1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Independence day quotes 2021: आजादी के महानायकों के महत्वपूर्ण कथन, जिनके बल पर मिली आजादी

Independence day quotes 2021: आजादी के महानायकों के महत्वपूर्ण कथन, जिनके बल पर मिली आजादी

देश 2021 में स्वतंत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ (75th anniversary of independence day) मना रहा है। 200 साल की लम्बी लड़ाई के बाद 15 अगस्त 1947 को भारत को ब्रिटिश हुकूमत से पूर्ण रूप से आजादी मिली। 15 अगस्त को हर साल स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Independence day quotes 2021: देश 2021 में स्वतंत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ (75th anniversary of independence day) मना रहा है। 200 साल की लम्बी लड़ाई के बाद 15 अगस्त 1947 को भारत को ब्रिटिश हुकूमत से पूर्ण रूप से आजादी मिली। 15 अगस्त को हर साल स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने 14 अगस्त मध्यरात्रि को ‘ट्रिस्ट वीद डेस्टिनी’ भाषण के साथ भारत की आजादी की घोषणा की। भारत की आजादी के लिए मंगल पांडे, महात्मा गांधी, शहीद भगत सिंह, सुभाष चन्द्र बोस, चन्द्र शेखर आजाद और सरदार वल्लभभाई पटेल समेत सैंकड़ों स्वतंत्रता सेनानियों ने बलिदान देकर भारत को अंग्रेजों से आजाद करवाया। 15 अगस्त 2021, रविवार को भारत में 75वां स्वतंत्रता दिवस 2020 मनाया जा रहा है, इस साल 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस की थीम 2021 में ‘फर्स्ट नेशन ऑलवेज फर्स्ट’ रखी गई है।

पढ़ें :- Rail Passengers Please Attention : पंजाब से चलेगी साप्ताहिक स्पेशल ट्रेन, इन 5 राज्यों के यात्रियों की बल्ले-बल्ले

आईये जानते हैं देश को आजादी दिलाने वाले महानायकों के महत्वपूर्ण कथन को जिसने स्वतंत्रता सेनानियों के दिल में वो जज्बा पैदा किया कि अंग्रेजों को भारत छोडना पड़ा

 

महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी बाल गंगाधर तिलक

इस आजादी के लिए महान स्वतंत्रता सेनानी बाल गंगाधर तिलक ने ‘स्वराज्य हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है’ का सिंहनाद किया।

पढ़ें :- बेटे की गिरफ्तारी से भड़के Munawwar Rana बोले- Yogi Government सिर्फ मुसलमानों को कर रही है टारगेट

 

महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी सुभाष चंद्र बोस

सुभाष चंद्र बोस कहा, तुम मुझे खून दो, मेँ तुम्हे आजादी दूंगा!

“ये हमारा कर्तव्य है कि हम अपनी स्वतंत्रता का मोल अपने खून से चुकाएं। हमें अपने बलिदान और परिश्रम से जो आज़ादी मिलेगी, हमारे अन्दर उसकी रक्षा करने की ताकत होनी चाहिए।”

भारत में राष्ट्रवाद ने लोगो के अंतरमन को उत्तेजित किया है जो सदियों से हमारे लोगों में सुसुप्त अवस्था में रहा है।

पढ़ें :- राहुल गांधी बोले- नोटबंदी, जीएसटी और नए कृषि कानून ' Indian Economy' को करेंगे कमजोर

 

महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी चन्द्रशेखर आजाद

चन्द्रशेखर आजाद ने अपना धर्म ही आजादी को बताया।

 

महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी भगत सिंह

भगतसिंह ने देशवासियों में देशभक्ति की जो लौ पैदा की वह अद्भुत है। ईंट का जवाब पत्थर से देने की क्रांतिकारियों की ख्वाहिश का सम्मान यह देश हमेशा करेगा।

पढ़ें :- Modi government किसानों को दे सकती है बड़ी सौगात, 'PM Kisan Samman Nidhi scheme' करेगी दोगुना

