बेलगाम सीमा विवाद: कर्नाटक सीएम बोले-महाराष्ट्र को नहीं देंगे एक इंच भी जमीन, शिवसेना ने किया था विरोध

CM Yeddyurappa
कोरोना संकट: येदियुरप्पा सरकार ड्राइवरों और नाइयों को देगी 5-5 हजार रुपये

नई दिल्ली। महाराष्ट्र और कर्नाटक के बीच चल रहा बेलगाम सीमा विवाद बढ़ता जा रहा है। दोनों राज्यों के बीच सीमा विवाद को लेकर एक बार फिर राजनीति गरमा गई है। सीमा विवाद को लेकर रविवार शिवसेना कार्यकर्ताओं ने कर्नाटक सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्श किया था। इसके साथ ही सीएम येदियुरप्पा का पुतला भी जलाया था। बढ़ते विरोध के कारण शिवसेना कार्यकर्ताओं ने एक कन्नड़ फिल्म को सिनेमा घर में चलने से रोक दी थी।

Belgaum Border Dispute Karnataka Cm Said Maharashtra Will Not Give Even An Inch Of Land Shiv Sena Protested :

बेलगाम सीमा विवाद के बढ़ते ही कर्नाटक के सीएम बीएस येदियु​रप्पा ने कहा है कि महाजन आयोग के अनुसार यह स्प्ष्ट है कि कौन सा भाग महाराष्ट्र और कनार्टक को दिया गया है। उन्होंने कहा कि इस तरह का विवाद पैदा करना सही नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा है कि वह एक इंच भी जमीन नहीं देंगे। बता दें कि, महाराष्ट्र बेलगाम पर अपना दावा करता है। यहां पर सबसे ज्यादा मराठी भाषी लोग हैं और बड़ी आबादी है। इस कारण महाराष्ट्र इस पर अपना दावा करता है।

हालांकि यह अभी कनार्टक में है। कुछ दिनों पूर्व एक एक कन्नड़ संगठन की ओर से महाराष्ट्र एकीकरण समिति (एमईएस) पर की गई टिप्पणी के बाद बेलगाम को लेकर जारी दशकों पुराना यह विवाद फिर से गरमा गया। महाराष्ट्र एकीकरण समिति कर्नाटक के मराठी भाषी आबादी वाले इलाकों को महाराष्ट्र में सम्मिलित करने के लिए संघर्ष कर रही है।

नई दिल्ली। महाराष्ट्र और कर्नाटक के बीच चल रहा बेलगाम सीमा विवाद बढ़ता जा रहा है। दोनों राज्यों के बीच सीमा विवाद को लेकर एक बार फिर राजनीति गरमा गई है। सीमा विवाद को लेकर रविवार शिवसेना कार्यकर्ताओं ने कर्नाटक सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्श किया था। इसके साथ ही सीएम येदियुरप्पा का पुतला भी जलाया था। बढ़ते विरोध के कारण शिवसेना कार्यकर्ताओं ने एक कन्नड़ फिल्म को सिनेमा घर में चलने से रोक दी थी। बेलगाम सीमा विवाद के बढ़ते ही कर्नाटक के सीएम बीएस येदियु​रप्पा ने कहा है कि महाजन आयोग के अनुसार यह स्प्ष्ट है कि कौन सा भाग महाराष्ट्र और कनार्टक को दिया गया है। उन्होंने कहा कि इस तरह का विवाद पैदा करना सही नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा है कि वह एक इंच भी जमीन नहीं देंगे। बता दें कि, महाराष्ट्र बेलगाम पर अपना दावा करता है। यहां पर सबसे ज्यादा मराठी भाषी लोग हैं और बड़ी आबादी है। इस कारण महाराष्ट्र इस पर अपना दावा करता है। हालांकि यह अभी कनार्टक में है। कुछ दिनों पूर्व एक एक कन्नड़ संगठन की ओर से महाराष्ट्र एकीकरण समिति (एमईएस) पर की गई टिप्पणी के बाद बेलगाम को लेकर जारी दशकों पुराना यह विवाद फिर से गरमा गया। महाराष्ट्र एकीकरण समिति कर्नाटक के मराठी भाषी आबादी वाले इलाकों को महाराष्ट्र में सम्मिलित करने के लिए संघर्ष कर रही है।