बांग्लादेश ने पाकिस्तानी नागरिकों को वीजा देने पर लगाई रोक, बढ़ा तनाव

pak
बांग्लादेश ने पाकिस्तानी नागरिकों को वीजा देने पर लगाई रोक, बढ़ा तनाव

नई दिल्ली। पाकिस्तान के साथ राजनयिक गतिरोध के बीच इस्लामाबाद स्थित बांग्लादेश उच्चायोग ने एक सप्ताह के लिए पाकिस्तानी नागरिकों को वीजा देने पर रोक लगा दी है। बांग्लादेशी विदेश मंत्रालय के अधिकारी ने मंगलवार को यह जानकारी दी।

Bangladesh Imposed Stay On Pak Citizen Visa :

बांग्लादेश में 1971 के मुक्ति संग्राम में युद्ध अपराध के कई दोषियों को फांसी देने और पाकिस्तान के उच्चायुक्त को वीजा से इन्कार किए जाने को लेकर दोनों देशों में पहले से ही कूटनीतिक तनातनी चल रही है। बताया जा रहा है कि पाकिस्तान में तैनात एक बांग्लादेशी राजनयिक के पारिवारिक सदस्यों को वीजा जारी नहीं किए जाने के विरोध में यह कदम उठाया गया है।

रणनीतिक मामलों के जानकार ब्रह्मा चेलानी ने कहा कि पाकिस्तान और बांग्लादेश के बीच द्विपक्षीय रिश्तों में तनाव पैदा हो गया है। उन्होंने एक ट्वीट में कहा, “बांग्लादेश पाकिस्तान पर अपनी जमीन पर आतंकवाद के वित्तपोषण का आरोप लगाता रहा है।

दोनों देशों के रिश्ते इतने खराब हो गए हैं कि बांग्लादेश ने 2018 से पाकिस्तान के नए उच्चायुक्त पर मंजूरी नहीं दी है। अब बांग्लादेश ने पाकिस्तानियों का वीजा ही रोक दिया है।”

अधिकारी ने अपना नाम गोपनीय रखने की शर्त पर बताया कि वीजा जारी करने के प्रभारी बांग्लादेशी राजनयिक पाकिस्तानियों के आवेदन को आगे बढ़ाने से बच रहे हैं क्योंकि पाकिस्तानी प्राधिकारियों ने उनके आधिकारिक वीजा की अवधि आगे बढ़ाने के आवेदन को पिछले चार महीनों से अटका रखा है।

उल्लेखनीय है कि ढाका में पाकिस्तानी उच्चायोग बांग्लादेश उच्चायोग के प्रेस एवं वीजा मामलों के काउंसलर इकबाल हुसैन के परिवार के सदस्यों के वीजा आवेदन को आगे नहीं बढ़ा रहा। इसके कारण हुसैन अपने परिवार से नहीं मिल पा रहे हैं।

पाकिस्तानी नागरिकों को वीजा जारी किया जाना निलंबित कर दिया गया है क्योंकि इस्लामाबाद में बांग्लादेश उच्चायोग का वीजा काउंटर पिछले सोमवार (13 मई) से बंद है।’

नई दिल्ली। पाकिस्तान के साथ राजनयिक गतिरोध के बीच इस्लामाबाद स्थित बांग्लादेश उच्चायोग ने एक सप्ताह के लिए पाकिस्तानी नागरिकों को वीजा देने पर रोक लगा दी है। बांग्लादेशी विदेश मंत्रालय के अधिकारी ने मंगलवार को यह जानकारी दी। बांग्लादेश में 1971 के मुक्ति संग्राम में युद्ध अपराध के कई दोषियों को फांसी देने और पाकिस्तान के उच्चायुक्त को वीजा से इन्कार किए जाने को लेकर दोनों देशों में पहले से ही कूटनीतिक तनातनी चल रही है। बताया जा रहा है कि पाकिस्तान में तैनात एक बांग्लादेशी राजनयिक के पारिवारिक सदस्यों को वीजा जारी नहीं किए जाने के विरोध में यह कदम उठाया गया है। रणनीतिक मामलों के जानकार ब्रह्मा चेलानी ने कहा कि पाकिस्तान और बांग्लादेश के बीच द्विपक्षीय रिश्तों में तनाव पैदा हो गया है। उन्होंने एक ट्वीट में कहा, "बांग्लादेश पाकिस्तान पर अपनी जमीन पर आतंकवाद के वित्तपोषण का आरोप लगाता रहा है। दोनों देशों के रिश्ते इतने खराब हो गए हैं कि बांग्लादेश ने 2018 से पाकिस्तान के नए उच्चायुक्त पर मंजूरी नहीं दी है। अब बांग्लादेश ने पाकिस्तानियों का वीजा ही रोक दिया है।" अधिकारी ने अपना नाम गोपनीय रखने की शर्त पर बताया कि वीजा जारी करने के प्रभारी बांग्लादेशी राजनयिक पाकिस्तानियों के आवेदन को आगे बढ़ाने से बच रहे हैं क्योंकि पाकिस्तानी प्राधिकारियों ने उनके आधिकारिक वीजा की अवधि आगे बढ़ाने के आवेदन को पिछले चार महीनों से अटका रखा है। उल्लेखनीय है कि ढाका में पाकिस्तानी उच्चायोग बांग्लादेश उच्चायोग के प्रेस एवं वीजा मामलों के काउंसलर इकबाल हुसैन के परिवार के सदस्यों के वीजा आवेदन को आगे नहीं बढ़ा रहा। इसके कारण हुसैन अपने परिवार से नहीं मिल पा रहे हैं। पाकिस्तानी नागरिकों को वीजा जारी किया जाना निलंबित कर दिया गया है क्योंकि इस्लामाबाद में बांग्लादेश उच्चायोग का वीजा काउंटर पिछले सोमवार (13 मई) से बंद है।'