1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. बसंत पंचमी स्पेशल: जब मां सरस्वती के रूप में प्रकट हुईं दिव्य देवी, जानिए माता के अवतरण की कथा

बसंत पंचमी स्पेशल: जब मां सरस्वती के रूप में प्रकट हुईं दिव्य देवी, जानिए माता के अवतरण की कथा

By आराधना शर्मा 
Updated Date

नई दिल्ली: वसंत को ऋतुओं का राजा कहा जाता है। इस ऋतु में मौसम खूबसूरत हो जाता है। फूल, पत्ते, आकाश, धरती सब पर बहार आ जाती है। सारे पुराने पत्ते झड़ जाते हैं और नए फूल आने लगते हैं। प्रकृति के इस अनोखे दृश्य को देख हर व्यक्ति का मन मोह जाता है। मौसम के इस सुहावने मौके को उत्सव की तरह मनाया जाता है। वसंत पंचमी को श्री पंचमी तथा ज्ञान पंचमी भी कहते हैं।

पढ़ें :- Maharashtra Politics: उद्धव ठाकरे और शिंदे गुट में खींचतान बढ़ी, अब किसको मिलेगा शिवसेना का धनुष-बाण?

मां सरस्वती के अवतरण की कथा

सृष्टि की रचना का कार्य भगवान विष्णु ने ब्रह्मा जी को दिया। सृष्टि निर्माण के बाद उदासी से भरा वातावरण देख वे विष्णु जी के पास गए और सुझाव मांगा। फिर विष्णु जी के मार्गदर्शन अनुसार उन्होंने अपने कमंडल से जल लेकर धरती पर छिड़का। तब एक चतुर्भुज सुंदरी हुई, जिसने जीवों को वाणी प्रदान की।

यह देवी विद्या, बुद्धि और संगीत की देवी थीं, उनके आने से सारा वातावरण संगीतमय और सरस हो उठा इसलिए उन्हें सरस्वती देवी कहा गया।
इसलिए इस दिन सरस्वती देवी का जन्म बड़े उल्लास के साथ मनाया जाता है और इनकी पूजा भी की जाती है। इस दिन लोग अपने घरों में सरस्वती यंत्र स्थापित करते हैं।

इस दिन 108 बार सरस्वती मंत्र के जाप करने से अनेक फायदे होते हैं। इस दिन बच्चों की जुबान पर केसर रख कर नीचे दिए गए मंत्र का उच्चारण कराया जाता है…इससे वाणी, बुद्धि और विवेक का शुभ आशीष मिलता है। वसंत ऋतु के बारे में ऋग्वेद में भी उल्लेख मिलता है। प्रणो देवी सरस्वती वाजेभिर्वजिनीवती धीनामणित्रयवतु। इसका अर्थ है सरस्वती परम् चेतना हैं। वे हमारी बुद्धि, समृद्धि तथा मनोभावों की सुरक्षा करती हैं… भगवान श्री कृष्ण ने गीता में वसंत को अपनी विभूति माना है और कहा है ‘ऋतुनां कुसुमाकरः’

पढ़ें :- प्रशांत किशोर को तेजस्वी पर हमला, कहा-लालू यादव के बेटे हैं इसलिए बने डिप्टी सीएम, नौवीं पास को चपरासी की भी नौकरी नहीं मिलती

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...