किसी भी टाइप का हो बेली फैट, ऐसे करें आसानी से कम… ये हैं बेहतरीन उपाय

belly-fat-types

लखनऊ: सिटिंग जॉब और खुद का ख्याल न रखने की वजह से कई बार ऐसा देखा गया है कि बेली फैट कम होने का नाम नहीं लेकिन। साथ ही साथ कई बार व्यक्ति अपने मोटापे को लेकर बहुत परेशान हैं। लॉकडाउन के बाद से तो यह हालत और खराब हो चुकी हैं।

Belly Fat Of Any Type In This Way Reduce Easily :

ऐसे में शरीर में जमा चर्बी जिसे बैली फैट के नाम से जाना जाता है कि वजह से बीमारियां होने का डर भी बना रहता हैं। स्वस्थ रहने के लिए जरूरी हैं कि इस बैली फैट को कम किया जाए। लेकिन क्या आप जानते हैं कि बैली फैट के भी कई प्रकार हैं जिसे जानकर ही उसके अनुरूप उपाय कर इसे कम किया जा सकता हैं। तो आइये जानते हैं इसके बारे में।

अल्कोहल बैली

जैसे कि नाम से पता चल रहा है कि इस तरह के बैली फैट उन लोगों को होता है जो भारी मात्रा में अल्कोहल का सेवन करते है। असल में, वायन, शराब, बियर आदि ड्रिंक्स में भारी मात्रा में कैलोरी पाई जाती है। इसके अत्याधिक सेवन से पाचन तंत्र कमजोर होने के साथ यह शरीर के निचले भाग में प्रभाव डालता है।

इसके कारण शरीर में मोटापा आने लगता है। साथ ही इसके कारण शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने लगता है, जिससे दिल से संबंधित बीमारियों के होने का खतरा कई गुणा बढ़ जाता है।

कैसे करें कम?

इसके लिए अल्कोहल का सेवन बंद कर डाइट में हरी सब्जियां और ताजे फलों को शामिल करें। साथ ही रोजाना पेल्विक एरिया से जुड़ी एक्सरसाइज करें।

पोस्टपार्टम बैली

अक्सर डिलिवरी के बाद बॉडी के निचले भाग पर बहुत सी महिलाओं को अत्याधिक फैट जमा होने की परेशानी का सामना करना पड़ता है।

कैसे करें कम?

इसतरह का फैट को कम करने के लिए रोजाना एक्सरसाइज करना बेस्ट ऑप्शन है। इसके अलावा बॉडी मसाज के जरिए भी इसे कम किया जा सकता है। मगर इन दोनों कामों को उतना ही करें जितना आपकी बॉडी सहन कर सकें।

आपको बता दें, असल में बच्चे की डिलिवरी के बाद मां का शरीर बहुत ही कमजोर हो जाता है। ऐेसे में उसे अपनी सेहत का खास ध्यान रखने की जरूरत होती है। साथ ही जिन महिलाओं की डिलिवरी ऑपरेशन के द्वारा हुई हो उन्हें किसी भी तरह की एक्सरसाइज करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए।

हार्मोनल बैली

आज के समय में बहुत सी महिलाएं पीसीओडी की परेशानी से जुझ रही हैं। ऐसी स्थिति में शरीर में कई तरह के हार्मोनल चेंजिस होेते हैं। इस बदलाव के कारण ही कई हार्मोन्स बढ़ या कम हो जाते हैं। ऐसे में कई लोगों को पेट पर चर्बी जमा होने की परेशानी का सामना करना पड़ता है।

कैसे करें कम?

