सार्वजनिक रास्ता बंद होने से गांव में तनाव!

बांदा: उत्तर प्रदेश में बांदा जिले के गौर-शिवपुर गांव में एक पक्ष द्वारा दीवाल बनाकर सार्वजनिक रास्ता बंद कर दिए जाने से तनाव की स्थिति पैदा हो गई है। पुलिस न चेती तो कभी भी बड़ी घटना हो सकती है। मामला नरैनी थाने के गौर-शिवपुर गांव का है। यहां के दबंगों ने दीवाल बनाकर और तार की बाड़ लगाकर सार्वजनिक रास्ता बंद कर दिया है। पुलिस से भी फरियाद करने पर करीब आधा दर्जन परिवारों को कोई राहत नहीं मिली।



शनिवार को थाने में आयोजित समाधान दिवस में भी ‘समाधान’ नहीं हुआ। उपजिलाधिकारी नरैनी की अध्यक्षता में आयोजित इस दिवस में करीब सोलह फुट रास्ता दिए जाने का फैसला हुआ, लेकिन गांव पहुंचे एक दरोगा और सिपाही ने सिर्फ ‘ढाई फुट’ रास्ता दिला कर प्रभावित परिवारों के लोगों को ‘दोबारा रास्ता मांगने पर हाथ पैर तोड़ कर जेल भेजने की धमकी तक दे आए। पुलिस की इस कारश्तानी से दबंगों के हौंसले बढ़ गए और उन्होंने पक्की दीवाल बनाने के अलावा बांस-बल्ली गाड़ कर तार की बाड लगा दी, जिस वजह से इंसान तो दूर जानवर भी नहीं निकल सकता।

हालांकि अपर जिलाधिकारी बांदा गंगाराम गुप्ता और सीओ नरैनी ओमप्रकाश ने पुलिस के करतूत पर नाराजगी जताते हुए पहले ही कहा था कि ‘प्रभावित लोगों को न्याय दिलाया जाएगा।’ मगर गांव के हालात दिन-प्रतिदिन बिगड़ते जा रहे हैं। दबंग दयाराम और प्रकाश नाई रोजाना सार्वजनिक रास्ते को बंद करने का नायाब तरीका अपना रहे हैं, न्याय न मिलता देख प्रभावित पक्ष के लोगों ने ‘बांस’ यानी ‘लाठी’ का सहारा लेने का मन बना लिया है।

इस गांव महिला सुकुर्ती, कुसमा व सरमन ने बुधवार को कहा कि ‘पुलिस और तहसील प्रशासन ने दो हफ्ते से न्याय नहीं किया, अब खुद ही कानून को हाथ में लेकर दीवाल और तार की बाड़ नष्ट कर देंगे, परिणाम क्या होगा, देखा जाएगा।’ अगर ऐसी स्थिति बनी तो बवाल होने से इंकार नहीं किया जा सकता, चूंकि पीड़ित पक्ष का आरोप है कि ‘स्थानीय पुलिस दबंगों के साथ खुलकर खड़ी है।’

बांदा से रामलाल जयन की रिपोर्ट

Loading...