अयोध्या फैसला : मोहन भागवत बोले- इसे हार-जीत के तौर पर न देखें, अब मंदिर निर्माण शुरू हो

mohan
अयोध्या फैसला : मोहन भागवत बोले-इस निर्णय को हार-जीत के तौर पर न देखें

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने ​अयोध्या विवाद पर अपना फैसला ​सुना दिया है। विवादित जमीन को रामजन्भूमि न्यास को दे दी गयी है। इस बीच अयोध्या फैसले का आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत ने स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि न्याय देने वाले निर्णय का स्वागत है। भाईचारा बनाए रखने के प्रयासों का स्वागत है। सरकार विवाद खत्म करने की पहल करे। मंदिर निर्माण में साथ मिलकर काम करेंगे।

Ayodhya Verdict Mohan Bhagwat Said Construction Of Temple Should Start Now :

झगड़ा विवाद अब समाप्त होना चाहिए। मोहन भागवत ने कहा कि हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हैं। यह मामला दशकों से चल रहा था और यह सही निष्कर्ष पर पहुंच गया है। इसे हार जीत की तरह नहीं देखेंं। हम समाज में शांति और सद्भाव बनाए रखने के लिए सभी के प्रयासों का भी स्वागत करते हैं।

मोहन भागवत ने कहा कि, पुरानी बातों को भुलाकर अब मंदिर निर्माण का कार्य करवाया जाए। कोर्ट ने मस्जिद निर्माण को लेकर जो कहा है वह जमीन सरकार को देनी है। सरकार इस बात को तय करेगी कि उसे कहां जमीन देनी है। जिस तरह अदालत का फैसला स्पष्ट है। वैसे ही मेरा बयान भी साफ है।’

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने ​अयोध्या विवाद पर अपना फैसला ​सुना दिया है। विवादित जमीन को रामजन्भूमि न्यास को दे दी गयी है। इस बीच अयोध्या फैसले का आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत ने स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि न्याय देने वाले निर्णय का स्वागत है। भाईचारा बनाए रखने के प्रयासों का स्वागत है। सरकार विवाद खत्म करने की पहल करे। मंदिर निर्माण में साथ मिलकर काम करेंगे। झगड़ा विवाद अब समाप्त होना चाहिए। मोहन भागवत ने कहा कि हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हैं। यह मामला दशकों से चल रहा था और यह सही निष्कर्ष पर पहुंच गया है। इसे हार जीत की तरह नहीं देखेंं। हम समाज में शांति और सद्भाव बनाए रखने के लिए सभी के प्रयासों का भी स्वागत करते हैं। मोहन भागवत ने कहा कि, पुरानी बातों को भुलाकर अब मंदिर निर्माण का कार्य करवाया जाए। कोर्ट ने मस्जिद निर्माण को लेकर जो कहा है वह जमीन सरकार को देनी है। सरकार इस बात को तय करेगी कि उसे कहां जमीन देनी है। जिस तरह अदालत का फैसला स्पष्ट है। वैसे ही मेरा बयान भी साफ है।'