लखनऊ की हिंसा में शामिल थे बांग्लादेशी उपद्रवी, पुलिस को मिले अहम सुराग

Lucknow violence
लखनऊ की हिंसा में शामिल थे बांग्लादेशी उपद्रवी, पुलिस को मिले अहम सुराग

लखनऊ। लखनऊ में गुरुवार को हुई हिंसा में बांग्लादेशियों के सामने होने की आशंका जताई जा रही है। पुलिस को मिले सुराग तो यही इशारा कर रहे हैं। पुलिस को हिंसा के बाद पांच मोबाइल फोन मिले हैं। जिनमें बांग्ला भाषा में संदेशों का आदान-प्रदान किया गया है। अनुमान लगाया जा रहा है कि ये उपद्रवी बांग्लादेशी हैं। जो हिंसा फैलाने के मकसद से ही यहां इकट्ठा हुए थे। मामले की जांच की जा रही है।

Bangladeshi Miscreants Involved In Lucknow Violence Police Got Important Clues :

बता दें कि बृहस्पतिवार को लखनऊ में नागरिकता कानून के खिलाफ जबरदस्त विरोध प्रदर्शन हुआ। इस दौरान कई इलाकों में हिंसा भड़क उठी। दंगाइयों ने बस, कारें व दोपहिया वाहनों में आग लगाने के साथ ही पुलिस चौकियां जला डाली। एहतियात के तौर पर शनिवार दोपहर तक के लिए इंटरनेट बंद कर दिया गया है। मामले की जांच की जा रही है।

नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में आज संभावित भारत बंद की आशंका के मद्देनजर इंटरनेट सेवाएं बृहस्पतिवार रात 12 बजे से बंद कर दी गईं। ये शुक्रवार शाम छह बजे तक बंद रहेंगी। वहीं शहर और देहात के संवेदनशील इलाकों में पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है। विरोध के नाम पर हिंसा करने वालों के खिलाफ गैंगस्टर और रासुका की कार्रवाई की जाएगी। नागरिकता कानून को लेकर लखनऊ में हुए हिंसक प्रदर्शन के बाद कानपुर और उन्नाव में जियो ने इंटरनेट की सेवाएं बंद कर दी हैं। वही उन्नाव में नागरिकता कानून को लेकर जुमे की नमाज के प्रदर्शन की सुगबुगाहट पर प्रशासन अलर्ट हो गया है।

लखनऊ। लखनऊ में गुरुवार को हुई हिंसा में बांग्लादेशियों के सामने होने की आशंका जताई जा रही है। पुलिस को मिले सुराग तो यही इशारा कर रहे हैं। पुलिस को हिंसा के बाद पांच मोबाइल फोन मिले हैं। जिनमें बांग्ला भाषा में संदेशों का आदान-प्रदान किया गया है। अनुमान लगाया जा रहा है कि ये उपद्रवी बांग्लादेशी हैं। जो हिंसा फैलाने के मकसद से ही यहां इकट्ठा हुए थे। मामले की जांच की जा रही है। बता दें कि बृहस्पतिवार को लखनऊ में नागरिकता कानून के खिलाफ जबरदस्त विरोध प्रदर्शन हुआ। इस दौरान कई इलाकों में हिंसा भड़क उठी। दंगाइयों ने बस, कारें व दोपहिया वाहनों में आग लगाने के साथ ही पुलिस चौकियां जला डाली। एहतियात के तौर पर शनिवार दोपहर तक के लिए इंटरनेट बंद कर दिया गया है। मामले की जांच की जा रही है। नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में आज संभावित भारत बंद की आशंका के मद्देनजर इंटरनेट सेवाएं बृहस्पतिवार रात 12 बजे से बंद कर दी गईं। ये शुक्रवार शाम छह बजे तक बंद रहेंगी। वहीं शहर और देहात के संवेदनशील इलाकों में पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है। विरोध के नाम पर हिंसा करने वालों के खिलाफ गैंगस्टर और रासुका की कार्रवाई की जाएगी। नागरिकता कानून को लेकर लखनऊ में हुए हिंसक प्रदर्शन के बाद कानपुर और उन्नाव में जियो ने इंटरनेट की सेवाएं बंद कर दी हैं। वही उन्नाव में नागरिकता कानून को लेकर जुमे की नमाज के प्रदर्शन की सुगबुगाहट पर प्रशासन अलर्ट हो गया है।