1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. देश में सरकारी तालिबानों के कमांडरों की करनी होगी पहचान : Rakesh Tikait

देश में सरकारी तालिबानों के कमांडरों की करनी होगी पहचान : Rakesh Tikait

भारतीय किसान यूनियन ( Bharatiya Kissan Union) के प्रवक्ता राकेश टिकैत (Spokesperson Rakesh Tikait) ने करनाल (Karnal) में हरियाणा पुलिस (Haryana Police) द्वारा बीते शनिवार को किसानों पर हुए लाठीचार्ज (Lathi Charge) पर कड़े शब्दों में निंदा की है। उन्होंने कहा कि देश में सरकारी तालिबानों का कब्ज़ा हो चुका है। राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने कहा कि देश में सरकारी तालिबानों के कमांडर (Government Taliban Commanders) मौज़ूद है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। भारतीय किसान यूनियन ( Bharatiya Kissan Union) के प्रवक्ता राकेश टिकैत (Spokesperson Rakesh Tikait) ने करनाल (Karnal) में हरियाणा पुलिस (Haryana Police) द्वारा बीते शनिवार को किसानों पर हुए लाठीचार्ज (Lathi Charge) पर कड़े शब्दों में निंदा की है। उन्होंने कहा कि देश में सरकारी तालिबानों का कब्ज़ा हो चुका है। राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने कहा कि देश में सरकारी तालिबानों के कमांडर (Government Taliban Commanders) मौज़ूद है। इन कमांडरों (Commanders) की पहचान करनी होगी। जिन्होंने आदेश दिया सर फोड़ने का वहीं कमांडर है।

पढ़ें :- जनता इन्हें वोट नहीं देगी फिर भी ये ही जीतेंगे, भाजपा पर राकेश टिकैत का निशाना

बता दें कि हरियाणा  (Haryana) के करनाल में शनिवार को भाजपा नेताओं को रोकने की कोशिश करने वाले किसानों पर पुलिस ने जमकर लाठी चार्ज (Police Lathi Charge on Farmers)  में कई किसान घायल हो गए थे। बता दें कि भाजपा नेता करनाल में भाजपा की संगठनात्मक बैठक में भाग लेने जा रहे थे। इसी दौरान किसान भाजपा नेताओं के सामने विरोध प्रदर्शन कर रह थे। मिली जानकारी के अनुसार करनाल बसताड़ा टोल प्लाजा (Karnal Bastara Toll Plaza) पर पुलिस ने किसानों पर जमकर लाठियां भांजी (Police Lathi Charge on Farmers) है।

मिली जानकारी के अनुसार हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ( Manohar Lal Khattar) करनाल में मीटिंग कर रहे थे। इस दौरान किसान लगातार प्रदर्शन कर रहे थे। मामला हाथ से निकलता देख पुलिस को किसानों पर लाठीचार्ज कर दिया, जिसके बाद किसानों ने विरोध में रोहतक पानीपत हाईवे जाम कर दिया। किसानों पर लाठीचार्ज से भाकियू के प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी भड़क गए। इसके बाद किसानों ने गुरनाम सिंह चढूनी के कहने पर रोहतक पानीपत हाईवे जाम किया।

इसी बीच एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। जिसमें दावा किया जा रहा है कि वीडियो में करनाल के जिलाधिकारी हैं। वह किसानों के सर फोड़ने का आदेश दे रहे हैं। इस वीडियो कांग्रेस नेता श्रीनिवास बीवी ने भी ट्वीट किया है।

वीडियो में साफ सुनाई दे रहा है जिसमें अधिकारी कह रहे हैं, ‘यहां से जो भी आगे जाए। सिंपल है, उसका सिर फोड़ दो। कोई डाउट नहीं है, किसी डायरेक्शन की जरूरत नहीं है। किसी भी हालत में हम आगे नहीं जाने देंगे। हमारे पास पर्याप्त फोर्स है। दो दिन से यहां ड्यूटी कर रहे हैं। यहां से आगे एक बंदा नहीं जाना चाहिए। अगर कोई आगे जाता है तो उसका सिर फूटा हुआ होना चाहिए। हालांकि यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि आदेश देने वाले जिलाधिकारी हैं। कांग्रेस नेता ने इस वीडियो ट्वीट करते हुए तंज कसा और कहा तालिबान और इनमें क्या अंतर है?

पढ़ें :- Rakesh Tikait का बड़ा बयान, बोले- 2024 में भी सिर्फ भाजपा जीतेगी,जानें इसके सियासी मायने

भाजपा सांसद वरुण गांधी (BJP MP Varun Gandhi) ने भी इस वीडियो को ट्वीट करते हुए लिखा कि मुझे उम्मीद है कि यह वीडियो एडिटेड होगा और डीएम ने ऐसा नहीं कहा होगा। वरना यह स्वीकार्य नहीं है कि लोकतांत्रिक देश में हमारे नागरिकों के साथ ऐसा बर्ताव किया जाए।

सोशल मीडिया ने इस वीडियो को को कई लोगों ने ट्वीट किया और सवाल किया है कि क्या ऐसा आदेश देना सही है? तहसीन पूनावाला ने वीडियो ट्वीट करते हुए कहा कि एक तरफ भारत अजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है और दूसरी तरफ यह हो रहा है। राहुल गांधी ने ट्विटर पर लिखा, ‘फिर ख़ून बहाया है किसान का, शर्म से सर झुकाया हिंदुस्तान का!

करनाल के डीसी ने बताया कि किसानों को आराम से प्रदर्शन करना चाहिए था। उनका कहना है कि किसानों ने नेशनल हाइवे जाम कर दिया था जिससे आने-जाने में परेशानी हो रही थी। उन्होंने कहा कि किसानों पर हल्का बल प्रयोग किया गया है।

वहीं कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने खट्टर सरकार को खुली धमकी दे दी है। उन्होंने कहा, ‘खट्टर साहेब, आज करनाल में हर हरयाणवी की आत्मा पर लाठी बरसाई है। धरती के भगवान किसान को लहूलुहान करने वाली पापी भाजपाई सत्ता का दमन दानवों जैसा है । सड़कों पर बहते-किसानों के शरीर से रिसते खून को आने वाली तमाम नस्लें याद रखेगीं। याचना नहीं, अब रण होगा, जीवन-जय या मरण होगा।

पढ़ें :- 1st anniversary of Lakhimpur Kheri violence : टिकैत बोले- देश 3अक्टूबर 2021 को हुई तिकुनिया हिंसा कभी नहीं भूल सकता, कब मिलेगा न्याय?
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...