दुबई। श्रीलंका के खिलाफ शुक्रवार को खेल गए निदास ट्रॉफी त्रिकोणीय टी-20 सीरीज के आखिरी मैच में हुए विवाद के कारण बांग्लादेश के कप्तान शाकिब अल हसन और बेंच पर बैठे नुरुल हसन पर मैच फीस का 25 फीसदी जुर्माना लगा है। साथ ही दोनों के हिस्से में आईसीसी की आचार संहिता के लेवल-1 के उल्लंघन के कारण एक-एक नकारात्मक अंक आए हैं।

सितंबर-2016 के बाद से ऐसा पहली बार है कि इन दोनों खिलाड़ियों के हिस्से में नकारात्मक अंक आए हैं। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) द्वारा जारी किए गए बयान के अनुसार, “शाकिब को अनुच्छेद 2.1.1 के उल्लंघन का दोषी पाया गया है वहीं नुरुल को अनुच्छेद 2.1.2 का दोषी पाया गया है।” सीरीज के आखिरी नॉकआउट मैच में शाकिब आखिरी ओवर में सीमारेखा पर आ गए थे और उन्होंने अपने बल्लेबाजों को मैदान से बाहर बुला लिया था।

{ यह भी पढ़ें:- ICC T20 Ranking : टॉप 3 में राहुल, टीम इंडिया दूसरे पायदान पर }

वहीं बेंच पर बैठे नुरुल ने श्रीलंकाई कप्तान तिषारा परेरा से बुरा व्यवहार किया था। शाकिब और नुरुल दोनों को शनिवार को आईसीसी की आचार संहिता के उल्लंघन का दोषी पाया गया है और इसी कारण मैच रेफरी क्रिस ब्रॉड ने सजा सुनाई है जिसे इन दोनों खिलाड़ियों ने मंजूर कर लिया है और इसलिए किसी तरह की आधिकारिक सुनवाई की जरूरत नहीं पड़ी।

नो बॉल का निर्णय न देना था विवाद का कारण –

{ यह भी पढ़ें:- डोप टेस्ट में फेल हुआ पाकिस्तान का यह सलामी बल्लेबाज, गांजा पीने का आरोप }

इस मैच में उदाना बांग्लादेशी पारी का आखिरी ओवर फेंक रहे थे। उदाना ने इस ओवर की पहली दो गेंदें बाउंसर डाली। लेकिन पहली गेंद पर बॉलिंग ऐड पर मौजूद अंपायर ने कोई इशारा नहीं किया। जबकि दूसरी गेंद को लेग अंपायर ने नो बॉल करार दिया था। लेकिन बाद में आपसी बातचीत के आधार पर यह निर्णय बदला जाने लगा। तभी बांग्लादेशी क्रिकेटर गुस्से में आ गए।

पानी देने के लिए फील्ड में आए थें नुरुल हसन –

ओवर की दूसरी गेंद पर महमुदुल्लाह ने पानी का इशारा किया था। जिसके बाद नुरुल हसन मैदान में आए। तभी विवाद शुरू हो गया। जिसके बाद वे तिषारा परेरा से उलझ पड़े। वहीं जीत के बाद बांग्लादेशी ड्रेसिंग रूम में कांच टूटने के मामले पर आईसीसी ने अपनी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। हालांकि ग्राउंड स्टाफ श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड से इसकी शिकायत कर चुके है। जिस पर बोर्ड ने कहा कि सीसीटीवी फुटेज से इस बात की जानकारी नहीं मिल रही है कि इस मामले में दोषी कौन है?

{ यह भी पढ़ें:- भारत-श्रीलंका टेस्ट की ‘पिच फिक्स’ होने का दावा, ICC ने जांच शुरू की }