बसपा में भाई-भतीजाबाद, आनंद राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और आकाश बने राष्ट्रीय समन्वयक

bsp anand akash
बसपा में भाई-भतीजाबाद, आनंद राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और आकाश बने राष्ट्रीय समन्वयक

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी में रविवार को बीएसपी की अहम बैठक हुई जिसमें कई अहम बदलाव किए गए। बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने संगठन में बदलाव किए हैं। उन्होने भाई आनंद कुमार को फिर से पार्टी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया है। वहं अपने भतीजे आकाश आनंद को राष्ट्रीय समन्वयक की जिम्मेदारी दी गई है। साथ ही पार्टी में राष्ट्रीय स्तर पर दो समन्वयक बनाए गए हैं। मौजूदा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रामजी गौतम अब राष्ट्रीय समन्वयक की जिम्मेदारी संभालेंगे। वहीं दानिश अली को लोकसभा में बहुजन समाज पार्टी का नेता बनाया गया है।

Bhai Bhatijabad In Bsp Anand National Vice President In Bsp And Akash National Coordinator :

बता दें कि जौनपुर से सांसद श्याम सिंह यादव लोकसभा में बीएसपी के उपनेता होंगे। जबकि वरिष्ठ नेता सतीश चंद्र मिश्र राज्यसभा में बीएसपी के नेता होंगे। बताया जा रहा है ​इस बैठक में पार्टी के तमाम नेताओं को बुलाया गया था। नेताओं के साथ बैठक में पार्टी प्रमुख मायावती ने इन पदों पर फैसले लिए।

गौरतलब है कि 2012 के यूपी विधानसभा चुनाव से बीएसपी का ग्राफ लगातार गिरता जा रहा है। वर्ष 2014 के लोकसभा चुनावों में पार्टी को एक भी सीट नहीं मिली थी, जबकि 2017 के विधानसभा चुनाव में बीएसपी महज 19 सीटें ही जीत सकी थी। बताया जा रहा है कि बीते लोकसभा चुनाव में पार्टी विरोधी काम करने वालों के खिलाफ मायावती एक्शन मोड में आ गई है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी में रविवार को बीएसपी की अहम बैठक हुई जिसमें कई अहम बदलाव किए गए। बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने संगठन में बदलाव किए हैं। उन्होने भाई आनंद कुमार को फिर से पार्टी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया है। वहं अपने भतीजे आकाश आनंद को राष्ट्रीय समन्वयक की जिम्मेदारी दी गई है। साथ ही पार्टी में राष्ट्रीय स्तर पर दो समन्वयक बनाए गए हैं। मौजूदा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रामजी गौतम अब राष्ट्रीय समन्वयक की जिम्मेदारी संभालेंगे। वहीं दानिश अली को लोकसभा में बहुजन समाज पार्टी का नेता बनाया गया है। बता दें कि जौनपुर से सांसद श्याम सिंह यादव लोकसभा में बीएसपी के उपनेता होंगे। जबकि वरिष्ठ नेता सतीश चंद्र मिश्र राज्यसभा में बीएसपी के नेता होंगे। बताया जा रहा है ​इस बैठक में पार्टी के तमाम नेताओं को बुलाया गया था। नेताओं के साथ बैठक में पार्टी प्रमुख मायावती ने इन पदों पर फैसले लिए। गौरतलब है कि 2012 के यूपी विधानसभा चुनाव से बीएसपी का ग्राफ लगातार गिरता जा रहा है। वर्ष 2014 के लोकसभा चुनावों में पार्टी को एक भी सीट नहीं मिली थी, जबकि 2017 के विधानसभा चुनाव में बीएसपी महज 19 सीटें ही जीत सकी थी। बताया जा रहा है कि बीते लोकसभा चुनाव में पार्टी विरोधी काम करने वालों के खिलाफ मायावती एक्शन मोड में आ गई है।