बाढ़ से निपटने के लिए पिछले वर्ष की तुलना में 4 गुना अधिक बजट: सिंचाई मंत्री

sichai-mantri-up
बाढ़ से निपटने के लिए पिछले वर्ष की तुलना में 4 गुना अधिक बजट: सिंचाई मंत्री

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि बाढ़ से सम्भावित जिलों में जाकर जिलाधिकारी एवं जनप्रतिनिधियों से समन्वय स्थापित कर सभी आवश्यक सुविधाओं की व्यवस्था सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछले सालों की अपेक्षा इस साल चार गुना अधिक बजट दिया है। सिंह ने कहा कि 385 करोड़ की धनराशि बाढ़ सुरक्षा के लिए प्रदेश सरकार ने सभी जिलों को आवंटित कर दिया है।

Baadh Se Nipatane Ke Liye 4 Guna Adhik Budget :

धर्मपाल सिंह आज अपने कार्यालय कक्ष में विभागीय अधिकारियों एवं राज्यमंत्री के साथ प्रदेश में हो रही भारी वर्षा को देखते हुए आने वाली सम्भावित बाढ़ से निपटने की तैयारियों की उच्च स्तरीय समीक्षा कर रहे थे। सिंचाई मंत्री ने कहा कि सभी अधिकारी जिलों का चुनाव कर ले कि किसे किस जिले में निरीक्षण करना है। उन्होंने कहा कि बाढ़ प्रभाति क्षेत्रों में जाकर जनता को बाढ़ से संबंधित जानकारी दें। सिंह ने कहा कि राजस्व विभाग से समन्वय स्थापित कर बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों का मानचित्र बनवायें ताकि उनकी नुकसान का आकलन किया जा सके। सिंचाई मंत्री ने कहा कि राहत सामाग्री बांटने में भी उनका आवश्यक सहयोग करें।

सिंचाई मंत्री ने विशेष सचिव सारिका मोहन को निर्देश दिये कि सभी 40 जिलों के जिलाधिकारियों से लगातार बात करती रहें तथा जो भी आवश्यकता हो उसकी उपलब्धता तत्काल सुनिश्चित की जायें। उन्होंने कहा प्रतिदिन बात करके बाढ़ की स्थिति पर नजर रखें। उन्होने कहा कि जहां भी विभागीय अधिकारी लापरवाही दिखायें उनके विरुद्ध तत्काल कड़े कदम उठाये तथा हमें भी अवगत कराया जाये। सिंचाई मंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि नदियों की वर्तमान स्थिति तथा कटान से संबंधित जानकारी प्राप्त कर लें ताकि समय रहते ही सभी आवश्यक सुविधाओं की व्यवसथा की जा सके।

उन्होंने कहा कि जहां कहीं भी बाढ़ की स्थिति हो वहां के तटबंधों का विशेष ध्यान रखें। तटबंधों के निरीक्षण लगातार करते रहें तथा एक आदमी विभाग का लगातार वहां पर उपस्थित रहे। सिंह ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि बाढ़ आने से पहले ही प्रभावित क्षेत्रों के लोगों को विस्थापित करने के लिए स्थान चिन्हित कर लिये जायें।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि बाढ़ से सम्भावित जिलों में जाकर जिलाधिकारी एवं जनप्रतिनिधियों से समन्वय स्थापित कर सभी आवश्यक सुविधाओं की व्यवस्था सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछले सालों की अपेक्षा इस साल चार गुना अधिक बजट दिया है। सिंह ने कहा कि 385 करोड़ की धनराशि बाढ़ सुरक्षा के लिए प्रदेश सरकार ने सभी जिलों को आवंटित कर दिया है।धर्मपाल सिंह आज अपने कार्यालय कक्ष में विभागीय अधिकारियों एवं राज्यमंत्री के साथ प्रदेश में हो रही भारी वर्षा को देखते हुए आने वाली सम्भावित बाढ़ से निपटने की तैयारियों की उच्च स्तरीय समीक्षा कर रहे थे। सिंचाई मंत्री ने कहा कि सभी अधिकारी जिलों का चुनाव कर ले कि किसे किस जिले में निरीक्षण करना है। उन्होंने कहा कि बाढ़ प्रभाति क्षेत्रों में जाकर जनता को बाढ़ से संबंधित जानकारी दें। सिंह ने कहा कि राजस्व विभाग से समन्वय स्थापित कर बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों का मानचित्र बनवायें ताकि उनकी नुकसान का आकलन किया जा सके। सिंचाई मंत्री ने कहा कि राहत सामाग्री बांटने में भी उनका आवश्यक सहयोग करें।सिंचाई मंत्री ने विशेष सचिव सारिका मोहन को निर्देश दिये कि सभी 40 जिलों के जिलाधिकारियों से लगातार बात करती रहें तथा जो भी आवश्यकता हो उसकी उपलब्धता तत्काल सुनिश्चित की जायें। उन्होंने कहा प्रतिदिन बात करके बाढ़ की स्थिति पर नजर रखें। उन्होने कहा कि जहां भी विभागीय अधिकारी लापरवाही दिखायें उनके विरुद्ध तत्काल कड़े कदम उठाये तथा हमें भी अवगत कराया जाये। सिंचाई मंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि नदियों की वर्तमान स्थिति तथा कटान से संबंधित जानकारी प्राप्त कर लें ताकि समय रहते ही सभी आवश्यक सुविधाओं की व्यवसथा की जा सके।उन्होंने कहा कि जहां कहीं भी बाढ़ की स्थिति हो वहां के तटबंधों का विशेष ध्यान रखें। तटबंधों के निरीक्षण लगातार करते रहें तथा एक आदमी विभाग का लगातार वहां पर उपस्थित रहे। सिंह ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि बाढ़ आने से पहले ही प्रभावित क्षेत्रों के लोगों को विस्थापित करने के लिए स्थान चिन्हित कर लिये जायें।