बाल ठाकरे की पुण्यतिथि : देवेंद्र फडणवीस ने की तारीफ, कहा-उनसे मिली स्वाभिमान की सीख

bal thakare
बाल ठाकरे की पुण्यतिथि : देवेंद्र फडणवीस ने की तारीफ, कहा—उनसे मिली स्वाभिमान की सीख

मुंबई। शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे की पुण्यतिथि आज है। शिवसेना ने आज कई कार्यक्रमों का अयोजन किया है। वहीं, उद्धव ठाकरे समेत शिवसेना नेता दादर में एक कार्यक्रम में शामिल होंगे। इस बीच महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने बाल ठाकरे की तारीफ की। फडणवीस ने ट्वीट कर कहा, बाला साहेब से स्वाभिमान की सीख मिली है। देवेंद्र फडणवीस बाल ठाकरे के बड़े प्रशंसकों में गिने जाते हैं।

Bal Thackerays Death Anniversary %e2%80%8b%e2%80%8bdevendra Fadnavis Praised Said Learned Self Respect From Him :

बता दें कि बाल ठाकरे से 1966 में शिवसेना की स्थापना की थी। उनकी मृत्यु 17 नवंबर 2012 को मुंबई में हुई थी। उधर, महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर चल रही खींचतान के बीच यह स्पष्ट हो गया है कि शिवसेना का एनडीए गठबंधन से बाहर होना भी लगभग तय हो गया है। शिवसेना ने साफ कर दिया है कि वह रविवार को होने वाली एनडीए की बैठक में शामिल नहीं होगी।

साथ ही, सोमवार से शुरू हो रहे संसद के शीतकालीन सत्र में शिवसेना सांसद दोनों सदनों में विपक्षी खेमे में बैठेंगे। बताया जा रहा है कि शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत और अनिल देसाई विपक्ष की सीटों पर बैठेंगे। वहीं, लोकसभा में भी पार्टी के 18 सदस्य विपक्षी खेमे में दिखेंगे, जो अब तक सत्ता पक्ष के लिए आवंटित सीटों पर बैठते थे।

पिछले दिनों मोदी सरकार में शिवसेना के एकमात्र केंद्रीय मंत्री अरविंद सावंत ने इस्तीफा दिया था। संजय राउत ने शनिवार को कहा, एनडीए से अलगाव की औपचारिकता बाकी है। हम बैठक में हिस्सा न लेने का फैसला कर चुके हैं। एनडीए का नेतृत्व कर रहे लोगों ने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को झूठा ठहराने का प्रयास किया, उसके विरोध में हम बैठक से दूर रहेंगे।

मुंबई। शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे की पुण्यतिथि आज है। शिवसेना ने आज कई कार्यक्रमों का अयोजन किया है। वहीं, उद्धव ठाकरे समेत शिवसेना नेता दादर में एक कार्यक्रम में शामिल होंगे। इस बीच महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने बाल ठाकरे की तारीफ की। फडणवीस ने ट्वीट कर कहा, बाला साहेब से स्वाभिमान की सीख मिली है। देवेंद्र फडणवीस बाल ठाकरे के बड़े प्रशंसकों में गिने जाते हैं। बता दें कि बाल ठाकरे से 1966 में शिवसेना की स्थापना की थी। उनकी मृत्यु 17 नवंबर 2012 को मुंबई में हुई थी। उधर, महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर चल रही खींचतान के बीच यह स्पष्ट हो गया है कि शिवसेना का एनडीए गठबंधन से बाहर होना भी लगभग तय हो गया है। शिवसेना ने साफ कर दिया है कि वह रविवार को होने वाली एनडीए की बैठक में शामिल नहीं होगी। साथ ही, सोमवार से शुरू हो रहे संसद के शीतकालीन सत्र में शिवसेना सांसद दोनों सदनों में विपक्षी खेमे में बैठेंगे। बताया जा रहा है कि शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत और अनिल देसाई विपक्ष की सीटों पर बैठेंगे। वहीं, लोकसभा में भी पार्टी के 18 सदस्य विपक्षी खेमे में दिखेंगे, जो अब तक सत्ता पक्ष के लिए आवंटित सीटों पर बैठते थे। पिछले दिनों मोदी सरकार में शिवसेना के एकमात्र केंद्रीय मंत्री अरविंद सावंत ने इस्तीफा दिया था। संजय राउत ने शनिवार को कहा, एनडीए से अलगाव की औपचारिकता बाकी है। हम बैठक में हिस्सा न लेने का फैसला कर चुके हैं। एनडीए का नेतृत्व कर रहे लोगों ने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को झूठा ठहराने का प्रयास किया, उसके विरोध में हम बैठक से दूर रहेंगे।