1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. माथे पर क्यों लगाते हैं तिलक, जाने सौभाग्य से क्या है इसका संबंध

माथे पर क्यों लगाते हैं तिलक, जाने सौभाग्य से क्या है इसका संबंध

By आस्था सिंह 
Updated Date

लखनऊ। सनातन परंपरा में किसी भी पूजा या शुभ कार्य में तिलक लगाने की परंपरा है। मंदिर में ईश्वर दर्शन के बाद तो माथे पर तिलक को ईश्वर का प्रसाद समझकर अवश्य लगाया जाता है। माथे पर लगाए जाने वाले तिलक के पीछे न सिर्फ धार्मिक आस्था है बल्कि इसके कुछ वैज्ञानिक आधार भी होते हैं।

एकाग्रता= साधु-संत अपनी साधना आराधना की शुरुआत करने से पहले अपने माथे पर तिलक अवश्य लगाते हैं, क्योंकि इसी जगह पर आज्ञा चक्र में उपस्थित पिण्ड में जुड़ी सभी नाड़ियों का समूह होता है। तिलक लगाने से मन शांत रहता है और एकाग्रता बढ़ती है।

आत्मविश्वास= माथे पर तिलक लगाने वाली जगह को हैं अग्नि चक्र कहते हैं। इसे थर्ड आई भी कहते हैं, क्योंकि यहीं से आपके शरीर में शक्ति का संचार होता है। इसीलिए महिलाएं भी अपने माथे पर बिंदी इसी जगह लगाती हैं। इस जगह पर तिलक लगाने से व्यक्ति के भीतर आत्मविश्वास भी बढ़ता है।

सौभाग्य= तिलक को ईश्वर का प्रसाद कहा जाता है, जिसे माथे पर लगाने से भगवान की कृपा बरसती है और व्यक्ति के सुख और सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

समृद्धि= अगर आप आर्थिक परेशानी से जूझ रहें हैं तो आप तिलक के माध्यम से मां लक्ष्मी की कृपा पा सकते हैं। सुख-समृद्धि की प्राप्ति के लिए मस्तक पर केसर का तिलक लगाएं।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...