1. हिन्दी समाचार
  2. बांग्लादेश के ‘ट्री मैन’ दर्द से राहत पाने के लिए कटवाना चाहते हैं अपने हाथ

बांग्लादेश के ‘ट्री मैन’ दर्द से राहत पाने के लिए कटवाना चाहते हैं अपने हाथ

Bangladesh Tree Man Abdul Bajandar Wants Hands Amputated To Relieve Pain

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। बांग्लादेश के “ट्री मैन” के रूप में जाने जाने वाले एक बांग्लादेशी व्यक्ति ने सोमवार को कहा कि वह अपने हाथों को असहनीय दर्द से राहत पाने के लिए कटवाना चाहते हैं। उन्होंने सोमवार को दिए गए बयान कहा, “प्लीज, मेरे हाथ काट दो। मैं इस दर्द से छुटकारा चाहता हूं।”

पढ़ें :- ऑस्ट्रेलिया से जीत के बाद विराट कोहली ने बताया किस खिलाड़ी की वजह से मैच जीते

इसके बाद उनकी पत्नी ने भी उनका समर्थन किया। उनकी पत्नी ने कहा, “हाथ कट जाने से इस नर्क जैसी स्थिति से उबर जाएंगे। कम से कम उन्हें इस भयानक दर्द से निजात मिल जाएगी।

उग गई हैं हाथ और पैर में पेड़ जैसी शाखाएं

ट्री-मैन को पहली बार 10 साल की उम्र से ये संरचनाएं उगनी शुरू हुई थीं। 2016 से अब तक 25 बार अब्‍दुल बजनदार (Abdul Bajandar) नाम के इस शख्स की सर्जरी हो चुकी है। 2016 में ही उसका ऑपरेशन करके 6 किलो ऐसी संरचना को निकाला गया था, लेकिन इसका कोई फायदा नहीं हुआ, क्योंकि फिर से उसके शरीर पर ऐसी संरचना उग आई हैं।

क्या है ट्री-मैन की बीमारी

पढ़ें :- मनी लॉन्ड्रिंग केस : भगोड़े विजय माल्या पर शिकंजा, 14 करोड़ की प्रॉपर्टी ईडी ने की जब्त

अब्‍दुल बजनदार एपिडर्मोडिस्प्लासिया वेरुसीफोर्मिस नाम की बीमारी से पीड़ित हैं। इस बीमारी को ‘ट्री मैन सिंड्रोम’ भी कहा जाता है। अभी अब्दुल की उम्र 28 साल है। यह जीन से संबंधित एक बीमारी है, जिसमें असाधारण ढंग की शारीरिक संरचनाओं को त्वचा के साथ विकास होने लगता है।

जेनेटिक एंड रेयर डिसीज इंफॉर्मेशन सेंटर (GARD) के अनुसार इस बीमारी से पीड़ित सभी लोगों की ठीक-ठीक संख्या बताना मुश्किल है, लेकिन अभी तक दुनिया भर में इस बीमारी के 200 से ज्यादा केस दर्ज किए जा चुके हैं। इसी संस्था के अनुसार मरीज को ऐसे में ठीक नहीं किया जा सकता। हालांकि, सर्जरी एक उपाय जरूर है।

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने बाजंदर की बीमारी का मुद्दा राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सामने आने के बाद उसका मुफ्त इलाज कराने का वादा किया है। ऐसा माना जाता है कि दुनिया भर में करीब छह लोगों को यह बीमारी है। इस अस्पताल ने 2017 में इसी बीमारी से पीड़ित एक युवा बांग्लादेशी लड़की का भी इलाज किया था।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...