आजमगढ़ में मादक पदार्थों की तस्करी का भंडाफोड़, STF ने चार सदस्यों को किया गिरफ्तार

लखनऊ। अन्तर्राज्यीय स्तर पर मादक पदार्थो की तस्करी करने वाले गिरोह के चार सदस्यों को एसटीएफ ने आजमगढ़ में गिरफ्तार किया। उसके पास से भारी मात्रा में मादक पदार्थ गॉंजा (मूल्य लगभग 30 लाख रूपये) बरामद हुआ।विगत काफी समय से असम, आन्ध्रप्रदेश, उड़ीसा, बिहार, एवं छत्तीसगढ़ से मादक पदार्थो की अन्तर्राज्यीय स्तर पर तस्करी करने वाले गिरोहों के सक्रिय होने की जानकारी एसटीएफ को मिल रही थी। लिहाजा उनकी धरपकड़ के लिए एसटीएफ की विभिन्न इकाईयों को लगाया गया था। इसी बीच एसटीएफ वाराणसी इकाई को जानकारी मिली कि एक अन्तर्राज्यीय तस्कर गिरोह जो उक्त राज्यों से मादक पदार्थ की तस्करी कर आजमगढ़, जौनपुर, वाराणसी आदि जिलों में सप्लाई करता है। जोकि रविवार की सुबह पांच बजे यह गिरोह ट्रक एनएल-01-जी-8547 से भारी मात्रा में गांजा लेकर दोहरीघाट, लाटघाट होते हुए आजमगढ़ की तरफ जायेगें।




इस सूचना पर वाराणसी एसटीएफ की एक टीम आजमगढ़ के हाफिजपुर चौराहे पर पहुंचकर स्थानीय पुलिस को भी साथ लेकर गाढ़ाबंदी की गयी। प्रात: लगभग साढ़े पांच बजे उक्त वाहन हाफिजपुर चौराहे के पास आता हुआ दिखा, जिसे मौजूद पुलिस ने रुकवा कर चार लोगों को धर दबोचा जबकि दो लोग मौके से भाग खड़े हुए। पकड़े गए अभियुक्तों ने अपने नाम सुबोध शाम्य पुत्र गनेश शाम्य निवासी अम्मा पोस्ट अम्मा थाना हथौरी, जनपद मुजफ्फरनगर, बिहार, पंकज सिंह पुत्र बाल्मिकी सिंह निवासी नवाडेह, थाना सिकन्दर, जनपद जमुई, बिहार, शशिकांत कुमार पुत्र कृष्ण कुमार निवासी मानिकपुर, थाना जीयनपुर, जनपद आजमगढ़ और राजकुमार चौहान पुत्र कालूराम चौहान निवासी कठानगुड़ी, थाना कुदालगुड़ी, जनपद कुदालगुड़ी, आसाम बताया। वहीं छापेमारी के दौरान फरार होने वाले अभियुक्तों के नाम साधु यादव निवासी मेघई, थाना जीयनपुर, आजमगढ़ व पिंटू यादव पुत्र कंहैया यादव निवासी भटौरा, थाना मेहनगर, आजमगढ़ बताया। पकड़े गये अभियुक्तों के पास से गांजा 236 किलोग्राम (मूल्य लगभग 30 लाख रूपये), एक अदद ट्रक एनएल-01-जी-2489, एक अदद मोटरसाईिकल यूपी50एवी-8547, चार मोबाइल फोन और 3800 रुपए की नगदी बरामद की।




चारों अभियुक्तों से एक साथ तथा अलग-अलग पूछताछ किया गया तो ज्ञात हुआ कि एक सुसंगठित गिरोह है, जो असम से गांजा की तस्करी कर आजमगढ़ लाता है। असम के दुर्लभ सूत्रधर से पिंटू यादव व साधु यादव, राजकुमार चौहान के माध्यम से माल मंगाता है। राज कुमार चौहान मूलत: बंगरिया बाजार, मेहनगर, जनपद आजमगढ़ का रहने वाला है। वह लगभग 30-35 वर्ष पूर्व असम परिवार के साथ चला गया था। जहॉं वह राजमिस्त्री का काम करता है। इसी दौरान उसका संबंध असम के गांजा तस्करों से हो गया। राजकुमार ने उन गांजा तस्करों का सम्पर्क आजमगढ़ के पिंटू यादव, साधु यादव व अन्य सबसे कराया। पिंटू यादव का भाई अशोक यादव गांजा तस्करी में ही गुवाहाटी जेल में बंद है। लगभग एक महीने पहले पिंटू यादव अपने भाई से मिलने गुवाहाटी जेल गया था। वही उसने राज कुमार को गांजा लाने के लिए तैयार किया। उसी योजना के तहत ड्राइवर पंकज सिंह दीमापुर से दिल्ली की फर्म सांई अदरक कम्पनी का 12 टन अदरक लोडकर दिल्ली के लिये चला। तेजपुर पहुंचकर ढाबे पर रूका। ढाबे पर उसकी गाड़ी में राजकुमार ने उक्त गांजा लोड किया।

इस कार्य के लिए ड्राइवर को 25,000 रूपये व राजकुमार को 5000 रूपये देना तय हुआ। पूर्व में भी ये लोग इस तरह का कार्य करते रहे हैं। ये लोग दो कुंतल 36 किलोग्राम गांजा ट्रक में लदे 12 टन अदरख के बीच तथा कुछ गांजा केबिन में छिपाकर लाये थे। पुलिस कर्मियों की सहायता से ट्रक में छिपाकर लाये गये गांजा को बरामद किया गया। चारों ने बताया कि पिंटू यादव व साधू यादव ट्रक के आगे-आगे मोटरसाईिकल यूपी50एवी-8547 से चल रहे थे। आप लोगों को देखकर मोटरसाईिकल छोड़कर भाग गये है। मोटर साईिकल 50 मीटर आगे खड़ी लावारिस हालत में मिली, जिसे कब्जा पुलिस में लिया गया।

Loading...