B’day Special: क्रिकेटर से पॉलिटिशियन बने गंभीर ने भारत को दिलाए हैं दो वर्ल्ड कप

gambhir
B'day Special: क्रिकेटर से पॉलिटिशियन बने गंभीर ने भारत को दिलाए हैं दो वर्ल्ड कप

नई दिल्ली। टीम इंडिया के पूर्व ओपनर गौतम गंभीर आज अपना 38वां जन्मदिन मना रहे हैं। गंभीर भले ही क्रिकेट को अलविदा कहकर अपनी राजनीतिक पारी शुरू कर चुके हों, लेकिन गंभीर ऐसे बल्लेबाज हैं, जिन्होंने भारत को दो विश्व कप दिलाए हैं। 2007 आईसीसी वर्ल्ड ट्वेंटी 20 का फाइनल हो या 2011 आईसीसी विश्व कप का फाइनल दोनों मैचों में गंभीर ने जीत की नींव रखी थी। 14 अक्टूबर 1981 को जन्मे गंभीर राजनीति की नई पारी भी एक सलामी बल्लेबाज की तरह ही शुरू की है।

Bday Special Gambhir Birthday Top Scorer 2007 T20 World Cup Final 2011 World Cup Final :

आईसीसी वर्ल्ड ट्वेंटी20 के फाइनल के हेरो से गंभीर  

2003 में उन्होंने अपना पहला वनडे इंटरनेशनल मैच और उसके एक साल बाद अपना पहला टेस्ट मैच खेला था। गंभीर ने 2007 आईसीसी वर्ल्ड ट्वेंटी20 के फाइनल मैच में पाकिस्तान के खिलाफ 54 गेंद पर 75 रनों की पारी खेली थी। भारत की ओर से वो बेस्ट स्कोरर भी रहे थे। भारत ने पाकिस्तान को 5 रनों से हराकर खिताब अपने नाम किया था।

2011 विश्व कप के फाइनल मैच में खेले थे शानदार 97 रन की पारी

इसके बाद 2011 विश्व कप के फाइनल मैच में भारत ने 31 रनों तक वीरेंद्र सहवाग और सचिन तेंदुलकर का विकेट गंवा दिया था। भारत के सामने जीत के लिए 275 का लक्ष्य था। तब गंभीर ने तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए 97 रन बनाए थे। इस मैच में उस समय के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने नॉटआउट 91 रन बनाकर भारत को जीत दिलाई थी, लेकिन इस जीत की नींव गंभीर ने ही रखी थी।

लगातार पांच टेस्ट मैचों में सेंचुरी लगाने वाले एकलौते खिलाड़ी है गंभीर

वहीं टेस्ट क्रिकेट की बात करें तो दुनिया के महज चार ऐसे बल्लेबाज हैं, जिन्होंने लगातार पांच या इससे अधिक टेस्ट मैचों में सेंचुरी ठोकी है। इसमें गौतम गंभीर का नाम भी शामिल है। सर डॉन ब्रैडमैन ने लगातार छह टेस्ट मैचों में सेंचुरी ठोकी है, जबकि जैक्स कालिस, मोहम्मद यूसुफ और गौतम गंभीर ने लगातार पांच टेस्ट मैचों में शतक जड़े हैं।  

नई दिल्ली। टीम इंडिया के पूर्व ओपनर गौतम गंभीर आज अपना 38वां जन्मदिन मना रहे हैं। गंभीर भले ही क्रिकेट को अलविदा कहकर अपनी राजनीतिक पारी शुरू कर चुके हों, लेकिन गंभीर ऐसे बल्लेबाज हैं, जिन्होंने भारत को दो विश्व कप दिलाए हैं। 2007 आईसीसी वर्ल्ड ट्वेंटी 20 का फाइनल हो या 2011 आईसीसी विश्व कप का फाइनल दोनों मैचों में गंभीर ने जीत की नींव रखी थी। 14 अक्टूबर 1981 को जन्मे गंभीर राजनीति की नई पारी भी एक सलामी बल्लेबाज की तरह ही शुरू की है। आईसीसी वर्ल्ड ट्वेंटी20 के फाइनल के हेरो से गंभीर   2003 में उन्होंने अपना पहला वनडे इंटरनेशनल मैच और उसके एक साल बाद अपना पहला टेस्ट मैच खेला था। गंभीर ने 2007 आईसीसी वर्ल्ड ट्वेंटी20 के फाइनल मैच में पाकिस्तान के खिलाफ 54 गेंद पर 75 रनों की पारी खेली थी। भारत की ओर से वो बेस्ट स्कोरर भी रहे थे। भारत ने पाकिस्तान को 5 रनों से हराकर खिताब अपने नाम किया था। 2011 विश्व कप के फाइनल मैच में खेले थे शानदार 97 रन की पारी इसके बाद 2011 विश्व कप के फाइनल मैच में भारत ने 31 रनों तक वीरेंद्र सहवाग और सचिन तेंदुलकर का विकेट गंवा दिया था। भारत के सामने जीत के लिए 275 का लक्ष्य था। तब गंभीर ने तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए 97 रन बनाए थे। इस मैच में उस समय के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने नॉटआउट 91 रन बनाकर भारत को जीत दिलाई थी, लेकिन इस जीत की नींव गंभीर ने ही रखी थी। लगातार पांच टेस्ट मैचों में सेंचुरी लगाने वाले एकलौते खिलाड़ी है गंभीर वहीं टेस्ट क्रिकेट की बात करें तो दुनिया के महज चार ऐसे बल्लेबाज हैं, जिन्होंने लगातार पांच या इससे अधिक टेस्ट मैचों में सेंचुरी ठोकी है। इसमें गौतम गंभीर का नाम भी शामिल है। सर डॉन ब्रैडमैन ने लगातार छह टेस्ट मैचों में सेंचुरी ठोकी है, जबकि जैक्स कालिस, मोहम्मद यूसुफ और गौतम गंभीर ने लगातार पांच टेस्ट मैचों में शतक जड़े हैं।