भजनपुरा हत्याकांडः दिल्ली पुलिस ने किया बड़ा खुलासा, मामा ने 30 हजार रुपए के लिए ले ली पूरे परिवार की जान

bhajanpura murder case
भजनपुरा हत्याकांडः दिल्ली पुलिस ने किया बड़ा खुलासा, मामा ने 30 हजार रुपए के लिए ले ली पूरे परिवार की जान

नई दिल्ली। दिल्ली के भजनपुरा में एक ही परिवार के पांच लोगों की हत्या के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है। पुलिस का दावा है कि मामा ने ही पूरे परिवार का कत्ल किया था। पुलिस ने बताया कि परिवार के मुखिया शंभू के मामा ने पैसे के लेनदेन को लेकर पूरे परिवार को मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने बताया है कि इनके बीच 30 हजार की कमेटी को लेकर विवाद था।

Bhajanpura Murder Case Delhi Police Made A Big Disclosure Mama Took The Life Of Whole Family For 30 Thousand Rupees :

मृतकों की पहचान शंभूनाथ चौधरी (43), पत्नी सुनीता (37), बेटे शिवम कुमार (17), सचिन (14) और बेटी कोमल (12) के रूप में हुई। दंपती का शव एक कमरे से मिला, जबकि तीनों बच्चों के शव दूसरे कमरे से मिले। शवों के पास ही एक हथौड़ा और आरी बरामद हुई है।

पुलिस के मुताबिक, मूल रूप से बिहार के सुपौल निवासी शंभूनाथ परिवार के साथ सी-275, गली नंबर-11, भजनपुरा के ग्राउंड फ्लोर पर 7-8 माह से किराए पर रहते थे। परिवार में पत्नी सुनीता और बच्चे शिवम, सचिन व कोमल थे। शंभूनाथ ई-रिक्शा चलाते थे। तीनों बच्चे यमुना विहार स्थित बी-2 के सरकारी स्कूल में 12वीं, 9वीं और 7वीं कक्षा में पढ़ते थे। एक साल पहले तक शंभू जूस की दुकान चलाते थे, लेकिन बाद में ई-रिक्शा चलाना शुरू कर दिया था।

बुधवार सुबह तेज दुर्गंध के बाद पड़ोसियों ने 11:16 बजे पुलिस को सूचना दी। मकान के बाहर लगे ताले को तोड़कर पुलिस भीतर घुसी तो एक कमरे में शंभू और सुनीता व दूसरे कमरे में तीनों बच्चों के शव पड़े हुए थे। कमरों का सारा सामान भी फैला हुआ था। लग रहा था कि घर की तलाशी ली गई थी। इसके बाद वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों और शंभू के रिश्तेदारों को सूचना दी गई।

नई दिल्ली। दिल्ली के भजनपुरा में एक ही परिवार के पांच लोगों की हत्या के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है। पुलिस का दावा है कि मामा ने ही पूरे परिवार का कत्ल किया था। पुलिस ने बताया कि परिवार के मुखिया शंभू के मामा ने पैसे के लेनदेन को लेकर पूरे परिवार को मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने बताया है कि इनके बीच 30 हजार की कमेटी को लेकर विवाद था। मृतकों की पहचान शंभूनाथ चौधरी (43), पत्नी सुनीता (37), बेटे शिवम कुमार (17), सचिन (14) और बेटी कोमल (12) के रूप में हुई। दंपती का शव एक कमरे से मिला, जबकि तीनों बच्चों के शव दूसरे कमरे से मिले। शवों के पास ही एक हथौड़ा और आरी बरामद हुई है। पुलिस के मुताबिक, मूल रूप से बिहार के सुपौल निवासी शंभूनाथ परिवार के साथ सी-275, गली नंबर-11, भजनपुरा के ग्राउंड फ्लोर पर 7-8 माह से किराए पर रहते थे। परिवार में पत्नी सुनीता और बच्चे शिवम, सचिन व कोमल थे। शंभूनाथ ई-रिक्शा चलाते थे। तीनों बच्चे यमुना विहार स्थित बी-2 के सरकारी स्कूल में 12वीं, 9वीं और 7वीं कक्षा में पढ़ते थे। एक साल पहले तक शंभू जूस की दुकान चलाते थे, लेकिन बाद में ई-रिक्शा चलाना शुरू कर दिया था। बुधवार सुबह तेज दुर्गंध के बाद पड़ोसियों ने 11:16 बजे पुलिस को सूचना दी। मकान के बाहर लगे ताले को तोड़कर पुलिस भीतर घुसी तो एक कमरे में शंभू और सुनीता व दूसरे कमरे में तीनों बच्चों के शव पड़े हुए थे। कमरों का सारा सामान भी फैला हुआ था। लग रहा था कि घर की तलाशी ली गई थी। इसके बाद वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों और शंभू के रिश्तेदारों को सूचना दी गई।