1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. Bangladesh Protests : ढाका में प्रदर्शनकारियों ने प्रधानमंत्री शेख हसीना का मांगा इस्तीफा, सड़कों पर दिखा हुजूम

Bangladesh Protests : ढाका में प्रदर्शनकारियों ने प्रधानमंत्री शेख हसीना का मांगा इस्तीफा, सड़कों पर दिखा हुजूम

बांग्लादेश सरकार (Government of Bangladesh) के विरोध में शनिवार सुबह ही प्रदर्शन शुरू हो गए। विपक्षी बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (BNP)  के नेतृत्व में बुलाई गई रैली में हजारों लोग हिस्सा ले रहे हैं। बांग्लादेश की मीडिया रिपोर्ट्स (Bangladesh Media Reports) की मानें तो ढाका के सैयदाबाद में गोपालबाग मैदान भीड़ से खचाखच भर गया। यह लोग लगातार प्रधानमंत्री शेख हसीना (Prime Minister Sheikh Hasina) के इस्तीफे की मांग उठा रहे हैं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। बांग्लादेश सरकार (Government of Bangladesh) के विरोध में शनिवार सुबह ही प्रदर्शन शुरू हो गए। विपक्षी बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (BNP)  के नेतृत्व में बुलाई गई रैली में हजारों लोग हिस्सा ले रहे हैं। बांग्लादेश की मीडिया रिपोर्ट्स (Bangladesh Media Reports) की मानें तो ढाका (Dhaka) के सैयदाबाद में गोपालबाग मैदान (Gopalbagh field) भीड़ से खचाखच भर गया। यह लोग लगातार प्रधानमंत्री शेख हसीना (Prime Minister Sheikh Hasina) के इस्तीफे की मांग उठा रहे हैं। बीएनपी (BNP) की मांग है कि बांग्लादेश में तत्काल चुनाव का एलान किया जाए।

पढ़ें :- BBC Documentary Controversy: दिल्ली से लेकर मुंबई तक बीबीसी डॉक्यूमेंट्री पर हंगामा

हसीना सरकार (Hasina Government) की तरफ से इन प्रदर्शनों पर तमाम पाबंदियां लगाए जाने के बावजूद इतनी बड़ी संख्या में लोगों का जुटना काफी अहम घटनाक्रम है। इस बीच बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (BNP) के सात सांसदों ने प्रदर्शन के दौरान ही अपने इस्तीफे का भी एलान कर दिया।

क्या है बीएनपी की मांग?

बीएनपी सत्ताधारी अवामी लीग (BNP) के बजाय एक कार्यवाहक सरकार के तहत नए सिरे से चुनाव कराने के लिए प्रधानमंत्री हसीना के इस्तीफे की मांग कर रही है। पार्टी ने संदेह जताया है कि शेख हसीना प्रशासन (Sheikh Hasina Administration) चुनाव में धांधली (Election Rigging) कर सकता है। बांग्लादेश (Bangladeshमें अगले आम चुनाव 2024 में होने हैं। इससे पहले बीएनपी (BNP) की ढाका रैली से पहले पार्टी के आक्रोशित कार्यकर्ताओं के साथ पुलिस की झड़प हो गई, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हुई और कई अन्य घायल हो गए। दो दिन बाद बीएनपी (BNP)के नेताओं को भी गिरफ्तार कर लिया गया।

पढ़ें :- Hindenburg Research Report से शेयर बाजार में मचा तहलका, अडानी ग्रुप में जानें कितना लगा है सरकारी पैसा, सकते में LIC और बड़े बैंक
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...