नोटबंदी के खिलाफ भारत बंद आज

नई दिल्ली: देश में नोटबंदी के फैसले के खिलाफ सोमवार को आयोजित भारत बंद का जहां कुछ दलों ने समर्थन किया है, वहीं कुछ ने इसमें शामिल होने के बजाय इसे नैतिक समर्थन देने का निर्णय किया है। नोटबंदी से आम लोगों को रही परेशानी को देखते हुए देश के सभी छह वामपंथी दलों ने ‘‘भारत बंद’ का आह्वान किया है। यूपी में बसपा, भाकपा, माकपा, आप और रालोद ने इसका खुलकर समर्थन किया है जबकि सपा, कांग्रेस और टीएमसी ने भारत बंद का नहीं बल्कि नोटबंदी के खिलाफ विरोध को नैतिक समर्थन दिया है।




मोदी सरकार के नोटबंदी फैसले के विरुद्ध आहूत भारत बंद के बीच उत्तर प्रदेश में विपक्ष में बैठी राजनीतिक पार्टियों ने यूपी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर अपने-अपने हिसाब से निर्णय लिया है। नोटबंदी के खिलाफ भारत बंद का बहुजन समाज पार्टी ने समर्थन किया है। बसपा ने कहा है कि यह नोटबंदी गरीबों, किसानों व मजदूरों के खिलाफ है। बसपा सड़क से लेकर संसद तक इसका विरोध करेगी और भारत बंद का समर्थन करेगी। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के नेता अशोक मिश्र ने कल ही यहां मीडिया को बताया था कि सभी छह वामपंथी पार्टियों ने नोटबंदी के फैसले के विरुद्ध सड़क से लेकर संसद तक नोटबंदी के फैसले का विरोध करेगी और भारत बंद के समर्थन में रहेगी। इसी क्रम में रालोद के राष्ट्रीय महासचिव जयंत चौधरी ने भी नोटबंदी के कारण किसानों को खाद व बीज नहीं मिल पाने के कारण भारत बंद का समर्थन करने का एलान किया है।




रालोद नोटबंदी के विरोध में 5 दिसम्बर को जंतर-मंतर पर धरना भी देगा। उधर आप के प्रदेश प्रवक्ता वैभव माहेश्वरी ने बताया कि उनकी पार्टी भारत बंद के पूरी तरह से समर्थन में है। आप के प्रवक्ता ने यहां बताया कि उनकी पार्टी सड़क से लेकर संसद तक विरोध करेगी और वामपंथी पार्टियों के साथ प्रदर्शन करेगी। कांग्रेस ने भी नोटबंदी के मुद्दे पर भारत बंद के फैसले का नैतिक समर्थन करने का निर्णय तो लिया है लेकिन भारत बंद में स्वयं शामिल न होने का निर्णय लिया है। इसी तरह पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने भी नोटबंदी के फैसले के खिलाफ समर्थन देने का निर्णय लिया है लेकिन भारत बंद को पूरी तरह से खारिज कर दिया है। टीएमसी की यूपी इकाई ने केन्द्र के इस फैसले के विरोध में 29 नवम्बर को लखनऊ में धरना देने का एलान किया है।

इस आयोजन में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भी शामिल होने की घोषणा की गयी है। तृणमूल कांग्रेस के नेता मुकुल राय ने यहां बताया है कि सुश्री बनर्जी की अगुआई में आयोजित होने वाले इस धरने में बड़ी संख्या में लोग भाग लेंगे। उन्होंने कहा पार्टी द्वारा नोटबंदी के फैसले को लागू करने के तरीके का विरोध कर रही है।