छेड़छाड़ के आरोपियों पर मेहरबान रही कानपुर पुलिस, BCA की छात्रा ने कर ली आत्महत्या

kanpur bca student suicide
छेड़छाड़ के आरोपियों पर मेहरबान रही कानपुर पुलिस, BCA की छात्रा ने कर ली आत्महत्या

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के कानपुर में शोहदों की छेड़छाड़ से आहत बीसीए की छात्रा ने आत्महत्या कर ली। परिजनों का आरोप है कि शिकायत के बाद पुलिस ने इस मामले में आरोपियों को गिरफ्तार करने के बजाय सुलह करने का दबाव बनाया और सादे कागज पर छात्रा और आरोपियों से हस्ताक्षर करा लिए। इस घटना के बाद कानपुर यूनिवर्सिटी के छात्रों ने मृतका को न्याय दिलाने के लिए आंदोलन शुरू कर दिया है।

Bca Student Committed Suicide By Hanging Himself In Kanpur :

मिली जानकारी के मुताबिक, कानपुर शहर के आदर्श नगर, रावतपुर निवासी डॉ. दिनेश शर्मा की बड़ी बेटी डॉ. सोनम शर्मा बीडीएस करने के बाद लखनऊ के एक अस्पताल में नौकरी कर रही है। छोटी बेटी ऐश्वर्या (24) सीएसजेएमयू (कानपुर यूनिवर्सिटी) में बीसीए (बैचलर ऑफ कंप्यूटर अप्लीकेशन) द्वितीय वर्ष की छात्रा थी। आरोप है कि ऐश्वर्या के क्लास में पढ़ने वाला अनिकेत दीक्षित, बीसीए तृतीय वर्ष का छात्र अनिकेत पांडेय दोस्ती करने के लिए उसे परेशान करते थे। इसका विरोध करने बेटी के साथ छेड़छाड़, गाली गलौज व अश्लील कमेंट करते थे।

पिता का कहना है कि आरोपी छात्र बेटी को अगवा करने की धमकी भी देते थे। 31 जनवरी 2018 को ऐश्वर्या ने विश्वविद्यालय के निदेशक को पूरे मामले की लिखित जानकारी दी। इस पर निदेशक ने ऐश्वर्या और अनिकेत का सेक्शन बदलने का निर्देश दिया था। इसकी जानकारी एचओडी ममता तिवारी को हुई, तो उन्होंनेे आरोपियों का साथ देते हुए ऐश्वर्या पर शिकायत वापस लेने का दबाव बनाया।

इसके बाद उन्होंने छह फरवरी को कल्याणपुर थाने में दोनों छात्रों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इसकी विवेचना विश्वविद्यालय चौकी प्रभारी अजय कुमार मिश्रा को सौंपी गई थी। जब दिनेश अपनी बेटी को लेकर चौकी पहुंचे तो पुलिस ने उन पर सुलह करने का दबाव बनाया। चौकी प्रभारी ने कहा कि अगर वो दोनों जेल जाएंगे तो तुम लोग भी जेल जाओगे। इसलिए मुकदमे बाजी में न फंसो।

हालांकि पुलिस की टालमटोल के बाद आरोपियों की हरकतें बंद नहीं हुई। जिसके बाद सोमवार सुबह ऐेश्वर्या ने कमरे में दुपट्टे के सहारे छत पर लगे कुंडे से फांसी लगा ली। सीओ कल्याणपुर राजेश पांडेय, इंस्पेक्टर समीर सिंह ने फोरेंसिक टीम के साथ मौके पर पहुंचकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा और परिजनों से पूछताछ की।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के कानपुर में शोहदों की छेड़छाड़ से आहत बीसीए की छात्रा ने आत्महत्या कर ली। परिजनों का आरोप है कि शिकायत के बाद पुलिस ने इस मामले में आरोपियों को गिरफ्तार करने के बजाय सुलह करने का दबाव बनाया और सादे कागज पर छात्रा और आरोपियों से हस्ताक्षर करा लिए। इस घटना के बाद कानपुर यूनिवर्सिटी के छात्रों ने मृतका को न्याय दिलाने के लिए आंदोलन शुरू कर दिया है।मिली जानकारी के मुताबिक, कानपुर शहर के आदर्श नगर, रावतपुर निवासी डॉ. दिनेश शर्मा की बड़ी बेटी डॉ. सोनम शर्मा बीडीएस करने के बाद लखनऊ के एक अस्पताल में नौकरी कर रही है। छोटी बेटी ऐश्वर्या (24) सीएसजेएमयू (कानपुर यूनिवर्सिटी) में बीसीए (बैचलर ऑफ कंप्यूटर अप्लीकेशन) द्वितीय वर्ष की छात्रा थी। आरोप है कि ऐश्वर्या के क्लास में पढ़ने वाला अनिकेत दीक्षित, बीसीए तृतीय वर्ष का छात्र अनिकेत पांडेय दोस्ती करने के लिए उसे परेशान करते थे। इसका विरोध करने बेटी के साथ छेड़छाड़, गाली गलौज व अश्लील कमेंट करते थे।पिता का कहना है कि आरोपी छात्र बेटी को अगवा करने की धमकी भी देते थे। 31 जनवरी 2018 को ऐश्वर्या ने विश्वविद्यालय के निदेशक को पूरे मामले की लिखित जानकारी दी। इस पर निदेशक ने ऐश्वर्या और अनिकेत का सेक्शन बदलने का निर्देश दिया था। इसकी जानकारी एचओडी ममता तिवारी को हुई, तो उन्होंनेे आरोपियों का साथ देते हुए ऐश्वर्या पर शिकायत वापस लेने का दबाव बनाया।इसके बाद उन्होंने छह फरवरी को कल्याणपुर थाने में दोनों छात्रों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इसकी विवेचना विश्वविद्यालय चौकी प्रभारी अजय कुमार मिश्रा को सौंपी गई थी। जब दिनेश अपनी बेटी को लेकर चौकी पहुंचे तो पुलिस ने उन पर सुलह करने का दबाव बनाया। चौकी प्रभारी ने कहा कि अगर वो दोनों जेल जाएंगे तो तुम लोग भी जेल जाओगे। इसलिए मुकदमे बाजी में न फंसो।हालांकि पुलिस की टालमटोल के बाद आरोपियों की हरकतें बंद नहीं हुई। जिसके बाद सोमवार सुबह ऐेश्वर्या ने कमरे में दुपट्टे के सहारे छत पर लगे कुंडे से फांसी लगा ली। सीओ कल्याणपुर राजेश पांडेय, इंस्पेक्टर समीर सिंह ने फोरेंसिक टीम के साथ मौके पर पहुंचकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा और परिजनों से पूछताछ की।