जामा मस्जिद के बाहर से हिरासत में लिए गए भीम आर्मी चीफ, CAA का कर रहे थे विरोध

chandrashekher
जामा मस्जिद के बाहर से हिरासत में लिए गए भीम आर्मी चीफ, सीएए का कर रहे थे विरोध

नई दिल्ली। भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद को दिल्ली पुलिस ने शनिवार की सुबह हिरासत में ले लिया है। उन्हें जामा मस्जिद के बाहर से हिरासत में लिया गया है। पुलिस ने शुक्रवार को उन्हें हिरासत में लेने की कोशिश की थी जब वो नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में जामा मस्जिद इलाके में प्रदर्शन कर रहे थे, लेकिन तब उनके समर्थक उन्हें वहां से निकालने में सफल रहे थे। बताया जा रहा है कि दिल्ली पुलिस चंद्रशेखर आजाद को दरियागंज पुलिस स्टेशन लेकर पहुंची जिसके बाद उनको मेडिकल के लिए ले जाया गया।

Bhima Army Chief Detained From Outside Jama Masjid Was Opposing Caa :

इससे पहले चंद्रशेखर ने खुद ही ट्वीट करके कहा कि दिल्ली गेट से गिरफ्तार किए गए सभी लोगों को रिहा कर दिया जाए तो वह अपनी गिरफ्तारी देने के लिए तैयार हैं। बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ शुक्रवार को दिल्ली में हुए प्रदर्शन में चंद्रशेखर भी शामिल थे।

हिरासत में लिए जाने से पहले चंद्रशेखर आजाद ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा कि अगर दिल्ली पुलिस बातचीत करना चाहती है तो पहले दिल्ली गेट से गिरफ्तार किए हमारे लोगों को रिहा करें। एक अन्य ट्वीट में चंद्रशेखर ने लिखा, ‘सभी लोगों को रिहा कर दिया जाए, मैं गिरफ्तारी देने को तैयार हूं। साथियों संघर्ष करते रहना और संविधान की रक्षा के लिए एकजुट रहना। जय भीम, जय संविधान।

चंद्रशेखर ने गुरुवार को घोषणा की थी कि वह शुक्रवार को दिल्ली के जामा मस्जिद से जंतर मंतर तक मार्च निकालेंगे। पुलिस इस तैयारी में थी कि चंद्रशेखर को पहले ही हिरासत में ले लिया जाएगा। हालांकि, चंद्रशेखर पुलिसकर्मियों को झांसा देकर जामा मस्जिद के अंदर दाखिल हुए और पुलिस घंटों तक हिरासत में लेने के लिए उनकी तलाश करती रही।

भीम आर्मी के एक प्रवक्ता ने बताया कि करीब तीन घंटे तक हमने भी समझा कि उन्हें हिरासत में ले लिया गया लेकिन करीब 4 बजे वह जामा मस्जिद के भीतर नजर आए और उन्होंने वहां मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए संविधान की प्रस्तावना पढ़ी। यहां तक कि शाही इमाम ने सभी को संबोधित किया और बताया कि आजाद हमारे मेहमान हैं।

बता दें कि भीम आर्मी नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के विरोध में शुक्रवार को सड़क पर उतरी। चंद्रशेखर आजाद संविधान की प्रति के साथ जामा मस्जिद में नागरिकता कानून के खिलाफ नारेबाजी करते भी नजर आए। चंद्रशेखर ने सीएए और एनआरसी के विरोध में मार्च का ऐलान किया था। हालांकि पुलिस ने चंद्रशेखर को मार्च की इजाजत नहीं दी। इससे पहले ऐसी खबरें थी कि चंद्रशेखर को हिरासत में ले लिया गया लेकिन तब चंद्रशेखर ने ट्वीट कर ऐसी खबरों का खंडन किया।

नई दिल्ली। भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद को दिल्ली पुलिस ने शनिवार की सुबह हिरासत में ले लिया है। उन्हें जामा मस्जिद के बाहर से हिरासत में लिया गया है। पुलिस ने शुक्रवार को उन्हें हिरासत में लेने की कोशिश की थी जब वो नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में जामा मस्जिद इलाके में प्रदर्शन कर रहे थे, लेकिन तब उनके समर्थक उन्हें वहां से निकालने में सफल रहे थे। बताया जा रहा है कि दिल्ली पुलिस चंद्रशेखर आजाद को दरियागंज पुलिस स्टेशन लेकर पहुंची जिसके बाद उनको मेडिकल के लिए ले जाया गया। इससे पहले चंद्रशेखर ने खुद ही ट्वीट करके कहा कि दिल्ली गेट से गिरफ्तार किए गए सभी लोगों को रिहा कर दिया जाए तो वह अपनी गिरफ्तारी देने के लिए तैयार हैं। बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ शुक्रवार को दिल्ली में हुए प्रदर्शन में चंद्रशेखर भी शामिल थे। हिरासत में लिए जाने से पहले चंद्रशेखर आजाद ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा कि अगर दिल्ली पुलिस बातचीत करना चाहती है तो पहले दिल्ली गेट से गिरफ्तार किए हमारे लोगों को रिहा करें। एक अन्य ट्वीट में चंद्रशेखर ने लिखा, 'सभी लोगों को रिहा कर दिया जाए, मैं गिरफ्तारी देने को तैयार हूं। साथियों संघर्ष करते रहना और संविधान की रक्षा के लिए एकजुट रहना। जय भीम, जय संविधान। चंद्रशेखर ने गुरुवार को घोषणा की थी कि वह शुक्रवार को दिल्ली के जामा मस्जिद से जंतर मंतर तक मार्च निकालेंगे। पुलिस इस तैयारी में थी कि चंद्रशेखर को पहले ही हिरासत में ले लिया जाएगा। हालांकि, चंद्रशेखर पुलिसकर्मियों को झांसा देकर जामा मस्जिद के अंदर दाखिल हुए और पुलिस घंटों तक हिरासत में लेने के लिए उनकी तलाश करती रही। भीम आर्मी के एक प्रवक्ता ने बताया कि करीब तीन घंटे तक हमने भी समझा कि उन्हें हिरासत में ले लिया गया लेकिन करीब 4 बजे वह जामा मस्जिद के भीतर नजर आए और उन्होंने वहां मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए संविधान की प्रस्तावना पढ़ी। यहां तक कि शाही इमाम ने सभी को संबोधित किया और बताया कि आजाद हमारे मेहमान हैं। बता दें कि भीम आर्मी नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के विरोध में शुक्रवार को सड़क पर उतरी। चंद्रशेखर आजाद संविधान की प्रति के साथ जामा मस्जिद में नागरिकता कानून के खिलाफ नारेबाजी करते भी नजर आए। चंद्रशेखर ने सीएए और एनआरसी के विरोध में मार्च का ऐलान किया था। हालांकि पुलिस ने चंद्रशेखर को मार्च की इजाजत नहीं दी। इससे पहले ऐसी खबरें थी कि चंद्रशेखर को हिरासत में ले लिया गया लेकिन तब चंद्रशेखर ने ट्वीट कर ऐसी खबरों का खंडन किया।