एक DM ऐसा भी: ड्राईवर को बैठाकर खुद चलायी कार, दिया अनोखा रिटायरमेंट गिफ्ट

Beautiful Farewell Gift Given By The Collector To His Driver

मुंबई। सरकारी महकमे में कार्यरत कर्मचारियों का सबसे भावुक पल वो होता है, जब वह अपने पद से सेवानिवृत्त होते हैं। अपने जीवन के कई साल एक महकमे में काम करने के बाद जब आखिरी समय में किसी को कोई चौंकाने वाला तोहफा मिल जाये, तो उसके लिए इससे खास चीज़ क्या हो सकती है। एक ऐसा ही मामला महाराष्ट्र के अकोला में देखने को मिला, जहां के जिलाधिकारी ने अपने ड्राईवर के रिटायरमेंट वाले दिन एक अनोखा काम किया।




डीएम श्रीकांत ने अपने ड्राइवर को रिटायरमेंट का यूनिक गिफ्ट देने का फैसला किया। सबसे पहले तो कलेक्टर ने अपनी लाल बत्ती वाली गाड़ी को फूलों से सजवाया। उसके बाद कार की पीछे वाली सीट पर ड्राइवर को बैठाया फिर खुद कार चलाकर ऑफिस तक पहुंचाया। इसके बाद दफ्तर में विदाई समारोह भी आयोजित की गई। इसके बाद ड्राइवर दिंगबर को पिछली सीट पर बैठा कर खुद चालक बन कर उसे घर तक छोड़ा।

आपको बता दें कि 58 साल के दिगंबर ने जिले के 18 कलेक्टरों के लिए गाड़ी चलाई है। और 4 नवंबर उनके काम का आखिरी दिन था। ड्राईवर दिगंबर के कार्य को सम्‍मानित करते हुए श्रीकांत ने कहा कि दिंगबर ने 35 साल तक राज्य को अपनी सेवाएं दी है। मैं इस दिन को उसके लिए यादगार बनाकर उसका शुक्रिया अदा करना चाहता था।



मुंबई। सरकारी महकमे में कार्यरत कर्मचारियों का सबसे भावुक पल वो होता है, जब वह अपने पद से सेवानिवृत्त होते हैं। अपने जीवन के कई साल एक महकमे में काम करने के बाद जब आखिरी समय में किसी को कोई चौंकाने वाला तोहफा मिल जाये, तो उसके लिए इससे खास चीज़ क्या हो सकती है। एक ऐसा ही मामला महाराष्ट्र के अकोला में देखने को मिला, जहां के जिलाधिकारी ने अपने ड्राईवर के रिटायरमेंट वाले दिन एक अनोखा काम किया।…