1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. भाई दूज 2021: देखें शुभ मुहूर्त, समय, पूजा विधि और मंत्र

भाई दूज 2021: देखें शुभ मुहूर्त, समय, पूजा विधि और मंत्र

भाई दूज 2021: भारत में भाई-बहनों द्वारा मनाए जाने वाले इस विशेष त्योहार के बारे में शुभ समय, पूजा विधि, मंत्र जानने के लिए नीचे स्क्रॉल करें।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

भाई दूज, जिसे यम द्वितीया के नाम से भी जाना जाता है, भाई-बहनों द्वारा मनाए जाने वाले शुभ त्योहारों में से एक है। इस दिन बहनें अपने भाइयों की लंबी उम्र की कामना करती हैं और तिलक करती हैं। यह दिन हिंदू कैलेंडर के कार्तिक महीने में द्वितीया तिथि, शुक्ल पक्ष, चंद्रमा के वैक्सिंग चरण पर पड़ता है। इस बार यह दिन 6 नवंबर, शनिवार को मनाया जाएगा।

पढ़ें :- Shukra Gochar : शुक्र देव इस दिन करेंगे राशि परिवर्तन, जानिए राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा

भैया दूज को भाऊ बीज, भातरा द्वितीया, भाई द्वितीया और भथरू द्वितीया के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन बहनें अपने भाइयों के माथे पर सिंदूर लगाती हैं और उनकी सलामती के लिए पूजा करती हैं। वहीं भाई अपनी प्यारी बहनों के लिए खास तोहफे लाते हैं।

भाई दूज 2021: शुभ समय

दूसरी तारीख की शुरुआत – 05 नवंबर, 2021 को रात 11:14 बजे

द्वितीया तिथि समाप्त – 07:44 अपराह्न 06 नवंबर, 2021

पढ़ें :- Planet Transit 2022: ग्रहों की चाल में होने जा रहा है महत्वपूर्ण परिवर्तन, एक ही राशि में विराजमान होंगे तीन बड़े ग्रह  

भाई दूज अपराहन का समय – दोपहर 01:10 बजे से दोपहर 03:21 बजे तक

भाई दूज 2021: मंत्र

गंगा पूजा यमुना को, यामी पूजा यमराज को, सुभद्रा पूजा कृष्णा को,

गंगा यमुना नीर बहे, मेरे भाई आप बढ़ें, फुले फलें।

भाई दूज 2021: पूजा समाघरी

पढ़ें :- 5 दिसंबर 2022 राशिफल:इन जातकों के बनेगे आज लाभ के नए अवसर, इन्हें व्यापार में होगा तगड़ा मुनाफा

– रोली या कुमकुम और/या चंदन

– एक आरती थाली

– दो दीया

– दीया जलाने के लिए घी या तेल

– कॉटन विक्स

– अक्षती

पढ़ें :- Aaj ka Panchang: मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष त्रयोदशी, जाने शुभ-अशुभ समय मुहूर्त और राहुकाल...

– मिठाइयाँ

– पान और सुपारी

– दक्षिणा

– पुष्प

– फल

– कलाई के चारों ओर बांधने के लिए कलावा या मौली (डरा हुआ रंगीन धागा)

भाई दूज 2021: पूजा विधि

पढ़ें :- 4 दिसंबर 2022 राशिफल: इन जातकों को मिलेगा जीवनसाथी का सहयोग, पैसों की समस्या होगी दूर

– सुबह जल्दी उठकर नहा लें और नए कपड़े पहनें.

– पूजा के सभी समाघरियों को इकट्ठा करें।

– खोटे राजा, रानी, ​​​​सूर्य, चंद्रमा और अन्य का चित्र बनाएं।

– तेल का दीपक जलाकर दक्षिण दिशा की ओर मुंह करके रखें।

– फूल, दही, चावल, मिठाई अर्पित करें और तिलक करें.

– भाई दूज कथा का पाठ करें और रुई से मुकुट बनाएं।

– पूजा करने के बाद अपने भाई को उत्तर-पश्चिम की ओर मुंह करके बैठाएं और तिलक करें.

पढ़ें :- Aaj ka Panchang: मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष द्वादशी, जाने शुभ-अशुभ समय मुहूर्त और राहुकाल...
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...