तो क्या वोट लेने के लिए आज़म ने गरीब जनता को धोखा दिया, बांटे थे मकानों के फ़र्ज़ी आवंटन पत्र

rampur faisal lala
तो क्या वोट लेने के लिए आज़म ने गरीब जनता को धोखा दिया, बांटे थे मकानों के फ़र्ज़ी आवंटन पत्र

रामपुर। काशीराम आवास में रहने वाले लगभग 12 परिवारो ने कांग्रेस नेता फैसल लाला के माध्यम से ज़िलाधिकारी से मुलाक़ात की और उन्हें अलग—अलग पत्र सौंपे। शिकायती पत्र में कहा गया है कि साल 2016 पिछली सपा सरकार में पहाड़ी गेट काशीराम शहरी गरीब आवास योजना में अनेकों लोगों को समाजवादी पार्टी कार्यालय से मकानों के आवांटन पत्र दिया गए थे जिसपर तत्कालीन ज़िलाधिकारी के हस्ताक्षर भी हैं जिसके आधार पर बहुत से लोगों ने अपने मकान पर बिजली का कनेक्शन भी कराया था। पीड़ित उक्त मकानों में रह रहे थे, कि कुछ दिन पहले पता लगा कि हम लोगों के मकान किसी और को आवंटित कर दिए गए हैं जिसके बाद हम लोगो ने अधिकारियों से जानकारी की तो पता चला कि समाजवादी पार्टी कार्यालय से जो आवांटन पत्र दिए थे, वह फ़र्ज़ी थे उसका सरकारी ऑफिस में कोई रिकॉर्ड नही है यह सुनकर हमारे होश उड़ गए।

Azam Cheated The Poor People For Taking Votes Distributed Fake Allotment Letters Of Houses :

महोदय जब हमें यह आवांटन पत्र दिए गए थे तब वहां मौजूद सपा नेताओं ने आज़म खान की मौजूदगी में कहा था कि इलेक्शन आ रहा है तुम्हें मंत्री आज़म भाई ने सरकारी आवास दिए हैं इसलिए अब वोट आज़म भाई को ही देना जिसके बाद हम लोगो ने 2017 विधानसभा चुनाव में आज़म खा को वोट भी दिया। लेकिन आज हमें पता चला की हमारे साथ कितना बड़ा धोखा किया गया था जिसमे हमारी कोई गलती नही है हम सभी लोगो ने नियमानुसार मकानों का आवेदन किया था जिसके बाद सपा कार्यालय से ज़िलाधिकारी के हस्ताक्षर किए हुए फ़र्ज़ी आवांटन पत्र आज़म खा की मौजूदगी में बांटे गए और अब हमारे सर से छतों का साया छीनने की कगार पर है।

अब इन सभी लोगो ने ज़िलाधिकारी से इंसाफ की गुहार लगाते हुए है कि या तो हमें हमारे मकानों के असली पट्टे दे दिए जाएं या फिर हमें कहीँ दूसरे मकानों में बसाया जाए ताकि हम अपना जीवन यापन कर सके और जिन लोगों ने हमारे साथ धोखा किया है उन सपा नेताओं और आज़म खान पर धोखाधड़ी करने के विरूद्ध क़ानूनी कार्यवाही की जाए। ज़िलाधिकारी आंजनेय कुमार सिंह ने आश्वान दिया है कि अति शीघ्र जांच कराकर कार्यवाही की जाएगी। शिकायत करने वालों में शबाना, यासमीन, फातमा, अंजुम, शीबा, उज़मा, असलम, वसीम, नाज़िम, नदीम, ज़ाहिद, राबिया, शानू शामिल हैं।

रामपुर। काशीराम आवास में रहने वाले लगभग 12 परिवारो ने कांग्रेस नेता फैसल लाला के माध्यम से ज़िलाधिकारी से मुलाक़ात की और उन्हें अलग—अलग पत्र सौंपे। शिकायती पत्र में कहा गया है कि साल 2016 पिछली सपा सरकार में पहाड़ी गेट काशीराम शहरी गरीब आवास योजना में अनेकों लोगों को समाजवादी पार्टी कार्यालय से मकानों के आवांटन पत्र दिया गए थे जिसपर तत्कालीन ज़िलाधिकारी के हस्ताक्षर भी हैं जिसके आधार पर बहुत से लोगों ने अपने मकान पर बिजली का कनेक्शन भी कराया था। पीड़ित उक्त मकानों में रह रहे थे, कि कुछ दिन पहले पता लगा कि हम लोगों के मकान किसी और को आवंटित कर दिए गए हैं जिसके बाद हम लोगो ने अधिकारियों से जानकारी की तो पता चला कि समाजवादी पार्टी कार्यालय से जो आवांटन पत्र दिए थे, वह फ़र्ज़ी थे उसका सरकारी ऑफिस में कोई रिकॉर्ड नही है यह सुनकर हमारे होश उड़ गए। महोदय जब हमें यह आवांटन पत्र दिए गए थे तब वहां मौजूद सपा नेताओं ने आज़म खान की मौजूदगी में कहा था कि इलेक्शन आ रहा है तुम्हें मंत्री आज़म भाई ने सरकारी आवास दिए हैं इसलिए अब वोट आज़म भाई को ही देना जिसके बाद हम लोगो ने 2017 विधानसभा चुनाव में आज़म खा को वोट भी दिया। लेकिन आज हमें पता चला की हमारे साथ कितना बड़ा धोखा किया गया था जिसमे हमारी कोई गलती नही है हम सभी लोगो ने नियमानुसार मकानों का आवेदन किया था जिसके बाद सपा कार्यालय से ज़िलाधिकारी के हस्ताक्षर किए हुए फ़र्ज़ी आवांटन पत्र आज़म खा की मौजूदगी में बांटे गए और अब हमारे सर से छतों का साया छीनने की कगार पर है। अब इन सभी लोगो ने ज़िलाधिकारी से इंसाफ की गुहार लगाते हुए है कि या तो हमें हमारे मकानों के असली पट्टे दे दिए जाएं या फिर हमें कहीँ दूसरे मकानों में बसाया जाए ताकि हम अपना जीवन यापन कर सके और जिन लोगों ने हमारे साथ धोखा किया है उन सपा नेताओं और आज़म खान पर धोखाधड़ी करने के विरूद्ध क़ानूनी कार्यवाही की जाए। ज़िलाधिकारी आंजनेय कुमार सिंह ने आश्वान दिया है कि अति शीघ्र जांच कराकर कार्यवाही की जाएगी। शिकायत करने वालों में शबाना, यासमीन, फातमा, अंजुम, शीबा, उज़मा, असलम, वसीम, नाज़िम, नदीम, ज़ाहिद, राबिया, शानू शामिल हैं।