1. हिन्दी समाचार
  2. जीवन मंत्रा
  3. गरम मसाला के लाभ और दुष्प्रभाव

गरम मसाला के लाभ और दुष्प्रभाव

क्या आप जानते हैं कि भारतीय रसोई के इस गरम मसाले के कई फायदे हैं और कुछ साइड इफेक्ट भी हैं? आइये हम आपको बताते हैं हमारे व्यंजनों में सबसे पसंदीदा सामग्री के बारे में

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

गरम मसाला शाकाहारी और मांसाहारी दोनों तरह के व्यंजनों में स्वाद जोड़ने के लिए एक आवश्यक मसाला मिश्रण है। यह अधिकांश भारतीय व्यंजनों का एक अभिन्न अंग है। अंत में थोड़ा सा गरम मसाला डालने से किसी भी डिश का स्वाद बढ़ सकता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि भारतीय रसोई के इस स्टेपल के कई फायदे हैं और कुछ साइड इफेक्ट भी? हमारे व्यंजनों में सबसे पसंदीदा सामग्री के बारे में आपको जो कुछ जानने की आवश्यकता है जो यहां है।

पढ़ें :- नवरात्रि 2021: इस त्योहारी मौसम में अपने फास्टिंग के लिए आज़माएँ इन 3 व्रत व्यंजनों को

गरम मसाला के स्वास्थ्य लाभसर्दी-खांसी के लिए जैसे-जैसे मौसम धीरे-धीरे ठंडा होता जाता है, वैसे-वैसे सर्दी-खांसीहोना आम बात है। ऐसी बीमारियों को तुरंत ठीक करने के लिए लौंग, काली मिर्च और दालचीनी जैसी सामग्री का उपयोग किया जा सकता है।

पाचन में सुधार: मानसून में ज्यादातर लोग कुरकुरे भोजन जैसे पकौड़े, पापड़ और भटूरे के लिए तरसते हैं। वहीं, पाचन तंत्र का बिगड़ना सामान्य बात है। पाचन की समस्या को दूर करने के लिए गर्म मसालों का इस्तेमाल किया जा सकता है।

दर्द और सूजन : गरम मसाला मसालों में इस्तेमाल होने वाले मसालों में जलनरोधी गुण होते हैं। वे दर्द और सूजन को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।

मधुमेह के लिए: भोजन में जीरा और अन्य अवयवों की उपस्थिति मधुमेह रोगियों के लिए स्वस्थ है। यह एक सक्रिय मधुमेह विरोधी एजेंट है।

पढ़ें :- आज ही ट्राई करें यह आसान, हेल्दी बर्गर रेसिपी

एंटीऑक्सीडेंट: गरम मसाला एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है जो त्वचा की समस्याओं को रोकने में मदद करता है।

गरम मसाला के नुकसान

जैसा कि सभी जानते हैं कि गरम मसाला ज्यादातर फायदेमंद होता है लेकिन कभी-कभी यह नुकसान भी पहुंचा सकता है। गरम मसाला के अधिक और लगातार सेवन से बवासीर, सीने में जलन, एसिडिटी और पेट में जलन जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह content केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से qualified medical opinion का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने डॉक्टर से सलाह लें। Parda Phash इस जानकारी की जिम्मेदारी नहीं लेता है।

पढ़ें :- FSSAI ने किया फैसला भारत में पैकेटों के सामने होगा खाद्य सुरक्षा लेबल
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...