अयोध्या फैसला : आपत्तिजनक पोस्ट डालने पर उप्र में 90 लोग गिरफ्तार

ayodhya
अयोध्या फैसला: 'साइबर पेट्रोलिंग' से पुलिस को मिली बड़ी सफलता, अफवाह फैलाने वाले 99 आरोपी गिरफ्तार

लखनऊ। अयोध्या के राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद में शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद से रविवार शाम तक सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट करने और पटाखे फोड़कर जश्न मनाने के आरोप में करीब 90 लोगों को गिरफ्तार किया गया। अकेले उत्तर प्रदेश में ही करीब 77 लोगों को हिरासत में लिया गया है।

Ayodhya Verdict 90 Arrested In Uttar Pradesh For Posting Objectionable Posts :

केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने रविवार को बताया कि देश के किसी भी हिस्से से किसी गलत घटना की जानकारी नहीं मिली है। गृह मंत्री अमित शाह ने दोनों दिन विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात करते हुए शांति व्यवस्था पर कड़ी नजर रखने का आग्रह किया है।

प्रदेश में 34 एफआईआर, 90 गिरफ्तार

उप्र के आईजी लॉ एंड ऑर्डर प्रवीण कुमार ने बताया कि सुरक्षा के मद्देनजर सभी जिलों में पुलिस अलर्ट है। सोशल मीडिया पर निगरानी जारी है। शुक्रवार रात 10 बजे से 48 घंटों में भड़काऊ पोस्ट पर 34 एफआईआर दर्ज की गई है, जबकि 90 लोग गिरफ्तार किए गए। इसमें से 22 मामले रविवार को दर्ज हुए।

उन्होंने बताया कि फैसला आने के बाद से अब तक 8275 सोशल मीडिया पोस्ट के खिलाफ कार्रवाई की जा चुकी है। जिस पोस्ट के खिलाफ कार्रवाई हुई उसमें 2868 टि्वटर पोस्ट, 1355 फेसबुक पोस्ट और 98 यूट्यूब वीडियो के खिलाफ रिपोर्ट किया गया है।

18 नवंबर तक सुरक्षाबल तैनात रहेंगे

इसी तरह जौनपर, बागपत, वाराणसी, कानपुर, अलीगढ़, मेरठ आदि जिलों में जिला प्रशासन एलर्ट पर है। पूरे शहर में पैदल मार्च किया जा रहा है। संवेदनशील जगहों पर स्थित धर्म स्थलों पर खास नजर रखी जा रही है। प्रदेश में सभी जिलों में इंटरनेट सेवाएं बहाल हैं। 18 नवंबर तक केंद्रीय सुरक्षा बल प्रदेश के 21 जिलों में मुस्तैद रहेंगे।

लखनऊ। अयोध्या के राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद में शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद से रविवार शाम तक सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट करने और पटाखे फोड़कर जश्न मनाने के आरोप में करीब 90 लोगों को गिरफ्तार किया गया। अकेले उत्तर प्रदेश में ही करीब 77 लोगों को हिरासत में लिया गया है। केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने रविवार को बताया कि देश के किसी भी हिस्से से किसी गलत घटना की जानकारी नहीं मिली है। गृह मंत्री अमित शाह ने दोनों दिन विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात करते हुए शांति व्यवस्था पर कड़ी नजर रखने का आग्रह किया है। प्रदेश में 34 एफआईआर, 90 गिरफ्तार उप्र के आईजी लॉ एंड ऑर्डर प्रवीण कुमार ने बताया कि सुरक्षा के मद्देनजर सभी जिलों में पुलिस अलर्ट है। सोशल मीडिया पर निगरानी जारी है। शुक्रवार रात 10 बजे से 48 घंटों में भड़काऊ पोस्ट पर 34 एफआईआर दर्ज की गई है, जबकि 90 लोग गिरफ्तार किए गए। इसमें से 22 मामले रविवार को दर्ज हुए। उन्होंने बताया कि फैसला आने के बाद से अब तक 8275 सोशल मीडिया पोस्ट के खिलाफ कार्रवाई की जा चुकी है। जिस पोस्ट के खिलाफ कार्रवाई हुई उसमें 2868 टि्वटर पोस्ट, 1355 फेसबुक पोस्ट और 98 यूट्यूब वीडियो के खिलाफ रिपोर्ट किया गया है। 18 नवंबर तक सुरक्षाबल तैनात रहेंगे इसी तरह जौनपर, बागपत, वाराणसी, कानपुर, अलीगढ़, मेरठ आदि जिलों में जिला प्रशासन एलर्ट पर है। पूरे शहर में पैदल मार्च किया जा रहा है। संवेदनशील जगहों पर स्थित धर्म स्थलों पर खास नजर रखी जा रही है। प्रदेश में सभी जिलों में इंटरनेट सेवाएं बहाल हैं। 18 नवंबर तक केंद्रीय सुरक्षा बल प्रदेश के 21 जिलों में मुस्तैद रहेंगे।