1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Bhanu Saptami 2022 : भानु सप्तमी के दिन करें आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ, सुख में वृद्धि होती है

Bhanu Saptami 2022 : भानु सप्तमी के दिन करें आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ, सुख में वृद्धि होती है

सूर्य भगवान का एक और नाम भानू भी है। हिंदी पंचांग के अनुसार, सप्तमी तिथि के स्वामी या अधिप​ति देव स्वयं भगवान सूर्य हैं। जब किसी भी माह की सप्तमी तिथि रविवार के दिन होती है, तो उस दिन भानु सप्तमी होती है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Bhanu Saptami 2022 : सूर्य भगवान का एक और नाम भानू भी है। हिंदी पंचांग के अनुसार, सप्तमी तिथि के स्वामी या अधिप​ति देव स्वयं भगवान सूर्य हैं। जब किसी भी माह की सप्तमी तिथि रविवार के दिन होती है, तो उस दिन भानु सप्तमी होती है। भानु सप्तमी का हिंदू धर्म में बहुत महत्व है। भानु सप्तमी को बहुत शुभ माना जाता है।  ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष की सप्तमी ति​थि 22 मई दिन रविवार को है, इस​लिए भानु सप्तमी व्रत इस दिन रखा जाएगा।

पढ़ें :- भानु सप्तमी 2022: जानिए तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और इस शुभ दिन का महत्व

वैसे भी ज्येष्ठ माह में सूर्य देव के भानु स्वरूप की पूजा करते हैं। यह दिन सूर्यनारायण के सातवें विग्रह का है, जो तेज रूप में पूरी सृष्टि में निवास करते हैं। धार्मिक मान्यता के अनुसार,  सूर्य देव की पूजा करने से दुख, रोग, पाप आदि नष्ट हो जाते हैं।  सूर्य देव की कृपा से धन, धान्य, वंश और सुख में वृद्धि होती है। भानु सप्तमी के पुण्य प्रभाव से पिता के साथ रिश्ता मजबूत होता है। भानु सप्तमी के दिन भक्त सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए आदित्य हृदय स्तोत्र का जाप करने के साथ-साथ महाभिषेक करके भगवान सूर्य की पूजा करते। इस दिन जप, होम, दान आदि करने पर उसका सूर्य ग्रहण की तरह अनंत गुना फल प्राप्त होता है। सूर्य प्रत्यक्ष देवता हैं। इनकी अर्चना से मनुष्य को सब रोगों से छुटकारा मिलता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...