ऐसे में अपने हार्मोनल लेवल को सही करने के लिए अपनी डाइट में कुछ बदलाव लाने की जरूरत होती है। इसके लिए आप डॉक्टर या डायटिशियन की सलाह लेकर उनसे अपनी हैल्थ के मुताबिक डाइट चार्ट बनवा सकते हैं। ऐसे में इस डाइट चार्ट को फॉलो कर आप जल्दी ही इस परेशानी को दूर कर सकते हैं।

लखनऊ: सिटिंग जॉब और खुद का ख्याल न रखने की वजह से कई बार ऐसा देखा गया है कि बेली फैट कम होने का नाम नहीं लेकिन। साथ ही साथ कई बार व्यक्ति अपने मोटापे को लेकर बहुत परेशान हैं। लॉकडाउन के बाद से तो यह हालत और खराब हो चुकी हैं। ऐसे में शरीर में जमा चर्बी जिसे बैली फैट के नाम से जाना जाता है कि वजह से बीमारियां होने का डर भी बना रहता हैं। स्वस्थ रहने के लिए जरूरी हैं कि इस बैली फैट को कम किया जाए। लेकिन क्या आप जानते हैं कि बैली फैट के भी कई प्रकार हैं जिसे जानकर ही उसके अनुरूप उपाय कर इसे कम किया जा सकता हैं। तो आइये जानते हैं इसके बारे में।

अल्कोहल बैली

जैसे कि नाम से पता चल रहा है कि इस तरह के बैली फैट उन लोगों को होता है जो भारी मात्रा में अल्कोहल का सेवन करते है। असल में, वायन, शराब, बियर आदि ड्रिंक्स में भारी मात्रा में कैलोरी पाई जाती है। इसके अत्याधिक सेवन से पाचन तंत्र कमजोर होने के साथ यह शरीर के निचले भाग में प्रभाव डालता है। इसके कारण शरीर में मोटापा आने लगता है। साथ ही इसके कारण शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने लगता है, जिससे दिल से संबंधित बीमारियों के होने का खतरा कई गुणा बढ़ जाता है।

कैसे करें कम?

इसके लिए अल्कोहल का सेवन बंद कर डाइट में हरी सब्जियां और ताजे फलों को शामिल करें। साथ ही रोजाना पेल्विक एरिया से जुड़ी एक्सरसाइज करें।

पोस्टपार्टम बैली

अक्सर डिलिवरी के बाद बॉडी के निचले भाग पर बहुत सी महिलाओं को अत्याधिक फैट जमा होने की परेशानी का सामना करना पड़ता है।

कैसे करें कम?

इसतरह का फैट को कम करने के लिए रोजाना एक्सरसाइज करना बेस्ट ऑप्शन है। इसके अलावा बॉडी मसाज के जरिए भी इसे कम किया जा सकता है। मगर इन दोनों कामों को उतना ही करें जितना आपकी बॉडी सहन कर सकें। आपको बता दें, असल में बच्चे की डिलिवरी के बाद मां का शरीर बहुत ही कमजोर हो जाता है। ऐेसे में उसे अपनी सेहत का खास ध्यान रखने की जरूरत होती है। साथ ही जिन महिलाओं की डिलिवरी ऑपरेशन के द्वारा हुई हो उन्हें किसी भी तरह की एक्सरसाइज करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए।

हार्मोनल बैली

आज के समय में बहुत सी महिलाएं पीसीओडी की परेशानी से जुझ रही हैं। ऐसी स्थिति में शरीर में कई तरह के हार्मोनल चेंजिस होेते हैं। इस बदलाव के कारण ही कई हार्मोन्स बढ़ या कम हो जाते हैं। ऐसे में कई लोगों को पेट पर चर्बी जमा होने की परेशानी का सामना करना पड़ता है।

कैसे करें कम?

ऐसे में अपने हार्मोनल लेवल को सही करने के लिए अपनी डाइट में कुछ बदलाव लाने की जरूरत होती है। इसके लिए आप डॉक्टर या डायटिशियन की सलाह लेकर उनसे अपनी हैल्थ के मुताबिक डाइट चार्ट बनवा सकते हैं। ऐसे में इस डाइट चार्ट को फॉलो कर आप जल्दी ही इस परेशानी को दूर कर सकते हैं।