बाराबंकी: भ्रष्टाचार के मामले में BJP विधायक की शिकायत पर हटाए गये जैदपुर के प्रभारी व अन्य पुलिस कर्मी

corruption case
बाराबंकी: भ्रष्टाचार के मामले में BJP विधायक की शिकायत पर हटाए गये जैदपुर के प्रभारी व अन्य पुलिस कर्मी

बाराबंकी। जीरो टॉलरेंस वाली या्ेगी सरकार में अगर भृष्टाचार का कोई भी मामला आता है तो उसपर तुरंत ऐक्शन होता है. उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले के जैदपुर थाने में फैले भ्रष्टाचार मामले में भी शिकायत के बाद बड़ा असर हुआ है. यहां भ्रष्टाचार के आरोपी दोनों प्रभारी निरीक्षकों को तीनों कांस्टेबलों के बाद लाइन हाजिर कर दिया गया है. बता दें कि भाजपा विधायक शरद अवस्थी ने जैदपुर थाने में मची लूट का खुलासा किया था. शरद अवस्थी ने पूरे मामले में डीजीपी को पत्र लिखकर शिकायत की थी.

Barabanki In Charge Of Zaidpur And Other Police Personnel Removed On Complaint Of Bjp Mla In Corruption Case :

शरद अवस्थी ने जैदपुर थाने पर तैनात प्रभारी निरीक्षक अमरेश सिंह बघेल और धनंजय सिंह समेत वहां तैनात कॉन्स्टेबल गजेंद्र सिंह, सर्वेश सिंह और मोहम्मद शाहनवाज पर गंभीर आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ आरोप लगाया था. इस शिकायत में प्रभारी निरक्षक अमरेश सिंह बघेल पर 5 करोड़ का बंगला बनवाने का आरोप लगाया गया. वहीं प्रभारी निरक्षक धनंजय सिंह पर भी थाने में जमकर लूट मचाने आरोप लगा था. इसके अलावा आरोपी तीन कांस्टेबलों पर ट्रांसफर के बाद भी थाने में जमे रहने का आरोप लगाया गया था. मामले के तूल पकड़ने के बाद बाराबंकी एसपी कार्रवाई करते हुए सभी को लाइन हाजिर कर दिया है. इसमें कांस्टेबलों को कुछ दिन पहले लाइन हाजिर करने के बाद अब दोनों प्रभारी निरक्षकों पर भी कार्रवाई हो गई है.

विधायक का आरोप था कि बाराबंकी के जैदपुर थाने पर तैनात दो प्रभारी निरीक्षकों में से एक लखनऊ में 5 करोड़ का बंगला बनवा रहा है, जबकि दूसरा भी जमकर लूट-खसोट कर मोटी कमाई कर रहा है. विधायक का आरोप है कि यहां तैनात कॉन्स्टेबलों के पास भी एक से एक लग्जरी गाड़ी और आलीशान मकान हैं.

शरद अवस्थी ने आरोप लगाया कि एसपी द्वारा किए गए तबादले में कांस्टेबल गजेंद्र सिंह का तबादला फतेहपुर, कांस्टेबल सर्वेश सिंह का तबादला घुंघटेर और कॉन्स्टेबल मोहम्मद शाहनवाज को जहांगीराबाद थाने भेजा गया था. लेकिन, ये तीनों जैदपुर थाने पर ही काम कर रहे थे. इन कांस्टेबलों को अमरेश सिंह बघेल और धनंजय सिंह अपनी शह दिए हुए हैं और सभी की मिलीभगत से यह गोरखधंधा चल रहा है.

बता दें बाराबंकी का जैदपुर कस्बा अफीम की खेती के लिए देश और विदेश में जाना जाता है. जैदपुर कस्बे को विदेशों में लोग अफीम हब के रूप में जानते हैं, लेकिन इस बार जैदपुर कस्बा नहीं यहां का थाना चर्चा में है. जहां तैनाती के बाद थानेदार से लेकर कॉन्स्टेबल तक अकूत संपत्ति के मालिक हो जाते हैं. विधायक के गंभीर आरोपों के बाद बाराबंकी के पूरे पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ है.

