भागलपुर हिंसा : BJP नेता के बेटे अर्जित शाश्वत चौबे को 14 दिनों के लिए भेजा गया जेल  

अर्जित शाश्वत चौबे , BJP नेता
भागलपुर हिंसा : BJP नेता के बेटे अर्जित शाश्वत चौबे को 14 दिनों के लिए भेजा गया जेल  

Bhagalpur Violence Case Ashwini Choubey Son Arjit Shashwat Dramatic Arrest And Sent To 14 Day Custody

बिहार। केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत चौबे को शनिवार देर रात गिरफ्तार कर लिया गया है। गिरफ्तारी के बाद बिहार पुलिस सांप्रदायिक हिंसा भड़काने के आरोपी अर्जित शाश्वत को पटना से भागलपुर ले गई, जहां उन्हें आज कोर्ट में पेश किया गया। आर्जित शाश्वत को पटना के शास्त्री नगर स्थित हनुमान मंदिर के पास से पुलिस ने हिरासत में लिया था। शास्त्री नगर  की दूरी मुख्यमंत्री आवास से लगभग 300 मीटर की है। जहां उन्हें आज कोर्ट में पेश किया गया कोर्ट ने अर्जित शाश्वत को 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

वहीं आर्जित के पिता और केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे ने आरोप लगाया कि विपक्षी पार्टियों की ओर से यह गलत एफआईआर दर्ज करवाई गई है। जब आर्जित की अग्रिम जमानत की खारिज हो गई तो कोर्ट का सम्मान करते हुए उन्होंने खुद ही सरेंडर कर दिया। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि वो केंद्र और राज्य सरकार से किसी भेदभाव के जांच कराने की मांग करते हैं।

वहीं, राजद नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने अर्जित शाश्वत की गिरफ्तारी का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि अर्जित को पहले ही गिरफ्तार किया जाता, तो प्रदेश में इतनी ज्यादा परेशानी नहीं होती।

जदयू प्रवक्ता डॉ सुनील ने अर्जित शाश्वत की गिरफ्तारी को कानून के राज का परिणाम बताया है। उन्होंने कहा कि इससे पहले भी कई रसूखदारों के मामले में कानून ने अपना काम किया है। उन्होंने कहा कि बच्चा राय की संपत्ति जब्त किये जाने से साफ है कि घोटालेबाज कोई भी हो, वो बच नहीं सकता है।

क्या है पूरा मामला

गौरतलब है कि भारतीय नववर्ष जागरण समिति की ओर से विक्रम संवत के पहले दिन नववर्ष को मनाने के लिए एक जुलूस निकाला गया था। मेदिनीनगर पहुंचने पर स्‍थानीय लोगों ने इसका विरोध किया और दो समुदायों में संघर्ष शुरू हो गया। सूत्रों ने बताया कि इस यात्रा के लिए प्रशासन से कोई अनुमति नहीं ली गई थी। मामले में दर्ज एफआईआर में कहा गया था कि जुलूस का नेतृत्व अरिजित कर रहे थे। भागलपुर के नाथनगर में इस सिलसिले में एफआईआर दर्ज की गई थी।

अरिजित ने पटना हाई कोर्ट में अपील की थी कि दंगों के आरोप के तहत उनके खिलाफ दायर की गई एफआईआर को खारिज कर दिया जाए। वहीं, केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे ने बेटे का पक्ष लेते हुए एफआईआर को झूठ का पुलिंदा बताया था।

चौबे ने शनिवार को नई दिल्ली में राष्ट्रीय जनता दल और कांग्रेस पर बिहार में दंगे भड़काने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि राज्य और केंद्र सरकार विपक्ष की इस मंशा को नाकाम कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘हम दंगा भड़काने की आरजेडी और कांग्रेस की मंशा को परास्त करेंगे। षड्यंत्रकारी दंगा चाहते हैं लेकिन कोई भी ऐसा नहीं कर पाया और हमने बिहार को नियंत्रण में रखा है। बिहार सरकार और केंद्र मिलकर राज्य में सौहार्द खराब करने के प्रयासों को हराएंगे।’

गौरतलब है कि बिहार के कई शहरों में हाल के दिनों में सांप्रदायिक हिंसा की कई घटनाएं हुई हैं। औरंगाबाद और भागलपुर में सांप्रदायिक हिंसा के बाद मुंगेर, समस्तीपुर और नवादा में भी हिंसा के बाद तनाव का माहौल बना हुआ है।

बिहार। केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत चौबे को शनिवार देर रात गिरफ्तार कर लिया गया है। गिरफ्तारी के बाद बिहार पुलिस सांप्रदायिक हिंसा भड़काने के आरोपी अर्जित शाश्वत को पटना से भागलपुर ले गई, जहां उन्हें आज कोर्ट में पेश किया गया। आर्जित शाश्वत को पटना के शास्त्री नगर स्थित हनुमान मंदिर के पास से पुलिस ने हिरासत में लिया था। शास्त्री नगर  की दूरी मुख्यमंत्री आवास से लगभग 300 मीटर की है। जहां उन्हें आज कोर्ट में पेश…