1. हिन्दी समाचार
  2. केरल: हथिनी की मौत पर बड़ा खुलासा, अनानास नहीं नारियल में भरा था विस्फोटक

केरल: हथिनी की मौत पर बड़ा खुलासा, अनानास नहीं नारियल में भरा था विस्फोटक

Big Disclosure On Hathinis Death Coconut Was Filled With Explosives Not Pineapple

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

केरल: केरल में हुई गर्भवती हथिनी की दर्दनाक मौत ने टूल पकड़ लिया है। पर्यावरण मंत्रालय ने मामले पर संज्ञान लेते हुए दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की बात की है। अन इस मामले की जांच में नया खुलासा हुआ है। हथिनी की मौत के मामले में पकड़े गए अभियुक्त ने नया खुलासा किया है। पुलिस के मुताबिक, अभियुक्त ने बताया कि उसने अनानास नहीं, नारियल में पटाखे भरे थे, जिसे खाने से हथिनी जख्मी हुई थी।

पढ़ें :- पढाई का ऐसा जुनून रोज बॉर्डर पार करके स्कूल जाते है बच्चे, साथ रखते हैं पासपोर्ट

मन्नारकाड के वन्यजीव संरक्षण अधिकारी सुनील कुमार ने बताया इस मामले में ​गिरफ्तार आरोपी से पूछताछ की जा रही है। इस पूरे मामले की जांच कर रहे वन्य विभाग के अधिकारी गर्भवती हथिनी की मौत के मामले में पकड़े गए अभियुक्त विल्सन को उस स्थान पर भी ले गए, जहां पर नारियल में विस्फोट भरे गए थे। अभी तक की जांच के मुताबिक अभियुक्त की मदद दो अन्य लोगों ने भी की थी, जो अभी फरार चल रहे हैं।

दरअसल, अभियुक्त रबर की खेती में मज़दूरी का काम करता है। जांच में पता चला है कि यहां के लोग अपने खेत की रक्षा करने के लिए फलों के अंदर विस्फोटक डाल देते हैं, ताकि जंगली जानवरों को डराया जा सके। दरअसल, मलप्पुरम में कुछ लोगों ने एक हथिनी को पटाखों से भरा अनानास खिला दिया था। उसे खाने से उसके मूंह में पटाखें फट गए और उसकी मौत हो गई। जब ये घटना सामने आई तो सोशल मीडिया पर इसके खिलाफ खूब उबाल देखने को मिला। लोग इस घटना को अमानवीय बता रहे हैं। कुछ लोगों ने दोषियों के खिलाफ हत्या का मामला चलाने की बात कही है।

इस दर्दनाक घटना को नीलांबर के सेक्शन फॉरेस्ट अधिकारी मोहन कृष्णन ने सोशल मीडिया पर पहले शेयर किया। उन्होंने लिखा, ‘वह गांव में खाने की तलाश में आई थी। उसे स्वार्थी मानव के बारे में नहीं पता था, जिसे वह देखने जा रही थी। उसे जरूर सोचना चाहिए था कि ये उसे खत्म कर देंगे, क्योंकि उसके पास दो जीवनों का भार था। वह सब पर विश्वास करती थी।जैसे ही अनानास उसने खाया, मुंह में विस्फोट हो गया। उसे जरूर शॉक होना चाहिए था कि उसने खुद के बारे में क्यों नहीं सोचा.। 18 से 20 महीने के भीतर वह बच्चे को जन्म देने वाली थी।’

पढ़ें :- यूपी : 31661 सहायक शिक्षकों की भर्ती का योगी सरकार ने जारी किया आदेश

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...