1. हिन्दी समाचार
  2. ICICI बैंक की पूर्व CMD चंदा कोचर पर बड़ी कार्रवाई, ED ने घर समेत 78 करोड़ की सम्पत्ति जब्ज की

ICICI बैंक की पूर्व CMD चंदा कोचर पर बड़ी कार्रवाई, ED ने घर समेत 78 करोड़ की सम्पत्ति जब्ज की

Big Action On Chanda Kochhar Former Cmd Of Icici Bank Ed Seizes Assets Worth 78 Crore Including House

By बलराम सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व एमडी और सीईओ चंदा कोचर व उनके परिवार की 78 करोड़ रुपए की चल अचल संपत्ति जब्त कर ली है। जब्त की गई सम्पत्ति में मुंबई में एक फ्लैट और चंदा कोचर के पति दीपक के कंपनी की प्रापर्टी शामिल हैं। वीडियोकॉन घूस मामले में बर्खास्त हुई आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व प्रमुख चंदा कोचर की मुश्किलें खत्म होने का नाम नहीं ले रही हैं। ईडी ने पीएमएलए के तहत चंदा और उनके पति दीपक कोचर के घर को जब्त कर लिया है।

पढ़ें :- जम्मू-कश्मीर: पाकिस्तान ने किया संघर्ष विराम का उल्लघंन, गोलीबारी में दो जवान शहीद

अब तक की जांच में साफ कोचर दंपत्ति के पास 900 करोड़ रुपये से अधिक की चल-अचल संपत्ति होने का पता चला है। इसमें से 78 करोड़ रुपये की संपत्ति को जब्त किया जा सकता है। कुल संपत्ति में चंदा कोचर का दक्षिण मुंबई में अपार्टमेंट, शेयर और अन्य स्कीम में निवेश, बैंक खाते व पति की कंपनी न्यूपावर रिन्यूएबल्स का ऑफिस शामिल है।

ईडी ने शुक्रवार के दिन कुर्की की कार्रवाई को शुरू कर दी है। चंदा कोचर के देवर राजीव कोचर से भी एजेंसी ने कई बार पूछताछ की थी। फिलहाल कोर्ट ने राजीव के खिलाफ लुकआउट नोटिस को हटाने और सिंगापुर जाने की अनुमति दे दी है।

ईडी ने 1875 करोड़ रुपये के इस घोटाले में बैंक के सीईओ पद से हटाई जा चुकी चंदा और उनके पति दीपक कोचर से मई 2019 में पूछताछ की थी। सीबीआई ने वर्ष 2012 में बैंक द्वारा वीडियोकॉन समूह को दिए 3250 करोड़ रुपये के लोन और चंदा कोचर के पति दीपक कोचर की संभावित भूमिका की जांच शुरू की थी। आरोप है कि वीडियोकॉन के चेयरमैन वेणुगोपाल धूत ने आईसीआईसीआई समेत बैंकों के कंसोर्टियम से अपनी कंपनी को लोन मिलने के बाद न्यूपावर रिन्यूएबल्स में 64 करोड़ रुपये का निवेश किया था। बैंक के बोर्ड द्वारा आंतरिक जांच शुरू करने के बाद कोचर ने लंबी छुट्टी ले ली थी।

सीबीआई ने इस मामले में इन तीनों तथा वेणुगोपाल धूत की कंपनियों- वीडियोकॉन इंटरनेशनल इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (वीआईईएल) और वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज लिमिटेड (वीआईएल) के खिलाफ मामला दर्ज किया था। सीबीआई की प्राथमिकी में सुप्रीम एनर्जी और दीपक कोचर के नियंत्रण वाली न्यूपावर रीन्यूएबल्स का भी नाम है। सुप्रीम एनर्जी की स्थापना धूत ने की थी। केंद्रीय जांच एजेंसी ने सभी आरोपियों के खिलाफ आपराधिक षड्यंत्र, धोखाधड़ी और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।

पढ़ें :- महिलाओं व बच्चों की सुरक्षा, संरक्षण व हिंसा पर रोकथाम का करेंगे काम

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...