 

महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी  महामना मदनमोहन मालवीय

भारतवर्ष में अनेक महापुरुषों का जन्म हुआ है। जिनमें से एक हैं महामना मदनमोहन मालवीय। मदनमोहन मालवीय महान स्वतंत्रता सेनानी, राजनीतिज्ञ और शिक्षाविद तो थे ही साथ ही साथ महान समाज सुधारक भी थे।

यदि आप मानव आत्मा की आंतरिक शुद्धता को स्वीकार करते हैं,
तो आप या आपका धर्म किसी भी व्यक्ति के स्पर्श या संगति से कभी भी अशुद्ध या अपवित्र नहीं हो सकता है।

अंग्रेज़ी माध्यम भारतीय शिक्षा में सबसे बड़ा विघ्न है। सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।

 

महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी सरदार वल्लभभाई पटेल

पढ़ें :- Ashraf Ghani बोले- अफगानिस्तान में खून की नदियां न बहें, इसलिए मैंने छोड़ा देश

हर नागरिक की यह मुख्य ज़िम्मेदारी है कि वह महसूस करे कि उसका देश स्वतंत्र है और अपने देश स्वतंत्रता की रक्षा करना उसका कर्तव्य है।

हर भारतीय को अब भूल जाना चाहिए कि वह राजपूत, एक सिख या जाट है। उन्हें याद रखना चाहिए कि वह एक भारतीय है और उसके पास अपने देश में हर अधिकार है लेकिन कुछ कर्तव्यों के साथ।

महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी महात्मा गाँधी

“भारत छोड़ो” एक नारा मात्र ना होकर एक आन्दोलन था जिसका शंखनाद अहिंसा के प्रतीक महात्मा गाँधी ने फूँका था 9 अगस्त 1942 को “अंग्रेजो भारत छोड़ो” नामक नारा दे कर गांधी जी ने समूचे देश की जनता से ब्रिटिश सत्ता को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया जिसके सीधे असर से ब्रिटिश सरकार की नींव हिलने लगी

 

महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी  युसूफ मेहरली

8 अगस्त 1942 की शाम को बम्बई में अखिल भारतीय काँगेस कमेटी के बम्बई सत्र में ‘अंग्रेजों भारत छोड़ो’ का नाम दिया गया था। युसूफ मेहरली वे शख्स थे जिन्होंने भारत छोड़ो का नारा दिया, इस नारे को बाद में महात्मा गांधीजी के द्वारा सन् 1942 में भारत की आजादी के लिए छेड़े गए सबसे बड़े आंदोलन के लिए प्रयोग किया गया।

महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी  सरोजिनी नायडू

एक देश की महानता,बलिदान और प्रेम उस देश के आदर्शों पर निहित करता है।

हम गहरी सच्चाई का मकसद चाहते हैं, भाषण में अधिक से अधिक साहस और कार्यवाही में ईमानदारी।

 

आइए उन सभी लोगों की यादों को जीवित करें जिन्होंने हमारे देश के लिए अपने प्राणों की आहुति दी। आपको स्वतंत्रता दिवस 2021 की शुभकामनाएं!

आइए हम देश की आजादी के लिए लड़ने वाले कई महान सवतंत्रता संग्राम सेनानियों के संघर्षों का सम्मान करें। स्वतंत्रता दिवस 2021 की शुभकामनाएं!

आइए शहीदों को उनके बलिदान के लिए सलाम करें और हमें हमारी आजादी देने के लिए धन्यवाद दें। स्वतंत्रता दिवस 2019 की शुभकामनाएं।

आज हम उन लोगों को संजोते हैं जिन्होंने हमारी आजादी को संभव बनाया। स्वतंत्रता प्राप्त करना कठिन है, लेकिन हम इसे पाकर धन्य हैं। स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं।

आइए हमारे पास जो कुछ भी है उसकी सराहना करें और स्वतंत्रता के महान चमत्कार का जश्न मनाएं। स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं।

 

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...