बहू की आबरू बचाते हुए गयी ससुर की जान, आरोपी गिरफ्तार

बाराबंकी: कहा जाता है कि ससुराल में लड़की को पिता के रूप में ससुर मिलता है जो उसे एक बेटी की तरह से उसकी रक्षा करता है। यह कहावत उस समय सही साबित हुयी जब बाराबंकी में एक ससुर ने अपनी बहू की आबरू बचाते हुए अपनी जान दे दी। ससुर ने बहू की अस्मत तो बचा ली मगर दबंगों ने उसे इतना पीटा कि इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी। घटना की जानकारी होते ही पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ दबिश देनी शुरू कर दी और सात में से छह आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार भी कर लिया ।



मामला जनपद बाराबंकी के थाना दरियाबाद इलाके के कोड़रा गाँव का है। जहाँ एक वृद्ध की कुछ दबंगों ने पीट -पीट कर हत्या कर दी। पीड़ित महिला की अगर माने तो वह पड़ोस के एक किराने की दुकान से कुछ सामान लेने गयी थी। दुकान तक वह पहुँच ही नहीं पायी थी कि शुभम और मनोज ने उससे छेड़छाड़ शुरू कर दी। महिला द्वारा छेड़-छाड़ का विरोध करने पर दबंगों ने उसकी अस्मत लूटने का प्रयास करने लगे। जब महिला की हिम्मत हार गयी तब उसने शोर मचाना शुरू कर दिया।

शोर सुनकर कुछ लोगों के साथ महिला का ससुर भी आ गया और कहासुनी धीरे -धीरे मारपीट में बदल गयी। पीड़ित महिला की अगर माने तो ससुर ने जब उसकी अस्मत लूटने का प्रयास कर रहे दबंगों से झगड़ा शुरू किया तो दबंगों ने उल्टा ससुर को ही लाठी -डंडों से पीटना शुरू कर दिया। लहूलुहान ससुर को परिजनों ने आनन् -फानन अस्पताल पहुँचाया जहाँ इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी ।

पीड़ित महिला की माने तो यह सारा मामला शुरू होता है पिछले साल हुए ग्राम पंचायत के चुनाव से। आरोपियों को इस महिला ने पंचायत के चुनाव में वोट नहीं दिया था। तभी से इन दबंगों की नज़रों में यह परिवार चढ़ा हुआ था। इसी कारण आज महिला को अकेला पाकर दबंगों ने महिला की अस्मत लूटने का प्रयास किया। बाराबंकी के अपर पुलिस अधीक्षक सफीक अहमद ने बताया कि पीड़ित महिला की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। सात आरोपियों में से छह को गिरफ्तार कर लिया गया है। जांच में जो भी तथ्य सामने आएंगे उसी के अनुसार आगे की कार्यवाई की जाएगी।