1. हिन्दी समाचार
  2. अन्य खबरें
  3. world class facilities से लैस बेंगलुरु का एम. विश्वेश्वरैया स्टेशन बनकर तैयार, जाने इसकी खासियत

world class facilities से लैस बेंगलुरु का एम. विश्वेश्वरैया स्टेशन बनकर तैयार, जाने इसकी खासियत

भारतीय रेलवे अपने आप को हर दिन आधुनिक बना रही है। रेलवे, यात्रियों की हर सुविधा का ख्याल रखने के प्रयास में स्टेशनों को अत्याधुनिक सुविधा युक्त बना रही है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

M. Visvesvaraya Station: भारतीय रेलवे अपने आप को हर दिन आधुनिक बना रही है। रेलवे, यात्रियों की हर सुविधा का ख्याल रखने के प्रयास में स्टेशनों को अत्याधुनिक सुविधा युक्त बना रही है।देश को पहला सेंट्रलाइज्ड एसी वाला रेलवे स्टेशन मिल गया है। विश्वस्तरीय सुविधाओं से लैस बेंगलुरु का एम. विश्वेश्वरैया स्टेशन बनकर तैयार हो गया है।

पढ़ें :- हिन्दी दिवस 2021:14 सितंबर को ही हिंदी दिवस क्यों मनाया जाता है? जानिए इसका महत्व
Jai Ho India App Panchang

एयरपोर्ट की तरह ही आरामदायक लाउंज
बेंगलुरु के बैयप्पनहल्ली में पूरी तरह वातानुकूलित सर एम विश्वेश्वरैया रेलवे टर्मिनल (Sir M Visvesvaraya Railway Terminal ) में अत्याधुनिक सुविधाएं होंगी।रिपोर्ट के अनुसार, यह रेलवे स्टेशन किसी हवाई अड्डे की तरह दिखता है। यहां पर यात्रियों को एयरपोर्ट जैसी आधुनिक सुविधाएं मिलेंगी। एयरपोर्ट की तरह ही आरामदायक लाउंज भी बनाया गया है। देश के सबसे अधुनिक रेलने स्टेशन को बनाने में करीब 314 करोड़ रुपये की लागत आई है।

स्वचालित सीढ़ियां और लिफ्ट उपलब्ध
पूरे स्टेशन के ऊपर 4200 मीटर की कैनोपी लगाई गई है। प्लेटफॉर्म पर जाने के लिए सीढ़ियों के अलावा स्वचालित सीढ़ियां और लिफ्ट की सुविधा भी उपलब्ध है।एयरपोर्ट की तरह ही आरामदायक लाउंज भी बनाया गया है

वाटर हार्वेस्टिंग की भी व्यवस्था
इस रेलवे स्टेशन पर कुल सात प्लेटफॉर्म हैं, जिनकी चौड़ाई 14 फीट है और लंबाई 600 मीटर है. सभी प्लेटफॉर्म को एक दूसरे के कनेक्ट करने के लिए 7.5 फीट चौड़ा फूट ओवर ब्रीज बनाया गया है। प्लेटफॉर्म पर बारिश के पानी को इकट्ठा करने के लिए वाटर हार्वेस्टिंग की भी व्यवस्था की गई है।

पढ़ें :- whistling village: व्हिस्लिंग विलेज क्यों बोला जाता इस गांव को, UN की बेस्‍ट टूरिज्‍म विलेज की कैटेगरी में नॉमिनेट हुई ये खूबसूरती

पार्किंग की सुविधा का ध्यान
स्टेशन के बाहर पार्किंग की सुविधा का भी ध्यान रखा गया है. कुल 250 चार पहिया वाहन और 900 के करीब दो पहिया वाहनों की पार्किग के लिए स्पेस बनाया गया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...