1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Basant Panchmi 2022: मनमोहक वातावरण में विद्या की देवी का पीले पुष्प से करें विधिवत पूजा

Basant Panchmi 2022: मनमोहक वातावरण में विद्या की देवी का पीले पुष्प से करें विधिवत पूजा

ऋतुओं के राजा वसंत का आगमन हो गया है। वातावरण में हर तरफ पीले रंग की छटा बिखरी हुई है। हिंदू पंचांग के अनुसार माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को देवी की पूजा उत्सव के रूप में मनाये जाने की परंपरा है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Basant Panchmi 2022 : ऋतुओं के राजा बसंत का आगमन हो गया है। वातावरण में हर तरफ पीले रंग की छटा बिखरी हुई है। हिंदू पंचांग के अनुसार माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को देवी की पूजा उत्सव के रूप में मनाये जाने की परंपरा है। इस बार ये पूजा 5 फरवरी के दिन होने का मुहूर्त है। देवी सरस्वती की पूजा करने के लिए भक्त पीले वस्त्र धारण करके मां को पीले पुष्प अर्पित करते है। मां को पीला रंग अति प्रिय है।

पढ़ें :- Ashadh ki maasik shivaraatri 2022 : आषाढ़ मासिक शिवरात्रि पर पूरे दिन सर्वार्थ सिद्धि योग बना हुआ है, करें भागवान भोले नाथ की पूजा अर्चना

इस समय सरसों के फूल खेतों में लहलहाते रहते है। वातावरण में मनमोहक सुगंध विखरी रहती है। देवी की पूजा उत्सव के रूप में मनाये जाने की परंपरा है।बसंत ऋतु का प्रकृति, साहित्य व मानव जीवन में विशेष महत्व है। यह माह विद्या की देवी सरस्वती के जन्मोत्सव का भी माना जाता है। जिससे शीत ऋतु के बाद वसंत का मौसम प्रत्येक प्राणी के लिए आकर्षित करता है। आईये जानते है बसंत पंचमी की पूजा के बारे में।

माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि
प्रारंभ 05 फरवरी यानी शनिवार को प्रातः: 03:47 बजे से  रविवार को प्रातः: 03:46 बजे तक
पूजन का मुहूर्त सुबह 07:07 बजे से लेकर दोपहर 12:35 तक
सिद्ध योग शाम 05 बजकर 42 मिनट तक

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...