सूडा निदेशक के भाई का बड़ा खुलासा, पूर्व LDA वीसी ने कराये थे अवैध कब्जे

LDA
सूडा निदेशक के भाई का बड़ा खुलासा, पूर्व LDA वीसी ने कराये थे अवैध कब्जे

लखनऊ। सूबे की राजधानी के बहुचर्चित आईएएस और सूडा के निदेशक उमेश सिंह की पत्नी अनीता सिंह की मौत मामले में हर दिन नए खुलासे होने शुरू हो गए हैं। रविवार को उमेश सिंह के चचेरे भाई प्रमोद सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर एलडीए के पूर्व वीसी बीबी सिंह पर कई गंभीर आरोप लगाए। प्रमोद के मुताबिक, उनके भाई उमेश पर मुकदमा दर्ज कराने वाले राजीव ने दयाल ग्रुप के मालिक राजेश सिंह के साथ मिलकर बीबी सिंह की मदद से कई अवैध सम्पत्तियों पर कब्जा कर लिया।

Big Disclosure Of Suda Directors Brother Former Lda Vc Had Illegally Captured The Land :

प्रेस वार्ता के दौरान प्रमोद ने कहा कि देवरिया स्थित गांव में उमेश के ससुर राम इकबाल की पैतृक जमीन है। उनका कोई बेटा न होने के कारण राजीव और राजेश ने उस जमीन पर अवैद रूप से कब्जा कर रखा है। इतना ही नहीं उमेश के परिवार की ओर से सीएम योगी कॉ भेजे गए पत्र में राजीव पर आरोप लगाया गया है कि देवा रोड पर सरकारी जमीन पर कब्जा कर दयाल फार्म हाउस बनाया है।

साथ ही उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि गोमतीनगर में दयाल पैराडाइज होटल के सामने 50 हजार गज पार्क की जमीन पर राजीव ने मकान बनाया है। इस जमीन का आवंटन पूर्व एलडीए वीसी बीबी सिंह ने अवैध तरीके से किया था। बीबी सिंह ने साल 2007-2008 में इस जमीन का लैंड यूज भी बदला था। साल 2004 से 2007 के बीच राजीव और राजेश बीबी सिंह के कमरे में बैठकर भूखंडों का आवंटन करवाते थे। इन दोनों भाइयों ने कई संपत्ति बनाई। राजीव और राजेश ने एडीजी बीके सिंह की सहायता से न केवल लखनऊ बल्कि बनारस में भी झुग्गी झोपड़ी तुड़वा कर ज़मीनों पर कब्जा किया।

बता दें, उमेश सिंह की पत्नी अनीता सिंह की एक सितंबर को संदिग्ध मौत के मामले ने अब तूल पकड़ लिया है। मृतक अनिता सिंह के माता-पिता के साथ ही उनके चचेरे भाई ने उमेश सिंह पर हत्या का आरोप लगाया है। इसके साथ ही, इन लोगों ने उमेश पर कई बेहद गंभीर आरोप लगाए हैं। जिसके बचाव में उमेश के भाई प्रमोद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सारे आरोपों को खारिज कर दिया है।

लखनऊ। सूबे की राजधानी के बहुचर्चित आईएएस और सूडा के निदेशक उमेश सिंह की पत्नी अनीता सिंह की मौत मामले में हर दिन नए खुलासे होने शुरू हो गए हैं। रविवार को उमेश सिंह के चचेरे भाई प्रमोद सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर एलडीए के पूर्व वीसी बीबी सिंह पर कई गंभीर आरोप लगाए। प्रमोद के मुताबिक, उनके भाई उमेश पर मुकदमा दर्ज कराने वाले राजीव ने दयाल ग्रुप के मालिक राजेश सिंह के साथ मिलकर बीबी सिंह की मदद से कई अवैध सम्पत्तियों पर कब्जा कर लिया। प्रेस वार्ता के दौरान प्रमोद ने कहा कि देवरिया स्थित गांव में उमेश के ससुर राम इकबाल की पैतृक जमीन है। उनका कोई बेटा न होने के कारण राजीव और राजेश ने उस जमीन पर अवैद रूप से कब्जा कर रखा है। इतना ही नहीं उमेश के परिवार की ओर से सीएम योगी कॉ भेजे गए पत्र में राजीव पर आरोप लगाया गया है कि देवा रोड पर सरकारी जमीन पर कब्जा कर दयाल फार्म हाउस बनाया है। साथ ही उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि गोमतीनगर में दयाल पैराडाइज होटल के सामने 50 हजार गज पार्क की जमीन पर राजीव ने मकान बनाया है। इस जमीन का आवंटन पूर्व एलडीए वीसी बीबी सिंह ने अवैध तरीके से किया था। बीबी सिंह ने साल 2007-2008 में इस जमीन का लैंड यूज भी बदला था। साल 2004 से 2007 के बीच राजीव और राजेश बीबी सिंह के कमरे में बैठकर भूखंडों का आवंटन करवाते थे। इन दोनों भाइयों ने कई संपत्ति बनाई। राजीव और राजेश ने एडीजी बीके सिंह की सहायता से न केवल लखनऊ बल्कि बनारस में भी झुग्गी झोपड़ी तुड़वा कर ज़मीनों पर कब्जा किया। बता दें, उमेश सिंह की पत्नी अनीता सिंह की एक सितंबर को संदिग्ध मौत के मामले ने अब तूल पकड़ लिया है। मृतक अनिता सिंह के माता-पिता के साथ ही उनके चचेरे भाई ने उमेश सिंह पर हत्या का आरोप लगाया है। इसके साथ ही, इन लोगों ने उमेश पर कई बेहद गंभीर आरोप लगाए हैं। जिसके बचाव में उमेश के भाई प्रमोद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सारे आरोपों को खारिज कर दिया है।