुचे हैं। इस दौरान उन्होने एक प्रेस वार्ता की जिसमें उन्होने ऐलान किया है कि राम मंदिर निर्माण के लिए उनकी पार्टी एक करोड़ रूपये की धनराशि देगी। यही नही उन्होने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ से आग्रह किया है कि उन्हे अयोध्या में कुछ जमीन दिया जाये जिससे वो यहां पर महाराष्ट्र भवन का निर्माण कर सकें।

Ayodhya Reached Uddhav Thackeray Gave One Crore For Construction Of Ram Temple :

बता दें कि मुख्यमंत्री के रूप में 100 दिन पूरे होने पर उद्धव ठाकरे अयोध्या में दर्शन करने पहुंचे हैं। इस मौके पर उनके साथ शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत और उद्धव के बेटे आदित्य ठाकरे भी पंहुचे हैं। इस दौरान उद्धव ठाकरे ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर मेरे लिए सौभाग्य की बात है। मैं बार-बार अयोध्या आऊंगा। जगह मिलने पर अयोध्या में महाराष्ट्र का निर्णाण करेंगे। उन्होंने आरती में शामिल होने की भी इच्छा जताई।

बताया गया कि उद्धव ठाकरे का रामलला के दर्शन के बाद सरयू नदी के किनारे होने वाली आरती में शामिल होने का कार्यक्रम था, लेकिन कोरोना वायरस के खतरे की वजह उनके कार्यक्रम रद्द कर दिये गयें। अब वह न तो सरयू आरती करेंगे न और न ही किसी प्रकार की जनसभा करेंगे। बता दें कि इससे पहले उद्धव ठाकरे जून 2019 में अयोध्या गए थे और भगवान राम की पूजा अर्चना की थी।

अयोध्या से देंगे हिंदुत्व का संदेश

गौरतलब है कि शिवसेना पार्टी अपने हिंदुत्व के एजेंडे की वजह से ही आगे बढ़ी है लेकिन इस बार महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के रिजल्ट आये तो उद्धव ठाकरे ने कुर्सी के चक्कर में कांग्रेस और एनसीपी के साथ गठबंधन करके सरकार बना ली। इसके बाद उनकी पार्टी पर सवाल खड़े होना शुरू हो गये। उद्धव ठाकरे के अयोध्या दौरे पर राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि उद्धव ठाकरे इससे संदेश देना चाहते हैं कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस के साथ गठबंधन में सरकार चलाने के बावजूद उन्होंने अपने हिंदुत्व के एजेंडे को छोड़ा नहीं है।

अयोध्या। शिवसेना प्रमुख व महाराष्ट्र सीएम उद्धव ठाकरे आज राम लला के दर्शन करने के लिए अयोध्या पंहुचे हैं। इस दौरान उन्होने एक प्रेस वार्ता की जिसमें उन्होने ऐलान किया है कि राम मंदिर निर्माण के लिए उनकी पार्टी एक करोड़ रूपये की धनराशि देगी। यही नही उन्होने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ से आग्रह किया है कि उन्हे अयोध्या में कुछ जमीन दिया जाये जिससे वो यहां पर महाराष्ट्र भवन का निर्माण कर सकें। बता दें कि मुख्यमंत्री के रूप में 100 दिन पूरे होने पर उद्धव ठाकरे अयोध्या में दर्शन करने पहुंचे हैं। इस मौके पर उनके साथ शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत और उद्धव के बेटे आदित्य ठाकरे भी पंहुचे हैं। इस दौरान उद्धव ठाकरे ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर मेरे लिए सौभाग्य की बात है। मैं बार-बार अयोध्या आऊंगा। जगह मिलने पर अयोध्या में महाराष्ट्र का निर्णाण करेंगे। उन्होंने आरती में शामिल होने की भी इच्छा जताई। बताया गया कि उद्धव ठाकरे का रामलला के दर्शन के बाद सरयू नदी के किनारे होने वाली आरती में शामिल होने का कार्यक्रम था, लेकिन कोरोना वायरस के खतरे की वजह उनके कार्यक्रम रद्द कर दिये गयें। अब वह न तो सरयू आरती करेंगे न और न ही किसी प्रकार की जनसभा करेंगे। बता दें कि इससे पहले उद्धव ठाकरे जून 2019 में अयोध्या गए थे और भगवान राम की पूजा अर्चना की थी। अयोध्या से देंगे हिंदुत्व का संदेश गौरतलब है कि शिवसेना पार्टी अपने हिंदुत्व के एजेंडे की वजह से ही आगे बढ़ी है लेकिन इस बार महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के रिजल्ट आये तो उद्धव ठाकरे ने कुर्सी के चक्कर में कांग्रेस और एनसीपी के साथ गठबंधन करके सरकार बना ली। इसके बाद उनकी पार्टी पर सवाल खड़े होना शुरू हो गये। उद्धव ठाकरे के अयोध्या दौरे पर राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि उद्धव ठाकरे इससे संदेश देना चाहते हैं कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस के साथ गठबंधन में सरकार चलाने के बावजूद उन्होंने अपने हिंदुत्व के एजेंडे को छोड़ा नहीं है।