घंटों का काम मिनटों में करेगी गवर्नमेंट की ये 5 ऐप

नई दिल्ली। गवर्नमेंट ने लॉंच किया घंटों के काम मिनटों में करने वाले 5 शानदार ऐप। बता दें कि इन ऐप्स से आपको गवर्नमेंट की स्कीम्स की जानकारी मिलेगी साथ ही आप ऑनलाइन उनका यूज भी कर सकेंगे। आज हम आपको गवर्नमेंट की ऐसे ही 5 ऐप्स के बारे में बता रहे हैं, जो आपकी डेली लाइफ को आसान बनाएंगे। ये ऐप आप गूगल प्ले स्टोर से फ्री में डाउनलोड कर सकते हैं।

(उमंग) UMANG
यूनीफाइड मोबाइल एप्लीकेशन फॉर न्यू-एज गवर्नेंस (UMANG) के जरिए आप केंद्र सरकार, राज्य सरकार से लेकर म्युनिसिपल कॉरपोरेशन तक की 100 से ज्यादा सर्विसेज का फायदा उठा सकते हैं। इस ऐप को EPFO, नेशनल पेमेंट सिस्ट, myPAN से भी जोड़ा गया है। यानी आप यहां से पेन कार्ड बनने के लिए अप्लाई कर सकते हैं। गवर्नमेंट ओर्गनाइजेशन की वैकेंसी भी यह ऐप बताता है। यहां डिजिटल लॉकर की सुविधा भी सरकार दे रही है।

{ यह भी पढ़ें:- GST के बाद GDP में उछाल, 0.6 प्रतिशत की बढ़त दर्ज }

CBEC GST
मिनिस्ट्री ऑफ फाइनेंस ने इस ऐप को डेवलप किया है। यहां से आप जीएसटी से जुड़ी हर जानकारी आसानी से पा सकते हैं। जीएसटी का कानून, नियम-कायदे, लेटेस्ट अपडेट से लेकर हेल्पडेस्क से मदद तक ले सकते हैं।

AAYKAR SETU
टैक्स चुकाने वाले लोगों के लिए इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने AAYKAR SETU नाम का ऐप बनाया है। यहां आप लाइव चैट के माध्यम से अपनी टैक्स क्वेरीश को क्लियर कर सकते हैं। इस ऐप से आपको इनकम टैक्स से जुड़ी कई अन्य जानकारी भी मिलेंगी। बता दें कि TDS कैलकुलेशन और टैक्स पेमेंट भी यहां से किया जा सकता है।

{ यह भी पढ़ें:- जीएसटी को लेकर मुख्य आर्थिक सलाहकार ने दिया यह बड़ा बयान }

M-KAVACH
हैकिंग और मालवेयर अटैक से बचने के लिए आप इस ऐप की मदद ले सकते हैं। यह ऐप WiFi, Bluetooth, कैमरा और मोबाइल डाटा के अनऑथराइज्ड एक्सेस को रोकने में भी मदद करता है। इस ऐप के जरिए आप दूर से ही फोन का डाटा डिलीट कर सकते हैं। डिवाइस को रीसैट कर सकते हैं।

BHIM
फाइनेंशियल ट्रांजैक्शन को आसान बनाने के लिए इस ऐप को तैयार किया गया है। मोबाइल फोन में इस ऐप को डाउनलोड करने के बाद आप फास्ट और सिक्योर ट्रांजैक्शन कर सकते हैं। सभी बड़े बैंक इससे लिंक हैं और यह ऐप गवर्नमेंट के डिजिटल इंडिया कैंपेन का पार्ट है। इसे नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया ने तैयार किया है।

{ यह भी पढ़ें:- चेक बुक सुविधा नहीं होगी खत्म: अरुण जेटली }

Loading...