बाराबंकी। जीरो टॉलरेंस वाली या्ेगी सरकार में अगर भृष्टाचार का कोई भी मामला आता है तो उसपर तुरंत ऐक्शन होता है. उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले के जैदपुर थाने में फैले भ्रष्टाचार मामले में भी शिकायत के बाद बड़ा असर हुआ है. यहां भ्रष्टाचार के आरोपी दोनों प्रभारी निरीक्षकों को तीनों कांस्टेबलों के बाद लाइन हाजिर कर दिया गया है. बता दें कि भाजपा विधायक शरद अवस्थी ने जैदपुर थाने में मची लूट का खुलासा किया था. शरद अवस्थी ने पूरे मामले में डीजीपी को पत्र लिखकर शिकायत की थी. शरद अवस्थी ने जैदपुर थाने पर तैनात प्रभारी निरीक्षक अमरेश सिंह बघेल और धनंजय सिंह समेत वहां तैनात कॉन्स्टेबल गजेंद्र सिंह, सर्वेश सिंह और मोहम्मद शाहनवाज पर गंभीर आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ आरोप लगाया था. इस शिकायत में प्रभारी निरक्षक अमरेश सिंह बघेल पर 5 करोड़ का बंगला बनवाने का आरोप लगाया गया. वहीं प्रभारी निरक्षक धनंजय सिंह पर भी थाने में जमकर लूट मचाने आरोप लगा था. इसके अलावा आरोपी तीन कांस्टेबलों पर ट्रांसफर के बाद भी थाने में जमे रहने का आरोप लगाया गया था. मामले के तूल पकड़ने के बाद बाराबंकी एसपी कार्रवाई करते हुए सभी को लाइन हाजिर कर दिया है. इसमें कांस्टेबलों को कुछ दिन पहले लाइन हाजिर करने के बाद अब दोनों प्रभारी निरक्षकों पर भी कार्रवाई हो गई है. विधायक का आरोप था कि बाराबंकी के जैदपुर थाने पर तैनात दो प्रभारी निरीक्षकों में से एक लखनऊ में 5 करोड़ का बंगला बनवा रहा है, जबकि दूसरा भी जमकर लूट-खसोट कर मोटी कमाई कर रहा है. विधायक का आरोप है कि यहां तैनात कॉन्स्टेबलों के पास भी एक से एक लग्जरी गाड़ी और आलीशान मकान हैं. शरद अवस्थी ने आरोप लगाया कि एसपी द्वारा किए गए तबादले में कांस्टेबल गजेंद्र सिंह का तबादला फतेहपुर, कांस्टेबल सर्वेश सिंह का तबादला घुंघटेर और कॉन्स्टेबल मोहम्मद शाहनवाज को जहांगीराबाद थाने भेजा गया था. लेकिन, ये तीनों जैदपुर थाने पर ही काम कर रहे थे. इन कांस्टेबलों को अमरेश सिंह बघेल और धनंजय सिंह अपनी शह दिए हुए हैं और सभी की मिलीभगत से यह गोरखधंधा चल रहा है. बता दें बाराबंकी का जैदपुर कस्बा अफीम की खेती के लिए देश और विदेश में जाना जाता है. जैदपुर कस्बे को विदेशों में लोग अफीम हब के रूप में जानते हैं, लेकिन इस बार जैदपुर कस्बा नहीं यहां का थाना चर्चा में है. जहां तैनाती के बाद थानेदार से लेकर कॉन्स्टेबल तक अकूत संपत्ति के मालिक हो जाते हैं. विधायक के गंभीर आरोपों के बाद बाराबंकी के पूरे पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ है.