1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. बांग्लादेश चुनाव में शेख हसीना की शानदार जीत, मोदी ने फोन कर दी बधाई

बांग्लादेश चुनाव में शेख हसीना की शानदार जीत, मोदी ने फोन कर दी बधाई

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री शेख हसीना (Sheikh Hasina) की अवामी लीग (Awami League) ने रविवार को बांग्लादेश (Bangladesh election)के आम चुनाव में लगातार तीसरी बार जीत हासिल की। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हसीना की अवामी लीग ने 300 में से 260 सीटों पर जीत दर्ज की।

वहीं, इसकी मुख्य सहयोगी जतिया पार्टी को 21 सीटें मिलीं। प्रमुख विपक्षी दल नेशनल यूनिटी फ्रंट (एनयूएफ) और इसके सहयोगी बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) महज 7 सीटों पर सिमट कर रह गई। नतीजों को खारिज करते हुए विपक्षी गठबंधन ने नए सिरे से चुनाव कराने की मांग की है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शेख हसीना को फोन कर जीत की बधाई भी दी।

विपक्ष ने लगाया गड़बड़ी का आरोप : आम चुनाव के बीच हुई हिंसा में एक सुरक्षाकर्मी समेत 17 लोगों के मारे जाने की खबर है। विपक्ष ने चुनाव में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए दोबारा चुनाव कराने की मांग की। 300 में से 299 सीटों के नतीजे आए हैं। प्रत्याशी की मौत के चलते एक सीट पर चुनाव स्थगित कर दिया गया था।

बांग्लादेश चुनाव आयोग के मुताबिक, हसीना को दक्षिण पश्चिमी गोपालगंज सीट से जीत हासिल की। उन्हें 2,29,539 वोट मिले। जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी बीएनपी के उम्मीदवार को महज 123 वोट मिले। एनयूएफ गठबंधन में बीएनपी, गोनो फोरम, जतिया समाजतांत्रिक दल (जेएसडी), नागोरिक ओकाया और कृषक श्रमिक जनता लीग शामिल हैं।

299 सीटों पर ही हुआ चुनाव

बांग्लादेशी चुनाव आयोग के मुताबिक 300 संसदीय सीटों में से 299 सीटों पर चुनाव हुआ है। इसके लिए 1,848 उम्मीदवार मैदान में हैं, चुनाव के लिए 40,183 मतदान केन्द्र बनाए गए। एक उम्मीदवार के निधन के कारण एक सीट पर चुनाव नहीं हुआ।

हसीना चौथी बार प्रधानमंत्री बनने के लिए चुनाव लड़ रही हैं जबकि ढाका जेल में बंद उनकी चिर प्रतिद्वंद्वी और बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) की प्रमुख खालिदा जिया का भविष्य अधर में लटका नजर आता है. सूचनाओं के मुताबिक, जिया आंशिक रूप से लकवाग्रस्त हैं।

आपको बता दें कि बांग्लादेश में हो रहा ये 11वां आम चुनाव था, देश में करीब 10.41 करोड़ आधिकारिक मतदाता हैं। गौरतलब है कि शेख हसीना की पार्टी को भारत के प्रति झुकाव के तौर पर देखा जाता है, जबकि विरोधी खालिदा जिया को पार्टी को भारत विरोधियों में से एक गिना जाता है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...