दिल्ली में मतदान से पहले शिवसेना ने केजरीवाल सरकार की तारीफ की, भाजपा को दी ये सवाल

shivsena
दिल्ली में मतदान से पहले शिवसेना ने केजरीवाल सरकार की तारीफ की, भाजपा को दी ये सवाल

नई दिल्ली। दिल्ली विधानसभा चुनावों के लिए मतदान 8 फरवरी को होना है। चुनाव से ठीक पहले शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की पांच वर्षों में किए गए कार्यों के लिए जमकर तारीफ की। शिवसेना ने कहा कि केंद्र को अन्य राज्यों में विकास के लिए ‘दिल्ली मॉडल’अपनाना चाहिए।

Before Voting In Delhi Shiv Sena Praised Kejriwal Government Gave This Question To Bjp :

शिवसेना ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी या केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को दिल्ली में वादे पूरे करने के लिए केजरीवाल सरकार को बधाई देनी चाहिए। इसके बजाय भाजपा के वरिष्ठ नेता चुनाव जीतने की कोशिश में हिंदू और मुस्लिम का मुद्दा उठा रहे हैं।

शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमित शाह दिल्ली विधानसभा चुनाव में कोई कसर नहीं छोड़ना चाह रहे। भाजपा महाराष्ट्र में सत्ता में नहीं आ पाई और झारखंड में भी उन्हें हार मिली। अब भाजपा दिल्ली जीतना चाहती है और इसमें कुछ गलत भी नहीं है।

शिवसेना ने कहा कि दिल्ली चुनाव जीतने के लिए देश भर के 200 सांसद, भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री और पूरा केंद्रीय मंत्रिमंडल मैदान में कूद पड़ा है। इसके बावजूद अरविंद केजरीवाल अकेले ही मजूबती से उभरे हैं। शिवसेना ने कहा कि केजरीवाल के नजरिए और काम करने के तरीके पर मतभेद हो सकते हैं, ‘लेकिन सीमित समय तक सत्ता हाथ में रहने और केंद्र की तरफ से मुश्किलें खड़ी करने के बावजूद, स्वास्थ्य, शिक्षा, नागरिक सुविधाओं में उनकी सरकार का काम आदर्श है।

शिवसेना ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी और उनके मंत्रिमंडल को अन्य राज्यों में ‘दिल्ली मॉडल लागू करना चाहिए और केजरीवाल के दृष्टिकोण को पूरे देश में इस्तेमाल करना चाहिए। इसके बजाए केजरीवाल को गलत साबित करने के सभी प्रयास किए जा रहे हैं।

नई दिल्ली। दिल्ली विधानसभा चुनावों के लिए मतदान 8 फरवरी को होना है। चुनाव से ठीक पहले शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की पांच वर्षों में किए गए कार्यों के लिए जमकर तारीफ की। शिवसेना ने कहा कि केंद्र को अन्य राज्यों में विकास के लिए 'दिल्ली मॉडल'अपनाना चाहिए। शिवसेना ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी या केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को दिल्ली में वादे पूरे करने के लिए केजरीवाल सरकार को बधाई देनी चाहिए। इसके बजाय भाजपा के वरिष्ठ नेता चुनाव जीतने की कोशिश में हिंदू और मुस्लिम का मुद्दा उठा रहे हैं। शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमित शाह दिल्ली विधानसभा चुनाव में कोई कसर नहीं छोड़ना चाह रहे। भाजपा महाराष्ट्र में सत्ता में नहीं आ पाई और झारखंड में भी उन्हें हार मिली। अब भाजपा दिल्ली जीतना चाहती है और इसमें कुछ गलत भी नहीं है। शिवसेना ने कहा कि दिल्ली चुनाव जीतने के लिए देश भर के 200 सांसद, भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री और पूरा केंद्रीय मंत्रिमंडल मैदान में कूद पड़ा है। इसके बावजूद अरविंद केजरीवाल अकेले ही मजूबती से उभरे हैं। शिवसेना ने कहा कि केजरीवाल के नजरिए और काम करने के तरीके पर मतभेद हो सकते हैं, 'लेकिन सीमित समय तक सत्ता हाथ में रहने और केंद्र की तरफ से मुश्किलें खड़ी करने के बावजूद, स्वास्थ्य, शिक्षा, नागरिक सुविधाओं में उनकी सरकार का काम आदर्श है। शिवसेना ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी और उनके मंत्रिमंडल को अन्य राज्यों में 'दिल्ली मॉडल लागू करना चाहिए और केजरीवाल के दृष्टिकोण को पूरे देश में इस्तेमाल करना चाहिए। इसके बजाए केजरीवाल को गलत साबित करने के सभी प्रयास किए जा रहे हैं।